Homeबिलासपुर : बच्चों का भविष्य संवारना हम सब की जिम्मेदारी : मुख्यमंत्री के ’’रमन के गोठ’’ कार्यक्रम को सुना नागरिकों ने

Secondary links

Search

बिलासपुर : बच्चों का भविष्य संवारना हम सब की जिम्मेदारी : मुख्यमंत्री के ’’रमन के गोठ’’ कार्यक्रम को सुना नागरिकों ने

Printer-friendly versionSend to friend

बिलासपुर, 13 नवंबर 2016

बच्चों का भविष्य संवारना हम सब की जिम्मेदारी है। उनका आज ही हमारा कल होगा। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने ’’रमन के गोठ’’ के माध्यम से सबको इस जिम्मेदारी का अहसास कराया है। उनका गोठ हम सभी को प्रेरणा से भर देता है। यह विचार सार्वजनिक कंपनी में कार्यरत् अनित कुलकर्णी ने आज रमन के गोठ सुनने के बाद व्यक्त किया।
रमन के गोठ के कड़ी का प्रसारण आज किया गया। मुख्यमंत्री ने 14 नवंबर को बाल दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ के बच्चों की विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धी का जिक्र किया। मेडिकल फील्ड में कार्यरत् हरीश हत्ती यह सुनकर बहुत प्रभावित हुए। बेटे-बेटी में कोई फर्क नहीं करना चाहिए, इस बात के लिए समाज में जागरूकता लानी होगी। श्री हत्ती ने कहा कि उनके दो बच्चे हैं, वे भी जब कार्यक्रम को सुनेंगे तो उनको लाभ मिलेगा। सर्विसमेन अजित ने कहा कि रमन के गोठ सभी वर्ग के लिए लाभदायक है। मुख्यमंत्री इस कार्यक्रम के माध्यम से लोगों की मोटिवेट करते हैं। मुख्यमंत्री अपने बुलंद व मधुर आवाज में अपना गोठ करते हैं, तो उत्साह का संचार होता है। श्री कुलकर्णी ने बताया कि उनकी पत्नी व बच्चे भी हर माह दूसरे रविवार को यह कार्यक्रम सुनते हैं। समाज सेवी श्रीमती विद्या गोवर्धन जो आज डाइबिटिज डे मनाने के लिए एकत्रित हुई थी। उन्होंने बच्चों के सुनहरे भविष्य हेतु उन्हें डाइबिटिज से दूर रखने के लिए माता-पिता व समाज को ध्यान देने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि  बच्चों का बस्ते का बोझ कम करने व हर स्कूल में खेल को अनिवार्य करने ,खेल सुविधा का विकास कर बच्चों को स्वस्थ बनाने प्रयास हमें करना होगा। सरकारी कर्मचारी आर.के.साहू को धान खरीदी के लिए सरकार द्वारा की जा रही व्यवस्था ने बहुत प्रभावित किया है। मक्का की की भी खरीदी की जाएगी। जिससे किसानों में मक्का पैदावार के लिए और प्रोत्साहन मिलेगा। छ.ग. की सार्वजनिक वितरण प्रणाली में किसानों का बहुत बड़ा योगदान है। यह बात मुख्यमंत्री के गोठ में सुनकर उन्हें बहुत अच्छा लगा। मजदूर प्रदीप जांगड़े, श्यामलाल कश्यप, संतोष लोनिया, राजेश साहू, स्टेट बैंक के सामने 500 और 1000 का नोट बदलने के लिए लाइन लगाकर खड़े लोगों ने भी ’’रमन के गोठ’’ को उत्साहपूवक  सुना।


समाचार क्रमांक/3810/अग्रवाल

 

Date: 
13 Nov 2016