Homeबिलासपुर : ग्रामीणों ने कहा किसानों के हित की बातें थी ’’रमन के गोठ’’ में

Secondary links

Search

बिलासपुर : ग्रामीणों ने कहा किसानों के हित की बातें थी ’’रमन के गोठ’’ में

Printer-friendly versionSend to friend

रिस्दा के ग्रामीणों ने मनोयोग से सुना ’’रमन के गोठ’’


बिलासपुर/08 नवंबर 2015

मस्तूरी विकासखण्ड के ग्राम रिस्दा में आज ग्रामीणों ने ’’रमन के गोठ’’ मनोयोग से सुना। ’’रमन के गोठ’’ सुनने के बाद रिस्दा के किसान कमल किशोरवानी और मोतीलाल ने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री गांव के किसानों के दुखः-तकलीफ के प्रति सजग है। यह उनके संवेदनशीलता का परिचायक है। डॉ. रमन सिंह ने तीज-त्यौहार के साथ ही रोजगार, धान खरीदी एवं सूखा क्षेत्रों के किसानों को निःशुल्क एक क्विंटल धान बीज देने की बात कही। उनके गोठ सुनकर हमें अच्छा लगा। इस वर्ष सूखे की स्थिति में जरूरतमंदों के लिये मुख्यमंत्री ने काम खोलने की बात कही। रिस्दा के किसान नर्मदा प्रसाद चौहान का कहना है कि मुख्यमंत्री ’’रमन के गोठ’’ बढ़िया लगिस। ओकर गोठ म किसान मन के धान खरीदी अउर सूखा पीड़ित क्षेत्र बर किसान मन ल एक क्विंटल धान बीज फोकट म देहे के बात रहिस। गांव म मनरेगा म राहत कार्य खोले के बात घलउ कहिस। काम शुरू होही तव जानबो। इसी तरह रिस्दा के किसान बहुरिक केंवट ने कहा कि सरकार को किसानों के हित के काम जल्दी शुरू कर देना चाहिए। जिससे किसानों का विश्वास बढ़ेगा। हिर्री के पंच पुष्पलाल पटेल ने कहा कि रमन के गोठ में मनरेगा में काम खुलवाने की बात कही गई। सरकार को चाहिए कि वे मनरेगा के राहत कार्यों का भुगतान भी समय पर करवाएं। रिस्दा के नवलसिंह ने कहा कि गांव में शिक्षा के लिए बच्चों के पालकों और पंचायत पदाधिकारियों को सजग होना चाहिए। इससे पढ़ाई अच्छी होगी और शिक्षा के गुणवत्ता में सुधार आयेगा।   मस्तूरी की जनपद सदस्य कु. राजेश्वरी सारथी ने ’’रमन के गोठ’’ से ग्रामीणों को शासन की विभिन्न योजनाओं की जानकारी मिलती है। इसका हमें जागरूक होकर लाभ उठाना चाहिए। इसके साथ ही अपनी बातों को मुख्यमंत्री तक पहुंचाने के लिए आकशवाणी रायपुर को पत्र भेज सकते हैं। ग्राम रिस्दा के किसान राघवेन्द्र सिंह चन्देल ने कहा कि सूखा प्रभावित लोगों को शासन द्वारा एक क्विंटल धान बीज दिया जाना किसानों के हित में अच्छा है। उन्होंने कहा कि जहां संभव हो कच्ची सड़कों को डब्ल्यूबीएम कराने और गांव में विद्युत सबस्टेशन की आवश्यकता बताई। ताकि किसानों को सिंचाई सुविधा मिल सके। खरीफ फसल नुकसान हो जाने के बाद हमें रबी में धान की जगह अन्य फसल लेना अच्छा होगा। रिस्दा के किसान बहुरिक केंवट ने कहा कि मुख्यमंत्री ने अच्छी बातें कही। परन्तु हमारे गांव में सड़क नहीं है, वह जल्दी बनना चाहिए।  
             कार्यक्रम में एसडीएम मस्तूरी श्री टेकचंद अग्रवाल ने अपनी संबोधन में कहा कि जागरूक होकर शासन द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाएं। ’’रमन के गोठ’’ में भी योजनाओं की जानकारी दी जाती है। उसने कहा कि आप चाहे तो मुख्यमंत्री को आकाशवाणी केन्द्र के माध्यम से अपनी बात पहुंचा सकते हैं। उन्होंने ग्रामीणों को गांव की स्कूल की पढ़ाई का गुणवत्ता बढ़ाने के लिए एक होकर देखना होगा। इसके लिए पालक और ग्राम पंचायत के पदाधिकारी समय-समय पर स्कूल की समस्याओं का अवलोकन करें और स्कूल में बच्चों की उपस्थिति और शिक्षकों की उपस्थिति पर निगरानी रखें। मस्तूरी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत श्रीमती शिल्पा अग्रवाल ने ग्रामीणों को शासन की विभिन्न योजनाओं की जानकारी दी। ग्राम सरपंच श्री सतीश कुमार महलाने ने कार्यक्रम में उपस्थित अधिकारियों एवं ग्रामीणों का आभार माना।  आज मस्तूरी विकासखण्ड के ग्राम रिस्दा में जिला स्तरीय ’’रमन के गोठ’’ सुनने की व्यवस्था की गई थी। जहां ग्रामीणों ने उत्साह के साथ ’’रमन के गोठ’’ को सुना।

 

समाचार क्रमांक/1478/साय  
 

Date: 
08 Nov 2015