Homeनारायणपुर : नारायणपुर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया ‘‘रमन के गोठ कार्यक्रम’’ : गुरूनानक जयंती, कार्तिक पूर्णिमा और पुन्नी मेला की दी बधाई

Secondary links

Search

नारायणपुर : नारायणपुर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया ‘‘रमन के गोठ कार्यक्रम’’ : गुरूनानक जयंती, कार्तिक पूर्णिमा और पुन्नी मेला की दी बधाई

Printer-friendly versionSend to friend

मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने बच्चों को बाल दिवस की दी बधाई

नारायणपुर, 13 नवम्बर 2016

मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के आज आकाशवाणी से प्रसारित मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ कार्यक्रम की 15वीं कड़ी को नारायणपुर जिले के नागरिकों और ग्रामीणों ने उत्साहपूर्वक सुना। प्रदेश के मुखिया डॉ रमनसिंह के इस मासिक रेडियो वार्ता को विशेषकर जिले के गा्रमीण ईलाकों के ग्रामीणों ने श्रवण करने उत्सुकता दिखायी। वहीं नगरीय क्षेत्र में भी नागरिकों ने रमन के गोठ कार्यक्रम को ध्यानपूर्वक सुना। इस दौरान धुर माओवादी प्रभावित बेनूर, भाटपाल, धौड़ाई, खड़कागांव, फरसगांव, गरांजी सहित देवगांव इत्यादि स्थानों में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के रेडियो वार्ता को तन्मयता के साथ सुना। अपनी रेडियो वार्ता में मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने प्रदेश की जनता को गुरूनानक जयंती, कार्तिक पूर्णिमा और पुन्नी मेला सहित तीज-त्यौहारों की बधाई दी। मुख्मयंत्री डॉ सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा छत्तीसगढ़ राज्योत्सव में शुरू की गयी सौर सुजला योजना का जिक्र करते हुए कहा कि इस योजना के जरिये आगामी 2 साल में प्रदेश के 51 हजार किसानों को सोलर सिंचाई पंप रियायती दर पर उपलब्ध कराया जायेगा। उन्होंने बताया कि लगभग साढ़े 3 लाख से साढ़े 4 लाख रूपये तक लागत वाले सोलर सिंचाई पपं किसानों को केवल 15 से 30 हजार रूपये में उनकी पात्रता के अनुसार मिलेगा। सौर सुजला योजना से राज्य में करीब ढाई एकड़ रकबा में सिंचाई होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में कुछ ऐसे क्षेत्र हैं, जहां बिजली की पहुंच आसान नहीं होने के साथ ही बिजली पहुंचाना बहुत खर्चीला होने के कारण दूरस्थ ईलाके के किसान भाईयों को सिंचाई सुविधा सुलभ कराने के लिए यह क्रांतिकारी पहल साबित होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सौर ऊर्जा अर्थात सूर्यदेव की कृपा से अन्नदाताओं के खेतों को पानी मिलेगा इससे न तो डीजल पर खर्च होगा और न ही प्रदूषण होगा, इसके साथ ही किसानों को बिजली के बिल की भी चिंता नहीं रहेगी। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा काले धन की विकराल समस्या पर अंकुश लगाने हेतु 500 और एक हजार रूपये के नोटों के प्रचलन को बंद करने संबंधी निर्णय का स्वागत करते हुए कहा कि देश के प्रधानमंत्री ने भारत की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए ऐतिहासिक कदम उठाया है। नई व्यवस्था होने पर स्वाभाविक रूप से आरंभ में कुछ दिनों तक छोटी-मोटी समस्याएं होगी, लेकिन इन समस्याओं के निराकरण के लिए इंतजाम भी किये गये हैं। उन्होंने कहा कि इस फैसले का पुरजोर स्वागत होना चाहिए, क्यांेकि ईमानदार भारत की छवि और निखरेगी, जिसका लाभ हर स्तर पर मिलेगा। