Homeनारायणपुर : नारायणपुर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया ‘‘रमन के गोठ कार्यक्रम’’ : राज्य के समग्र विकास हेतु 13 साल में किये प्रयासों का किया उल्लेख

Secondary links

Search

नारायणपुर : नारायणपुर जिले में उत्साहपूर्वक सुना गया ‘‘रमन के गोठ कार्यक्रम’’ : राज्य के समग्र विकास हेतु 13 साल में किये प्रयासों का किया उल्लेख

Printer-friendly versionSend to friend

कैशलेस लेन-देन को बढ़ावा देने का किया आग्रह

नारायणपुर, 11 दिसम्बर 

मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह के आज आकाशवाणी से प्रसारित मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम की 16वीं कड़ी को नारायणपुर जिले के नागरिकों और ग्रामीणों ने उत्साहपूर्वक सुना। प्रदेश के मुखिया डॉ. रमनसिंह के इस मासिक रेडियो वार्ता को विशेषकर जिले के गा्रमीण ईलाकों के ग्रामीणों ने श्रवण करने उत्सुकता दिखायी। वहीं नगरीय क्षेत्र में भी नागरिकों ने रमन के गोठ कार्यक्रम को ध्यानपूर्वक सुना। इस दौरान धुर माओवादी प्रभावित खड़कागांव, बेनूर, भाटपाल, धौड़ाई, फरसगांव, गरांजी सहित देवगांव इत्यादि स्थानों में ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के रेडियो वार्ता को तन्मयता के साथ सुना। अपनी रेडियोवार्ता में मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने प्रदेश के समग्र विकास हेतु बीते 13 वर्षों के दौरान किये गये सकारात्मक प्रयासों सहित आम जनता के हित में संचालित जनकल्याणकारी-योजनाओं-कार्यक्रमों को रेखांकित करते हुए कहा कि जनता के अपार सहयोग, समर्थन और मार्गदर्शन से ही यह सब फलीभूत हुआ है। उन्होंने कहा कि आज जब मैं पीछे मुड़कर देखता हूं तो छत्तीसगढ़ में विकास की एक लंबी फेहरिस्त बन चुकी है। छत्तीसगढ़ ने जिन जनकल्याणकारी योजनाओं पर अमल किया है, वे देश के अन्य राज्यों के लिए भी अनुकरणीय है। उन्होंने प्रदेश की जनता के सहयोग और समर्थन के प्रति आभार व्यक्त करते हुए कहा कि जनता ने ही मुझे बड़े निर्णय लेने और उनके क्रियान्वयन करने के लिए ताकत दी है। आने वाले दिनों में जनता के समर्थन और सहयोग से छत्तीसगढ़ को विकास की एक नई ऊंचाईयों पर ले जाने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार कटिबद्ध है। मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह ने अपने रेडियो वार्ता में राज्य सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना, ब्याजरहित कृषि ऋण की सुलभता, मुख्यमंत्री बाल ह्दय सुरक्षा योजना, संजीवनी 108 एक्सप्रेस, महतारी 102 एक्सप्रेस के अलावा तेन्दूपत्ता संग्राहकों के लिए चरणपादुका वितरण तथा बोनस राशि प्रदाय, सरस्वती सायकल योजना, उच्च शिक्षा के लिए 1 प्रतिशत दर पर शिक्षा ऋण की सुलभता, कन्यादान योजना, मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी इत्यादि का उल्लेख करते हुए कहा कि इन योजनाओं से प्रदेश की आम जनता को लाभान्वित करने के लिए सकारात्मक पहल किया जा रहा है। कॅालेजों में पढ़ाई करने वाली बेटियों को निःशुल्क शिक्षा दी जा रही है। वहीं अब इंजीनियरिंग और पॉलटेक्निक में अध्ययनरत् बेटियों के लिए शिक्षण शुल्क माफ किया गया है। सरस्वती सायकल योजना के जरिये बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने में अभूतपूर्व सफलता हासिल हुई है। इससे जहां बेटियों में पढ़ाई करने के प्रति ललक बढ़ी है। वहीं माता-पिता और अभिभावकों के साथ ही समाज में बालिका शिक्षा के प्रति एक नई जागरूकता आयी है। मुख्यमंत्री डॉ. रमनसिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना के जरिये गरीब परिवारों की बेटियों को दाम्पत्य सूत्र में बंधने के लिए जो मदद दी जा रही है। उससे निर्धन परिवारों को अपने बेटियों के विवाह की चिंता से