Homeबालोद : ‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनने उमड़ी भीड़

Secondary links

Search

बालोद : ‘‘रमन के गोठ‘‘ सुनने उमड़ी भीड़

Printer-friendly versionSend to friend

बालोद, 13 दिसम्बर 2015


    मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के आकाशवाणी से प्रसारित मासिक रेडियो कार्यक्रम  ‘‘रमन के गोठ‘‘ की चौथी कड़ी को सुनने आज स्थानीय टाउन हॉल में भीड़ उमड़ पड़ी। बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधियों, नागरिकों, श्रमिकों, किसानों, छात्र-छात्राओं सहित सभी वर्ग के सैंकड़ों लोगों ने उत्साहपूर्वक ध्यान से सुना और कार्यक्रम की सराहना की।
    शहर से लेकर गॉव तक आज भी जगह-जगह लोगों ने उत्साह के साथ सामूहिक रूप से मुख्यमंत्री के रेडियो वार्ता को सुनकर अपनी प्रतिक्रियाएं व्यक्त की। नगर पालिका परिषद बालोद के पार्षद श्री कमलेश सोनी ने प्रसन्नतापूर्वक कहा कि ‘‘रमन के गोठ‘‘ जनता के लिए महत्वपूर्ण और सराहनीय पहल है। मुख्यमंत्री ने गरीब मजदूरों की चिंता की है। प्र्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के तहत छत्तीसगढ़ में पंजीकृत दस लाख निर्माण श्रमिकों को बीमा सुरक्षा का लाभ मिलने की बात मुख्यमंत्री ने कही, यह बहुत ही सराहनीय है। नगर के साहित्यकार श्री अरमान अश्क ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने ‘‘रमन के गोठ‘‘ के माध्यम से प्रदेशभर के बुजुर्गों का दिल जीत लिया यह कहकर कि मैं भी आपके बेटे की तरह हूॅ, इसलिए अपने बुजुर्गों को मुख्यमंत्री तीर्थयात्रा योजना के अन्तर्गत तीर्थयात्रा करा रहा हूॅ।
    अंजुमन महिला स्व सहायता समूह बालोद की उपाध्यक्ष श्रीमती वाजिदा बेगम ने कहा कि मुख्यमंत्री के रेडियो कार्यक्रम के माध्यम से आम जनता के लिए कल्याणकारी योजनाओं सहित श्रम विभाग की लाभकारी योजनाओं की जानकारी मिली। निश्चित रूप से महिला श्रमिकों को भी इसका लाभ प्राप्त होगा। साहित्यकार श्री संतोष कृदत्त ने कहा कि प्रदेश के मुखिया डॉ. रमन सिंह ने रेडियो कार्यक्रम के माध्यम से ‘‘मिट्टी स्वास्थ्य कार्ड‘‘ योजना की जानकारी दी है। इससे निश्चित ही किसान अब अपने खेतों की मिट्टी का परीक्षण कराकर उन्नत खेती कर लाभान्वित होंगे। नागरिक श्री विनोद जैन ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने किसानों की पीड़ा कम करने के लिए आर.बी.सी.6-4 के प्रावधानों के तहत् तत्काल किसानों को राहत राशि वितरण की बात कही। इससे निश्चित ही प्रदेश के सूखा प्रभावित किसान लाभान्वित होंगे।

 

क्रमांक/750/चंद्राकर

 

Date: 
13 Dec 2015