Homeबलरामपुर : ग्रामीणों ने सुनी रमन का गोठ : कृषक कृषि विशेषज्ञ की सलाह लेकर समय पर बोनी करें: मुख्यमंत्री

Secondary links

Search

बलरामपुर : ग्रामीणों ने सुनी रमन का गोठ : कृषक कृषि विशेषज्ञ की सलाह लेकर समय पर बोनी करें: मुख्यमंत्री

Printer-friendly versionSend to friend

बलरामपुर 10 जुलाई 2016

प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के आकाशवाणी से प्रसारित होने वाले रमन के गोठ के ग्यारहवीं कड़ी का प्रसारण को जिले के सभी विकासखण्ड में सुना गया। विकासखण्ड बलरामपुर के ग्राम पंचायत तातापानी के ग्रामीणों ने ग्राम पंचायत भवन में एकत्रित होकर सुना। गांव की महिला श्रीमती सरोजनी एक्का एवं श्रीमती सरिता ने अपनी प्रक्रिया देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा शिक्षा गुणवत्ता पर विशेष ध्यान दिये जाने से ग्रामीण बच्चों में शिक्षा के प्रति उत्साह जागी है। साथ ही उन्होंने कहा कि नारी सशक्तिकरण से ग्रामीण महिलाओं में भी जागरूकता आई है।
मासिक रेडियो वार्ता में डॉ. रमन सिंह ने किसानों के लिए बारिश के इस मौसम के मंगलमय होने की कामना की। उन्होंने किसानों से आग्रह किया कि वे कृषि विभाग और कृषि विशेषज्ञों की सलाह लेकर सही समय पर बोनी करें और खाद तथा बीज भी सही अनुपात में डालें। मुख्यमंत्री ने किसानों से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का भी लाभ उठाने की अपील की। उन्होंने बताया कि इस योजना के बारे में जानने और खरीफ 2016 के लिए उसमें भागीदारी करने का यही समय है। किसान यह ध्यान रखें कि इस योजना मंे शामिल होने की अंतिम तारीख 31 जुलाई है। उन्होेंने बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बैंक तथा सोसायटी से ऋण लेने वाले किसान और ऋण नहीं लेने वाले किसान तथा बटाईदार किसान भी शामिल हो सकते हैं। यह योजना सिंचित और असिंचित धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, अरहर, मूंग और उड़द की फसल के लिए है। खरीफ फसल के लिए इस योजना में किसानों को सिर्फ दो प्रतिशत का प्रीमियम देना होगा। उससे ज्यादा जो भी प्रीमियम होगा उसकी राशि राज्य और केन्द्र सरकार द्वारा दी जायेगी। नुकसान की भरपाई सिंचित-असिंचित फसल के अुनसार 70 से 90 प्रतिशत तक की जायेगी और मुआवजा भी निर्धारत समय में मिलेगा।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि राज्य के किसानों को खेती के लिए पांच लाख रूपये तक ब्याज मुक्त अल्पकालीन कृषि ऋण देने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा ब्याज अनुदान की पात्रता के लिए प्रति हेक्टेयर असिंचित भूमि पर 20 हजार रूपये और सिंचित भूमि पर 25 हजार रूपये की पूर्व प्रचलित ऋण सीमा को समाप्त कर दिया गया है। डॉ. सिंह ने उम्मीद जताई है कि राज्य सरकार के ये दोनों फैसले किसानों को आर्थिक रूप से सक्षम बनायेंगे।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने विद्यार्थियों को शिक्षा सत्र प्रारंभ होने की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि शिक्षा ही बच्चों के जीवन को सवारने का अच्छा माध्यम है। शिक्षा की गुणवत्ता पर ध्यान दिया जायेगा तो व्यवस्था में लगातार सुधार होगी एवं बच्चों की नींव मजबूत होगी। बालिका शिक्षा संबंध में कहा कि शिक्षा ही नारी सशक्तिकरण की बुनियाद है। बेटी हो या बेटा सबको एक बराबर समझना चाहिए। मुख्यमंत्री रमन के गोठ के माध्यम से लोगों को चिटफंड कंपनी से बचने की सलाह दी।
मुख्यमंत्री ने प्रदेश के युवाओं से कहा छत्तीसगढ़ में हमने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपनों को पूरा करने के लिए कौशल उन्नयन पर विशेष जोर दिया है। राज्य सरकार योजना ने युवाओं के कौशल विकास के लिए मनपसंद व्यवसायों में प्रशिक्षण पाने का कानूनी अधिकारी दिया है। इस योजना के तहत अब तक छत्तीसगढ़ के तीन लाख युवाओं ने विभिन्न प्रकार के रोजगारमूलक काम-काज का प्रशिक्षण प्राप्त कर स्वयं को हुंनरमंद बना लिया है। डॉ. रमन सिंह ने कहा कि प्रदेश के युवा अपने लायक किसी भी व्यवसाय का प्रशिक्षण हासिल करने के लिए अपने जिले कलेक्टर से सम्पर्क करें। मुख्यमंत्री ने आज की अपनी रेडियो वार्ता में प्रदेशवासियों को गुरूपूर्णिमा रथयात्रा ईद-उल-फितर, डॉ. खुबचन्द बघेल की बधाई और शुभकामनाएं दी। तातापनी के कार्यक्रम में ग्राम पंचायत के सरपंच श्री बृजलाल लकड़ा, सचिव श्री रतन सिंह व वार्ड पंच श्री नागेश्वर एक्का, प्रेरक श्रीमती गायत्री गुप्ता सहित ग्रामीणजन उपस्थित थे।


समाचार क्रमांक 462/2016
 

Date: 
10 Jul 2016