मुक्ति मिली है। उन्होंने बुजुर्गों के लिए एक बेटे का फर्ज निभाने का सकारात्मक पहल को साझा करते हुए कहा कि अभी तक करीब 2 लाख वरिष्ट नागरिकों को मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजनांतर्गत देश के विभिन्न तीर्थस्थलों का तीर्थयात्रा करने का मौका मिला है। उन्होंने कौशल विकास योजना का जिक्र करते हुए कहा कि प्रदेश के सभी 27 जिलों में युवाओं के कौशल उन्नयन के लिए लाईवलीहुड कॉलेज खोले गये हैं, जिससे अब कौशल उन्नयन प्रशिक्षित युवाओं की संख्या में करीब 15 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य निर्माण के दौरान प्रदेश में राष्ट्रीय स्तर का कोई भी उच्च शैक्षणिक संस्थान नहीं था। आज प्रदेश में आईआईटी, एनआईटी, एम्स, ट्रिपल आईटी, नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी, केन्द्रीय विश्वविद्यालय में युवाओं को पढ़ने के साथ ही दक्ष होने का अवसर मिल रहा है। प्रदेश में चिकित्सा महविद्यालयों के जरिये जहां विशेषज्ञ चिकित्सक तैयार हो रहे हैं, वहीं इंजीनियरिंग कॉलेजों के माध्यम से युवाओं को इंजीनियर बनने का मौका मिल रहा है। यह सब छत्तीसगढ़ के युवाओं को आधुनिक भारत के साथ कदम मिलाने के लिए एक नया अवसर है। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा आरंभ किये गये प्रमुख योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री उज्जवला योजनांतर्गत राज्य के 25 लाख बहनों को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन प्रदान किया जायेगा। वहीं प्रधानमंत्री आवास योजनांतर्गत हरेक गरीब परिवार को आवास सुलभ कराने के लिए करीब 8 हजार करोड़ रूपये खर्च किये जायेंगे। सौर सुजला योजनांतर्गत अंदरूनी ईलाके के किसानों को सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिए 3 से 5 हार्स पॉवर के सोलर सिंचाई पंप 7 हजार से 20 हजार रूपये की अंशदान पर उपलब्ध कराया जा रहा है। इस योजना के जरिये किसानों को सक्षम बनने का अवसर मिलेगा। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा कैशलेस भारत बनाने की पहल को सराहते हुए कहा कि इससे भ्रष्टाचार, आंतकवाद, नक्सलवाद, मंहगाई जैसी बड़ी समस्याओं से निजात मिलेगी। उन्होंने विमुद्रीकरण के विकल्प के रूप में नकदी रहित लेन-देन के लिए छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा प्रदेश की जनता को उपलब्ध कराये जाने वाली विभिन्न सुविधाओं पर भी प्रकाश डाला। इसके अलावा उन्होंने बताया कि जब व्यक्तिगत रूप से नकद राशि का लेनदेन नहीं करेंगे और जब सभी लोग कार्ड या ई-पेंमेट के माध्यम से लेन-देन करेंगे तब अपनी जेब में नकदी लेकर घूमने की समस्या समाप्त हो जायेगी, और नकदीरहित समाज का निर्माण होगा। जिले के नारायणपुर ब्लाक अंतर्गत खड़कागांव, देवगांव, गरांजी और फरसगांव में ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम का श्रवण करने वाले स्त्रोताओं ने मुख्यमंत्री के संबोधन को सराहा और राज्य सरकार द्वारा प्रदेश की जनता के हित में संचालित जनकल्याणकारी योजनाओं को प्रदेश के समग्र विकास में ऐतिहासिक और अभूतपूर्व बताया। इस मौके पर खड़कागांव के ग्राम पटेल गिंजूराम करंगा सहित ग्रामीण जुनुराम कचलाम, श्यामसुंदर भारद्वाज, परनसिंह नेताम आदि ने मुख्यमंत्री खाद्यान्न सहायता योजना, ब्याजरहित कृषि ऋण की सुलभता, समर्थन मूल्य पर धान खरीदी, मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना, तेन्दूपत्ता संग्राहकों को चरणपादुका और बोनस वितरण को सराहनीय पहल निरूपित करते हुए बालिका शिक्षा, कन्यादान योजना, सौर सुजला योजना सहित अन्य जनहितकारी योजनाओं के जरिये प्रदेश की जनता को मदद देने के लिए मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के प्रति कृतज्ञता प्रकट की है।

Date: 
11 Dec 2016