Homeबिलासपुर : रमन के गोठ को उत्साहपूर्वक सुना लोगों ने : देश की आजादी में छत्तीसगढ़ के लोगों का महत्वपूर्ण योगदान-मुख्यमंत्री

Secondary links

Search

बिलासपुर : रमन के गोठ को उत्साहपूर्वक सुना लोगों ने : देश की आजादी में छत्तीसगढ़ के लोगों का महत्वपूर्ण योगदान-मुख्यमंत्री

Printer-friendly versionSend to friend

बिलासपुर, 14 अगस्त 2016

रमन के गोठ के 12वीं कड़ी के प्रसारण को लोगों ने उत्साहपूर्वक सुना। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर छत्तीसगढ़ के उन सभी स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों को याद किया, जिन्होंने देश की आजादी में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया था। शहीद वीर नारायण सिंह, वीर गुण्डाधूर, पंडित रविशंकर शुक्ल, पंडित सुंदरलाल शर्मा, डॉ. खूबचंद बघेल, मिनीमाता जैसे महानायकों ने स्वतंत्रता का अलख जगाया। महात्मागांधी जी छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों का उत्साह वर्धन करने के लिए दो बार छत्तीसगढ़ आये। कन्डेल सत्याग्रह, झण्डा सत्याग्रह, जंगल सत्याग्रह जैसे आंदोलन स्वतंत्रता के लिए हुए। इन सभी आंदोलनों में हमारे पुर्वजों ने बढ़चढ़कर हिस्सा लिया। रमन के गोठ के द्वारा मुख्यमंत्री ने हमारे वीर पुरखों के गौरवशाली इतिहास का उल्लेख किया।
            रमन का गोठ का प्रसारण बिलासपुर के राजकिशोर स्थित महिलाओं के शार्टस्टे के लिए संचालित उज्जवला होम की महिलाओं ने भी सुना। वहां उपस्थित एनजीओ मनोज वर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ के लोगों ने आजादी में जो योगदान दिया है, उसके बारे में आज के युवा नहीं जानते हैं। मुख्यमंत्री ने गोठ के माध्यम से इसका परिचय कराया। यह युवाओं के लिए बहुत प्रेरणादायी रहा। श्रीमती राजकुमारी वर्मा ने कहा कि छत्तीसगढ़ के स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के कार्यों के बारे में जानकार वे अभिभूत हो हो गई हैं। हमारे पूर्वजों ने देश को आजादी दिलाने के लिए कितने कष्ट सहे। इसकी जानकारी सभी बच्चों, युवाओं को होनी चाहिए। विश्वास वेलफेयर सोसायटी की अध्यक्ष संध्या चन्द्रसेन ने कहा कि उन्होंने पहली बार रमन का गोठ सुना है। अभी तक जो किताबों में पढ़ते आये थे कि भारत के विभिन्न हिस्सों से लोग स्वतंत्रता के लिए संघर्ष किये हैं, लेकिन छत्तीसगढ़ के लोगों ने भी इसमें हिस्सा लिया था। यह जानकारी उन्हें आज हुई और इसके लिए वे मुख्यमंत्री की शुक्रगुजार हैं। उज्जवला होम में रहने वाली लालपुर की आदिवासी महिला मानकुंवर बाई नेे कहा कि बस्तर से लेकर सरगुजा तक बसे हुए आदिवासियों के उत्थान के लिए सरकार द्वारा नित नये प्रयास किये जा रहे हैं। जिसके बारे में उसे रमन के गोठ से जानकारी मिली है। केशरी साहू, सुनिता यादव, रीता साई को भी रमन का गोठ अच्छा लगा। उज्जवला होम के संचालक श्री जितेन्द्र मौर्य ने कहा कि वे रमन के गोठ से प्रभावित हुए। उन्होंने कहा कि अब वे हर माह के दूसरे रविवार को इसका प्रसारण सुनेंगे और होम की अन्य महिलाओं को भी सुनने के लिए प्रेरित करेंगे। जिससे इन महिलाआंे को सरकार के योजनाओं, कार्यक्रमों का पता चलेगा और वे जागरूक होंगी।


समाचार क्रमांक/3187/अग्रवाल  


 

Date: 
14 Aug 2016