Homeनारायणपुर : नारायणपुर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया रमन के गोठ कार्यक्रम

Secondary links

Search

नारायणपुर : नारायणपुर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया रमन के गोठ कार्यक्रम

Printer-friendly versionSend to friend

मुख्यमंत्री ने युवाओं के कौशल उन्नयन पर दिया बल
फर्जी कंपनियों से निपटने राज्य सरकार ने बनाया कठोर कानून

नारायणपुर, 10 जुलाई 2016

 मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के आज आकाषवाणी से प्रसारित मासिक रेडियोवार्ता रमन के गोठ कार्यक्रम की 11वीं कड़ी को नारायणपुर जिले के नागरिकों और ग्रामीणांे ने उत्सापूर्वक सुना। प्रदेष के मुखिया डॉ रमनसिंह के इस रेडियोवार्ता को विषेष रूप से जिले के ग्रामीण ईलाकों के ग्रामीणों ने सुनने के लिए उत्सुकता दिखायी। वहीं नगरीय क्षेत्र में भी नागरिकों ने रमन के गोठ कार्यक्रम को ध्यानपूर्वक सुना। इस दौरान धुर माओवादी प्रभावित नारायणपुर जिले के फरसगांव, धौड़ाई सहित खड़कागांव, देवगांव, बिंजली इत्यादि स्थानों में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के मासिक रेडियावार्ता को तन्मयता के साथ सुना। अपने मासिक रेडियोवार्ता में मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने प्रदेश सरकार की युवा नीति की तैयारी और मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना के तहत् चल रहे सकारात्मक प्रयासों के बारे में अवगत कराया। इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजनांतर्गत संचालित प्रयास आवासीय विद्यालयों के बच्चों की सफलता और उत्कृष्ट प्रतिभा प्रदर्शन का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि युवाओं पर ध्यान देने के लिए हमने बहुत पहले से ही प्रयास प्रारंभ कर दिये हैं। छत्तीसगढ़ पहला राज्य है, जो युवाओं की सहभागिता से प्रदेश की नई युवा नीति बनाने जा रही है। मै चाहता हूं कि इसके लिए ग्रामसभा में गहन चर्चा हो और लोग इसकी संपूर्ण प्रक्रिया पर अपने सुझाव दें। डॉ. मनसिंह ने कहा राज्य के युवाओं को राष्ट्रीय स्तर के संस्थानों में शिक्षा ग्रहण करने का अवसर मिले। इस दिशा में राज्य सरकार ने सकारात्मक पहल किया, जिसके फल्स्वरूप राज्य में आईआईटी, एनआईटी, ट्रिपल आईटी, एम्स, आईआईएम, राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय जैसी उच्च शैक्षणिक संस्थायें संचालित है। मुख्यमंत्री ने किसानों से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से लाभान्वित होने का आग्रह किया। वहीं उन्होंने किसानों को कृषि विभाग और कृषि वैज्ञानिकों की सलाह लेकर सही समय पर बोनी करने के साथ ही खाद तथा बीज का समुचित उपयोग करने की सलाह दी। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की जानकारी देते हुए कहा कि इस योजना का ज्यादा से ज्यादा लाभ लेने खरीफ 2016 के लिए इसमें भागीदारी करने का 31 जुलाई तक समय निर्धारित है। उन्होंने किसानों को बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बैंक तथा आदिम जाति सेवा सहकारी समितियों से ऋण लेने वाले किसान सहित अऋणी किसान और बटाईदार किसान भी शामिल हो सकते हैं। यह योजना सिंचिंत और असिंचित धान सहित मक्का, सोयाबीन, मुंगफल्ली, अरहर, मंूगा और उड़द की फसल के लिए है। खरीफ फसल के लिए इस योजना में किसानों को सिर्फ 2 प्रतिशत प्रीमियम देना होगा। शेष प्रीमियम की राशि राज्य और केन्द्र सरकार के द्वारा दी जायेगी। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने नये शिक्षा सत्र के शुरू होने का उल्लेख करते हुए स्कूल-कॉलेजों में दाखिला लेने वाले सभी छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं दी। इस दौरान उन्होंने कहा कि ऐसे बच्चे जो पहली बार स्कूल जा रहे हैं, उनके मन में स्कूल की जो छवि बनेगी, वह जीवनभर उनके काम आयेगी। बच्चों को यह समझ में आना चाहिए की शिक्षा ही उनके जीवन को संवारने का सबसे बड़ा माध्यम है। बच्चों को स्कूल में अच्छा वातावरण मिले, इस दिशा में शिक्षकों और नागरिकों एवं गा्रमीणों को पहल करना होगा। मुख्यमंत्री ने शिक्षा गुणवत्ता की तरफ ध्यान देने पर बल देते हुए कहा कि इससे स्कूल की व्यवस्था सुधरेगी और बच्चों की बुनियाद मजबूत होगी। उन्होंने बच्चों को नियमित रूप से स्कूल भेजने पर जोर देते हुए कहा कि इस काम में जितनी भूमिका शिक्षक-शिक्षिकाओं की है, उतनी ही माता-पिता और अभिभावकों सहित समाज की भी है। