Homeबिलासपुर : ग्राम उस्लापुर को कैशलेस बनाने का संकल्प लिया सरपंच ने रमन के गोठ सुनकर मिली प्रेरणा

Secondary links

Search

बिलासपुर : ग्राम उस्लापुर को कैशलेस बनाने का संकल्प लिया सरपंच ने रमन के गोठ सुनकर मिली प्रेरणा

Printer-friendly versionSend to friend

बिलासपुर 08 जनवरी 2017

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने ’’रमन के गोठ’’ के माध्यम से प्रदेश के दूरदराज आदिवासी बाहुल्य ग्रामों, छोटे-छोटे व्यापारियों, पान, सेलून, अंडे के ठेले लगाने वाले छोटे-छोटे व्यवसायियों द्वारा कैशलेस भुगतान प्रारंभ करने की जानकारी दी। जिससे प्रेरणा लेकर ग्राम उस्लापुर के सरपंच ने अपने गांव को भी कैशलेस बनाने संकल्प लिया है।  
’’रमन के गोठ’’ के 17वीं कड़ी का प्रसारण आज किया गया जिसके माध्यम से पूरे प्रदेश को कैशलेस बनाने में व्यापारी, दुकानदार, उद्योगपति, शासकीय संस्थाएं जिस तरह जुड़ रही हैं, उसके बारे में तखतपुर विकासखण्ड के उस्लापुर के ग्रामीणों ने भी सुना। सरपंच श्रीमती संतोषी ठाकुर भी अपने ग्राम पंचायत को कैशलेस बनाने के लिए जागरूक हो गई है। उसने कहा कि वह अपने गांव में सबसे पहले कैंप लगाकर कैशलेस भुगतान का प्रशिक्षण देने की योजना बनायेगी। एक-एक व्यक्ति, व्यापारी, दुकानदार ग्रामीण को कैशलेस भुगतान के लिए जागरूक करेंगे। गांव को सबसे पहले उचित मूल्य के राशन दुकान को कैशलेस बनाया जायेगा। हितग्राहियों के लिए पो.ओ.एस.मशीन लगाया जायेगा। जिसके द्वारा खाद्यान्न का भुगतान कैशलेस कर सकेंगे। राशन दुकान के संचालक और ग्राम के पंच संजय बंजारे ने बताया कि खाद्यान्न उठाने के बाद नॉन को आनलाईन भुगतान तो वे विगत् साल भर सेे करते आ रहे हैं। आने वाले समय में हितग्राहियों से भी ई-पेमेंट लेंगे। कैशलेस भुगतान से समय व खतरे दोनों से छुटकारा मिलता है। गांव के ही निवासी राकेश कुमार मानिकपुरी सिक्यूरिटी गार्ड का कार्य करते हैं। ’’रमन के गोठ’’ सुनकर उसे भी कैशलेस अभियान के बारे में पता चला है। अब तक वह नगद लेनदेन करता था। लेकिन अब वह भी अपने मोबाइल में  एप डाउनलोड कर कैशलेस भुगतान करना चाहता है। 11वीं के छात्र अंकित नेताम को भी कैशलेस व्यवस्था के बारे में जानकारी मिली। अब हमारा अंगूठा भी बैंक बनेगा, यह जानकर वह बहुत खुश है, तथा अपने माता-पिता को भी इसके बारे में जागरूक करेगा।

समाचार क्रमांक/4087/अग्रवाल

Date: 
08 Jan 2017