Homeबिलासपुर : शासन जो दे रहा है वह जनता को मिले : ’’रमन के गोठ’’ सुनकर दुखीराम को मिली तसल्ली

Secondary links

Search

बिलासपुर : शासन जो दे रहा है वह जनता को मिले : ’’रमन के गोठ’’ सुनकर दुखीराम को मिली तसल्ली

Printer-friendly versionSend to friend

बिलासपुर/13 मार्च 2016

शासन जो दे रहा है वह जनता को मिले। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने आम जनता के दुखःदर्द को जाना है। ’’रमन के गोठ’’ को सुनकर मन को बहुत तसल्ली मिलती है। उक्त प्रतिक्रिया मस्तूरी के निवासी दुखीराम गढ़ेवाल ने आज ’’रमन के गोठ’’ की 7वीं कड़ी का प्रसारण सुनकर व्यक्त की।
            विकासखण्ड मस्तूरी के ग्राम पंचायत भवन में ’’रमन के गोठ’’ का रेडियो प्रसारण सुनने के लिए खास व्यवस्था की गई थी। मस्तूरी के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व श्री ओ.पी. वर्मा, जनपद पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री एस.के.कुर्रे की उपस्थिति में ग्रामीणों ने सामुहिक रूप से रमन के गोठ को सुना। कॉलेज के छात्र नूतन तिवारी ने गोठ सुनने के बाद कहा कि पढ़ाई व परीक्षा के तनाव से छात्र अवसाद के स्तर तक पहुंच जाते हैं और कभी-कभी आत्महत्या के बारे में सोचने लगते हैं। ऐसे छात्रों को मुख्यमंत्री जी ने जो संदेश दिया है। वह दिल को छू गया। असफलता से कभी निराश नहीं होना चाहिए और हमेशा आशावादी होकर आगे बढ़ने की कोशिश करनी चाहिए। 22 मार्च को विश्व जल दिवस मनाया जायेगा। पानी संरक्षण बहुत जरूरी है। आज पानी नहीं बचाया गया तो हमारे आने वाली पीढ़ी को बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। मुख्यमंत्री जी ने अपने गोठ के माध्यम से यह बाते हमकों समझाई है। ग्राम के ही नागरिक गोविन्द प्रसाद धीवर ने कहा कि जन्म-मृत्यु पंजीयन की उपयोगिता के बारे में जो जानकारी दी है। वह बहुत लाभदायक लगी।
            ग्रामीण विकास मंत्रालय भारत सरकार के नेशनल लेबल के मानिटरिंग टीम के सदस्य डॉ. अंबुज महापात्र ने भी रमन के गोठ का प्रसारण सुना और कहा कि इसके माध्यम से आम लोगों से सीधे मुख्यमंत्री की बातचीत हो रही है और लोग इसके माध्यम से योजनाओं की जानकारी प्राप्त करते हैं। यह बहुत ही अच्छा प्रयास है। सरपंच सुनीता विनोद सारथी, मस्तूरी जनपद पंचायत करारोपण अधिकारी रेवाराम सोनकर, सतीश टण्डन, राजेश श्रीवास्तव आदि ने भी रमन के गोठ को लाभ दायक बताया।
समाचार क्रमांक/2273/अग्रवाल 

Date: 
13 Mar 2016