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ में प्रदेश के किसानों को राज्य शासन द्वारा समर्थन मूल्य पर 15 नवम्बर से धान खरीदी के लिए की गयी तैयारियों की जानकारी देते बताया कि इस वर्ष समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए करीब 14 लाख 54 हजार किसानों ने पंजीयन कराया है। किसानों की यह संख्या पिछले साल के मुकाबले डेढ़ लाख से भी अधिक है। उन्होंने कहा कि मुझे खुशी है कि दिवाली के बाद धान खरीदी का यह उत्सव शुरू हो रहा है और किसानों का यह इंतजार खत्म हो रहा  है। इस वर्ष राज्य के इतिहास में सबसे ज्यादा किसानों ने सहाकरी समितियों में समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए अपना मन बनाया है और इसके लिए विधिवत् पंजीयन भी कराया है। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ में 14 नवम्बर को देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू की जयंती पर मनाये जाने वाले बाल दिवस का उल्लेख करते हुए उन्होंने पंडित नेहरू को श्रद्धासुमन अर्पित किया। वहीं प्रदेश के बच्चों को बाल दिवस की बधाई देते हुए कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के बच्चों की शिक्षा और उनके भविष्य निर्माण के लिए हरसंभव पहल कर रही है। उन्होंने कहा कि आज के बच्चे ही कल के कर्णधार है। इसलिए उनके भविष्य की बुनियाद को मजबूत करने और वर्तमान में उनके बचपन को बचाने की जिम्मेदारी संपूर्ण समाज की है। उन्होंने कहा कि विज्ञान के क्षेत्र में उल्लेखनीय पहल के लिए राष्ट्रीय इगनाईट अवार्ड दिया जाता है। इस बार उक्त अवार्ड के लिए छत्तीसगढ़ के जिन बच्चों का चयन हुआ है, वे प्रदेश के दूरस्थ दुर्गम ईलाके से आते हैं। राष्ट्रीय स्तर पर इस अवार्ड के लिए 28 बच्चे चुने गये हैं। इनमें से 3 बच्चे हमारे छत्तीसगढ़ प्रदेश के हैं। इन्हें राष्ट्रपति के हाथों पुरस्कार मिला, यह हम सब के लिए गौरव का विषय है। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के 16 साल पूर्ण होने पर तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी को राज्य निर्माता के रूप में स्मरण किया और राज्योत्सव के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी तथा  केन्द्रीय गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह के आगमन और पूरे देश में मनाये जा रहे पंडित दीनदयाल उपाध्यय के जन्म शताब्दी वर्ष की भी चर्चा की। जिले के नारायणपुर ब्लाक अंतर्गत देवगांव, गरांजी और फरसगांव में रमन के गोठ कार्यक्रम का श्रवण करने वाले श्रोताओं ने मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के संदेश को सराहा और उनके द्वारा प्रदेशवासियों को कार्तिक पूर्णिमा, पुन्नी मेला आदि पर्वो के लिए दी गयी बधाई के प्रति कृतज्ञता प्रकट किया। इस मौके पर देवगांव और गरांजी में जहां स्कूली बच्चों मोहन, खेमेश्वर, धनेश, कोमल, नीरज, करन, भूपेन्द्र, विजय, प्रमोद, रूपेश, निखिल, विवेक, माधव, प्रियम, सूरज पटेल, शैलेन्द्र, अरूण, रोहित, नरेन्द्र, रोशन, धनराज आदि ने बाल दिवस के बधाई देने पर हर्ष व्यक्त किया। इस दौरान मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के द्वारा राष्ट्रीय इगनाईट अवार्ड प्राप्त करने वाले बस्तर ईलाके के सुकमा एवं दंतेवाड़ा जिले के बच्चों का जिक्र करने पर शिक्षक श्री हितेन्द्र बघेल, श्री महेन्द्र पुजारी और अन्य शिक्षकों ने कहा कि ऐसे प्रेरक संदेश के जरिये बच्चों को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहन मिलता है। वहीं फरसगांव के उपसरपंच श्री सेनारूराम पोटाई, पंच वंदना कचलाम, राजू गावड़े, श्रीमती सुगन्ती बाई सहित किसान पिलसूराम, धनीराम, दानसाय आदि ने समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के लिए की गयी व्यवस्था पर प्रसन्नता व्यक्त कर किसानों के हितों के प्रति संवेदनशील मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के प्रति कृतज्ञता प्रकट की।

 

Date: 
13 Nov 2016