Homeबालोद : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की ग्यारहवीं कड़ी : मुख्यमंत्री ने किसानों से फसल बीमा योजना का लाभ लेने किया आव्हान : बेटियों की शिक्षा पर समान रूप से ध्यान दें - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह

Secondary links

Search

बालोद : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की ग्यारहवीं कड़ी : मुख्यमंत्री ने किसानों से फसल बीमा योजना का लाभ लेने किया आव्हान : बेटियों की शिक्षा पर समान रूप से ध्यान दें - मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह

Printer-friendly versionSend to friend

कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए कानून बनाने
वाला छत्तीसगढ़ पहला राज्य - मुख्यमंत्री
बालोद जिले में उत्साह से सुना गया ‘‘रमन के गोठ‘‘

बालोद, 10 जुलाई 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह आज आकाशवाणी से प्रसारित ‘‘रमन के गोठ‘‘ कार्यक्रम में किसानों को बारिश का मौसम उनके लिए मंगलदायी होने की शुभकामनाएॅ देकर प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का लाभ लेने आव्हान किया। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के बारे में जानने और खरीफ फसल 2016 के लिए उसमें भागीदारी करने का सही समय है। खरीफ फसल 2016 के लिए फसल बीमा कराने की अंतिम तिथि 31 जुलाई है। इस योजना में बैंक तथा सोसायटी से ऋण लेने वाले किसान तथा ऋण नहीं लेने वाले किसान तथा बटाईदार किसान भी शामिल हो सकते हैं। यह योजना सिंचित और असिंचित धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, अरहर, मूंग और उड़द की फसल के लिए है। खरीफ फसल के लिए किसान भाईयों को दो प्रतिशत की राशि प्रीमियम के रूप में देना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने दो अहम फैसला लेकर अल्पकालीन कृृषि ऋण की सीमा पॉच लाख रूपए तक बढ़ा दी है। अब किसान भाई पॉच लाख रूपए तक का ब्याज मुक्त कृृषि ऋण लेकर अपनी खेती को ज्यादा फायदे मंद बना सकते हैं। इसके अलावा ब्याज अनुदान की पात्रता के लिए प्रति हेक्टेयर असिंचित भूमि पर बीस हजार रूपए की और सिंचित भूमि पर पच्चीस हजार रूपए की पूर्व प्रचलित ऋण सीमा को समाप्त कर दिया है। उन्होंने कहा कि ये दोनो फैसले किसान भाईयों को आर्थिक रूप से सक्षम बनाएंगे।
मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा कि वर्षा के साथ-साथ नया शिक्षा सत्र प्रारंभ हो चुका है। उन्होंने गुणवत्तापूर्ण शिक्षा पर जोर देते हुए कहा कि पालक, बेटे और बेटियों को शिक्षा और विकास के समान अवसर उपलब्ध कराएॅ। पढ़ाई के कारण बेटियों ने समाज में पुरूषों का बखूबी मुकाबला किया है और बड़ी-बड़ी प्रतियोगिताओं में अच्छा स्थान हासिल करने में सफल हुई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपनों को पूरा करने के लिए कौशल उन्नयन पर जोर दिया गया है। छत्तीसगढ़ देश का पहला राज्य है, जिसने कौशल विकास के प्रशिक्षण के लिए कानून बनाया है। उन्होंने कहा कि अपेक्षाकृृत कम पढ़ाई कर पाने वाले युवाओं को भी रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध कराने के लिए प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना के तहत कौशल उन्नयन का प्रशिक्षण दिया जाता है।
मुख्यमंत्री ने चिटफंड कम्पनियोें द्वारा राज्य के भोले-भाले लोगों को अधिक पैसा वापसी का लालच देकर पैसा जमा कराने और धोखा देकर भाग जाने की शिकायत पर कहा कि ऐसा धोखाधड़ी रोकने कानून बनाया गया है, जिसके तहत लोगों को ठगकर पैसा लेने वाली संस्थाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और कठोर सजा देने का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि इस कानून के अंतर्गत प्रत्येक जिले में कलेक्टर को सूचना दिए बिना कोई भी कम्पनी ऐसा कोई कारोबार नहीं कर सकती। मुख्यमंत्री ने बताया कि धोखाधड़ी करने वाली कम्पनियों के खिलाफ विगत चार वर्षों में 199 एफआईआर दर्ज कर 333 लोगों के विरूद्ध कार्रवाई की गई है।
श्रोताओं की प्रतिक्रिया:-
    ‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनकर नगर पालिका परिषद बालोद के पार्षद श्री कमलेश सोनी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना और कौशल उन्नयन योजना की जानकारी दी, निश्चित ही इससे किसानों और युवाओं को लाभ मिलेगा। पूर्व पार्षद श्री दीपक देवांगन ने रमन के गोठ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री द्वारा दी गई जानकारी को उपयोगी और प्रेरणादायी बताया। बालोद के श्री चन्द्रप्रकाश निर्मलकर ने कहा कि ‘‘रमन के गोठ‘‘ से मिली जानकारी एवं सुझाव प्रेरणादायक है। पूरी जानकारी के बिना हमें किसी भी कम्पनी में पैसा जमा नहीं करने सावधान किया गया। प्री.मैट्रिक अनुसूचित जाति बालक छात्रावास के कक्षा नवमीं के छात्र खोमेश्वर कुमार और परमानंद ने कहा कि मुख्यमंत्री की शिक्षा के बारे में कही गई बातें प्रेरणादायक लगी।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के लोकप्रिय मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘‘रमन के गोठ‘‘ की ग्यारहवीं कड़ी के प्रसारण को आज यहॉ स्थानीय नवीन टाउन हॉल में सामूहिक रूप से बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधियों, नागरिकों, प्रशासनिक अधिकारियों-कर्मचारियों, श्रमिकों, महिलाओं सहित सभी वर्ग के लोगों ने उत्साहपूर्वक ध्यान से सुना और कार्यक्रम की सराहना की। इस अवसर पर कलेक्टर श्री राजेश सिंह राणा, अपर कलेक्टर श्री डी.एस.सोरी, वन मण्डल अधिकारी सुश्री स्टायलो मण्डावी, जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्रीमती पद्मिनी भोई साहू, पार्षद श्री कमलेश सोनी, श्री विमल साहू, आदि ने भी कार्यक्रम का श्रवण किया।
क्रमांक/293/चंद्राकर

Date: 
10 Jul 2016