Homeबलरामपुर : ‘‘रमन के गोठ’’ की पन्द्रहवीं कड़ी का प्रसारण को उत्साह से सुना गया : पांच सौ एवं एक हजार के नोट बंद करने से कालाधन, भ्रष्टाचार और आंतकवाद को रोकने में सहायक होगा

Secondary links

Search

बलरामपुर : ‘‘रमन के गोठ’’ की पन्द्रहवीं कड़ी का प्रसारण को उत्साह से सुना गया : पांच सौ एवं एक हजार के नोट बंद करने से कालाधन, भ्रष्टाचार और आंतकवाद को रोकने में सहायक होगा

Printer-friendly versionSend to friend

बलरामपुर 13 नवम्बर 2016

प्रदेष के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के मासिक रेडियोवार्ता ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम को लाईव्लीहुड कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने बड़े उत्साह से सुना और शासन के जनकल्याणकारी कार्य एवं योजनाओं की सराहना की।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी मासिक रेडियोवार्ता ‘‘रमन के गोठ’’ की पन्द्रहवीं कड़ी में बताया कि 15 नवम्बर से समर्थन मूल्य पर धान खरीदी की व्यवस्था की गई है और इस वर्ष 14 लाख 54 हजार किसानों ने धान बेचने के लिए पंजीयन कराया हैं जो पिछले वर्ष के मुकाबले डेढ़ लाख से अधिक है। इस वर्ष समर्थन मूल्य पर धान खरीदी 15 नवम्बर से शुरू होकर 31 जनवरी 2017 तक चलेगी। मोटा धान 1470 रूपये और पतला धान 1510 रूपये प्रति क्ंिवटल की दर से खरीदी जायेगी। प्रत्येक किसान 15 क्ंिवटल प्रति एकड़ की दर से धान बेच सकेंगे। उन्होंने धान खरीदी में तैनात अधिकारियांे एवं कर्मचारियों से अपील की है कि वे किसानों के साथ अच्छा और सम्मानजन व्यवहार करें। मुख्यमंत्री ने बताया कि सौर सुजला योजना के तहत 2 साल में प्रदेश के 51 हजार किसानों को सौर ऊर्जा से चलित सिंचाई पम्प 15 से 20 हजार रूपये में उपलब्ध कराये जायेंगें जिनकी लागत 3.50 लाख से 4.50 लाख रूपये है। मुख्यमंत्री ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म-शताब्दी वर्ष के संदर्भ में एकात्म-मानववाद और अंत्योदय के सिद्धांतो का उल्लेख करते हुए कहा कि छत्तीगसढ़ में हमने अंत्योदय को राज्य की तमाम नीतियों और योजनाओं का मूल-मंत्र बनाया है। मुख्यमंत्री ने गुरूनानक जयंती, कार्तिक पूर्णिमा और पुन्नी मेला सहित सभी तीज-त्यौहारी की शुभकामनाएं दी।  
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने ‘‘रमन के गोठ’’ की मासिक रेडियोवार्ता कार्यक्रम के माध्यम से राज्य शासन द्वारा संचालित विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देते हुए कहा कि देष के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा गत 8 नवम्बर की रात्रि से 500 और 1000 हजार रूपये के नोट का प्रचलन बंद कर दिया गया है। इस निर्णय से समाज के छोटे लोगों को घबराने की आवश्यकता नहीं है। वे अपना 500 एवं 1000 रूपये के नोट 30 दिसम्बर 2016 तक बैंको में जाकर बदल सकते हैं। उन्होंने कहा कि जनसामान्य की सुविधा के लिए बैंको के माध्यम से नगद भुगतान की व्यवस्था की गई है और अवकाश के दिन 12 एवं 13 नवम्बर को भी बैंक खुले रखे गये हैं। इस अवसर में लाव्हलीहुड कॉलेज के षिक्षक एवं छात्र-छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित थे।
समाचार क्रमांक/825/2016

Date: 
13 Nov 2016