Homeबालोद : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 19वीं कड़ी : होली पर्व के माध्यम से पर्यावरण को बचाने का भी संदेश दिया जाना चाहिए - मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह

Secondary links

Search

बालोद : आकाशवाणी से ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 19वीं कड़ी : होली पर्व के माध्यम से पर्यावरण को बचाने का भी संदेश दिया जाना चाहिए - मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह

Printer-friendly versionSend to friend

मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को दी होली पर्व की शुभकामनाएॅ
बालोद जिले में उत्साह से सुना गया ‘‘रमन के गोठ‘‘

बालोद, 12 मार्च 2017

मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने आज आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ में होली पर्व पर प्रदेशवासियों को अपनी बधाई और शुभकामनाएॅ दी। उन्होंने कहा कि होली हमारा बहुत बड़ा त्यौहार है, जो एक ओर बुराई का प्रतीक होलिका के दहन और अच्छाईयों के प्रतीक भक्त प्रहलाद के आग में जलने से बच जाने की घटना के माध्यम से अच्छाईयों की जीत का संदेश देता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि होलिका दहन के लिए पेड़ों को नहीं काटना चाहिए। होली के लिए लकड़ी नही, बल्कि कंडा, कचरा या ऐसी चीजों का दहन करना चाहिए जो खराब है। इस तरह हरियाली, प्राकृतिक संसाधनो व पर्यावरण को बचाने का संदेश भी इस पर्व के माध्यम से दिया जाना चाहिए।
मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के लोकप्रिय मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 19वीं कड़ी के प्रसारण को आज यहॉ नवीन टाउन हॉल में सामूहिक रूप से बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिकों, प्रशासनिक अधिकारियों, कर्मचारियों सहित सभी वर्ग के लोगों ने उत्साहपूर्वक सुना और कार्यक्रम की सराहना की। इस अवसर पर कलेक्टर श्री राजेश सिंह राणा, अपर कलेक्टर श्री ए.के.धृृतलहरे, एस.डी.एम. श्री हरेश मण्डावी, डिप्टी कलेक्टर श्री जी.एस.नाग, पार्षद श्री कमलेश सोनी, श्री रिच्छेद मोहन कलिहारी और एल्डरमेन श्री नरेन्द्र सोनवानी ने भी कार्यक्रम का श्रवण किया।
‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनकर पार्षद श्री कमलेश सोनी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने होली पर्व पर लकड़ी और पानी का अपव्यय रोकने की अपील की है जो प्रेरणादायी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि होली त्यौहार प्रकृृति के खूबसूरत रंगो का आनंद लेने का है, यह त्यौहार आत्मीयता और प्रेम का है, होली पर्व सौहार्द्रपूर्वक वातावरण में मनाया जाना चाहिए। मुख्यमंत्री ने अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस का उल्लेख कर नारी स्वरूप में विराजमान जननी, शक्ति, करूणा, दया और साहस को नमन किया। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में चारों दिशाओं में देवियों का वास है। मॉ दंतेश्वरी, मॉ बम्लेश्वरी, मॉ चन्द्रहासिनी, मॉ महामाया और हर स्वरूप में आदि शक्ति देवियों के शक्तिपीठ और आस्था केन्द्रों की वजह से प्रदेश में नारी शक्ति को सम्मान देने की एक अटूट परम्परा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि माता कौशल्या से मिनी माता तक और आज के युग में फूलबासन, तीजनबाई, शमशाद बेगम से लेकर रेणुका यादव तक हमारी शक्ति और श्रद्धा का प्रतीक है।
    पार्षद श्री रिच्छेद मोहन कलिहारी ने कहा कि रमन के गोठ सुनकर शासन की कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी मिलती है। ‘‘स्काई‘‘ योजना के माध्यम से 39 लाख ग्रामीणों, शहरी क्षेत्रों के तीन लाख परिवारों और महाविद्यालय के तीन लाख विद्यार्थियों को स्मार्ट फोन और सिम दिए जाएंगे, यह राज्य षासन की अच्छी पहल है। इसी प्रकार पहले चरण में प्रदेश के 11 जिलों में शुरू होने वाली ‘‘डायल 112‘‘ योजना किसी भी दुर्घटना के समय घायल या संकटग्रस्त व्यक्ति की मदद के लिए यह कारगर सिद्ध होगी। ग्राम दुबचेरा के श्री टिकेन्द्र हरदेल ने रमन के गोठ सुनकर कहा कि मुख्यमंत्री ने लोक सुराज अभियान की महत्ता की जानकारी दी, वह उसे बहुत अच्छा लगा।


क्रमांक/1151


 

Date: 
12 Mar 2017