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने बालिका शिक्षा की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि शिक्षा ही महिला सशक्तिकरण की बुनियाद है। बेटी हो या बेटा सबको एक बराबर समझना चाहिए। चूंकि पढ़ाई के कारण बेटियांे ने समाज में पुरूषों का बखूबी मुकाबला किया है और बड़ी-बड़ी प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ट सफलता हासिल किया है। इन सफलताओं को दृष्टिगत रखते हुए बेटियांे की शिक्षा पर हमें पूरा ध्यान केन्द्रीत करना जरूरी है। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने कौशल उन्नयन पर बल देते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में हमने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपने को साकार करने के लिए कौशल उन्नयन पर विशेष ध्यान दिया है। राज्य सरकार ने युवाओं के कौशल विकास के लिए उनके रूचि के अनुरूप व्यावसायों और पाठ्यक्रमों में प्रशिक्षण पाने का कानूनी अधिकार दिया है। इस महत्वाकांक्षी योजना के जरिये अब तक छत्तीसगढ़ के 3 लाख युवाओं ने विभिन्न प्रकार के रोजगारपरक ट्रेडों का प्रशिक्षण प्राप्त कर स्वयं को हुनरमंद बना लिया है। उन्होंने युवाओं से कहा कि युवा अपने लायक किसी भी व्यावसाय का प्रशिक्षण हासिल करने के लिए अपने जिले के कलेक्टर से संपर्क कर सकते हैं। अपने मासिक रेडियो वार्ता में मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने जनता को विश्वास दिलाया कि उनकी सरकार फर्जी बैंकिग और फर्जी चिटफंड कंपनियों से निपटने के लिए सजग है। इस दिशा में राज्य सरकार ने कानून भी बनाया है, जिसके तहत् उन वित्तीय संस्थाओं के खिलाफ कड़ी कार्यवाही करने और दोषियों को कड़ी सजा देने का प्रावधान है, जो आम नागरिकों को ठगी कर उनका पैसा हड़प लेते हैं। मुख्यमंत्री ने बताया कि इस कानून के तहत् कलेक्टर को सूचना दिये बगैर कोई भी कपंनी अपना वित्तीय कारोबार नहीं कर सकती। रेडियो वार्ता के जरिये मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं जनता से अपील करूंगा कि वे किसी भी कंपनी में पैसा जमा करने के पहले अच्छी तरह से जांच पड़ताल कर लें। पैसे को दुगुना और तिगुना करने का झांसा देने की कोशिश करने वालों की पूरी पहचान करंे और उनके बारे में कलेक्टर कार्यालय में जाकर पूछताछ कर यह समझ लेवें कि ऐसे व्यक्ति अथवा कंपनी को पैसा देना उचित होगा या नहीं। उन्होने इस दिशा में आम जनता को सदैव सतर्क रहने की समझाईश दी।
    नारायणपुर जिले में रमन के गोठ कार्यक्रम सुनने के पश्चात लाईवलीहुड कॉलेज के प्रशिक्षणार्थी युवा संतोष दुग्गा, हेमंत पटेल, रामप्रसाद, इंद्रकुमार नाग, दुलेश्री नेताम, भारती भोयर, संगीता भूआर्य आदि ने मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश की युवा नीति तैयार करने के लिए युवाओं की सहभागिता सुनिश्चित करने की पहल को सराहनीय निरूपित करते हुए बताया कि इससे युवाओं को सुझाव देने का बेहतर अवसर मिलेगा। वहीं लाईवलीहुड कॉलेज के प्रशिक्षक ठाकुरराम सेन, परमेश्वर भूआर्य और रेखा यादव ने युवाओं को हुनरमंद बनाने के लिए कौशल उन्नयन प्रशिक्षण की दिशा में सरकार की ठोस पहल को युवाओं के लिए लाभकारी बताया। इस दौरान देवगांव पोटाकेबिन में पढ़ने वाले बच्चे  सिंगाराम कोर्राम, मंगलू वड्डे, अनिल नेताम, सुनील दुग्गा, नरेन्द्र गोटा, आशीष यादव आदि ने मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के मासिक रेडियो वार्ता को तन्मयता के साथ सुना और पढ़ाई के लिए उन्हें अभिप्रेरित करने हेतु दी गयी सीख को अमल में लाने की बात कही। इस मौके पर देवगांव के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने कहा कि किसानों, आम जनता और स्कूली बच्चों के हित में जो योजनाएं संचालित हैं। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह रमन के गोठ के जरिये इन योजनाओं-कार्यक्रमों के बारे में नियमित रूप से जनता से बातचीत कर विकास की दिशा में आगे बढ़ने के लिए जो सार्थक प्रयास कर रहे हैं, वह अविस्मरणीय पहल है।

 

Date: 
10 Jul 2016