Homeबलौदा बाजार-भाटापारा : राज्य के विकास के लिये केन्द्र स्तर पर की जा रही पहल - डॉ. रमन सिंह

Secondary links

Search

बलौदा बाजार-भाटापारा : राज्य के विकास के लिये केन्द्र स्तर पर की जा रही पहल - डॉ. रमन सिंह

Printer-friendly versionSend to friend

पूर्वजों के आर्शीवाद से मिलती है सुख समृद्धि

बलौदा बाजार-भाटापारा, 11 अक्टूबर 2015

प्रत्येक माह के दूसरे रविवार को आयोजित होने वाले अभिनव कार्यक्रम रमन के गोठ का प्रसारण रविवार को प्रातः 10.45 से 11 बजे के मध्य आकाशवाणी के माध्यम से किया गया। कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने प्रदेश की जनता को संबोधित किया। मुख्यमंत्री डॉ सिंह ने प्रदेश के पुरातात्विक धरोहरों के संरक्षण हेतु विशेष पहल किये जाने की जानकारी दी। उन्होंने छत्तीसगढ़ राज्य में सड़क एवं रेल लाईन के विस्तार के संबंध में केन्द्र स्तर पर पहल करने, मनरेगा के तहत रोजगार उपलब्ध कराने एवं राज्य के सभी जिलाधीशों को सूखा ग्रस्त क्षेत्रों का निरीक्षण एवं सर्वे कर किसानों के हित में कार्य करने के निर्देश दिये जाने की जानकारी दी। उन्होंने पितृपक्ष, नवरात्रि, दशहरा की आमजनता को बधाई देते हुए कहा कि पूर्वजों के आशीर्वाद से ही सुख, शांति एवं जीवन में समृद्धि प्राप्त होती है। उन्होंने प्रदेश के महापुरूषों के संबंध में चर्चा करते हुए उनके बताये रास्ते पर चलने का आह्वान किया।
    जिला मुख्यालय के उपजेल बलौदा बाजार में रमन के गोठ कार्यक्रम को बंदियों ने जेल अधीक्षक डी सी ध्रुव की उपस्थिति में टीवी के माध्यम से सुना। वहीं नगर पालिका बलौदा बाजार में जनप्रतिनिधि, डिप्टी कलेक्टर श्री शैलाभ साहू, मुख्य नगर पालिका अधिकारी सहित कर्मचारियांे ने उक्त कार्यक्रम का श्रवण किया। कसडोल के जनपद पंचायत कार्यालय में जनप्रतिनिधि, अधिकारी, कर्मचारी, विभिन्न ग्रामों में चमरू कैवर्त्य, रथराम कैवर्त्य, वर्षु जायसवाल, नरेश जायसवाल, मुरारी मिश्रा सहित ग्रामीणों ने, भाटापारा विकासखंड के ग्राम देवरी एवं गुडे़रिया में ग्रामीणों ने रमन के गोठ कार्यक्रम का श्रवण किया। वहीं जिले के साहित्यकार एवं साहित्य प्रेमी यू.के. मिश्रा, संदीप पाण्डेय, रामाधार पटेल, एस.पी पाण्डेय, टेकराम साहू, सेवकराम साहू, रामूराम साहू ने रमन के गोठ कार्यक्रम का श्रवण किया। जिस पर यू.के. मिश्रा ने कहा कि जमीनी स्तर पर सरकार द्वारा किये गये कार्य से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को लाभ मिलेगा। यह पहल जनप्रतिनिधियों के लिये प्रेरणा स्रोत का कार्य करेगा। इस पहल से वर्तमान के साथ-साथ भविष्य में छत्तीसगढ़ की विकास में सफलता मिलने की प्रबल सम्भावना है। संदीप पाण्डेय ने कहा कि रमन के गोठ लोकतांत्रिक परम्परा का निर्वहन करते हुए मुख्यमंत्री की जनता से सीधा संवाद है। कार्यक्रम के माध्यम से आमजनता को राज्य सरकार की योजनाओं की जानकारी मिल रही है। शिक्षा और स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता बनाना मुख्यमंत्री की संवेदना को व्यक्त करता है। रामाधार पटेल ने कहा कि किसानों के डीजल पम्प के अनुदान की घोषणा किसानों का फायदा पहुंचायेगा। जरूरतमंदों के लिये पंचायत में खाद्यान्न की उपलब्धता बेहतरीन है। छत्तीसगढ़ की पुरूषों को याद करना छत्तीसगढ़ की परम्परा का सम्मान है। करूणाशंकर तिवारी ने कहा कि आमजनता को शासकीय योजनाओं की जानकारी संवाद के माध्यम से देना अच्छी पहल है किन्तु संवाद के जरियें व्यवस्था में भी बदलाव लाना चाहिए। आमजनों को मुख्यमंत्री से उम्मीद है कि उनके जीवन में बेहतर स्थिति लायेगा। नकुल साहू ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा रमन के गोठ कार्यक्रम के माध्यम से छत्तीसगढ़ की जनता से संवाद करना एवं उनके प्रतिक्रिया पर विचार करना सराहनीय कदम है। उनके द्वारा कार्यक्रम के माध्यम से राज्य में संचालित योजनाओं की जानकारी दी जा रही है जिससे आमजनता को योजनाओं से लाभ मिलेगा। भविष्य में मुख्यमंत्री को राज्य स्तरीय टीम बनाकर जिलों में संचालित योजनाओं के बारे आमजनों से वस्तु स्थिति लेने पर आमजनों को और अधिक लाभ होगा। टेकराम साहू ने कहा किसानों और युवाओं को लाभ पहुंचाने का प्रयास सरकार का प्रशंसनीय कार्य है। तीज-त्यौहार का बधाई देना छत्तीसगढ़ की संस्कृति का सम्मान है। सेवकराम साहू ने कहा कि कार्यक्रम बहुत अच्छा रहा। मुख्यमंत्री की समीक्षा में संस्कृति और शासकीय योजनाओं का वर्णन प्रशंसनीय है। रामुराम साहू ने छत्तीसगढ़ बोली में कविता के माध्यम से कहा कि सुनऊ-सुनऊ जी रमन के गोठ, छत्तीसगढ़ ल बनाव थे पोठ। मुख्यमंत्री द्वारा छत्तीसगढ़ की सामाजिक एवं संस्कृति व्यवस्था एवं आस्था एवं विश्वास को मजबूत बनाना प्रशंसनीय है। एस पी पाडेय ने कहा कि मुख्यमंत्री के गोठ से जनता के बीच घनिष्ठता स्थापित हो रहा है। 93 तहसीलों को सूखाग्रस्त घोषित करने एवं राजस्व वसूली रोकने से किसानों को राहत मिलेगी। मनरेगा में 150 दिन के काम से गरीबों को राहत मिलेगी। राज्य शासन द्वारा स्वास्थ्य, शिक्षा, स्वच्छता हेतु जो कार्य कर रही है वह प्रशंसनीय है।


क्रमांक 26/2015
 

Date: 
11 Oct 2015