Homeबैकुण्ठपुर : आकाशवाणी से ‘रमन के गोठ’ की ग्यारहवीं कड़ी प्रसारित : किसानों को 5 लाख रूपये तक ब्याज मुक्त ऋण मिलेगा-मुख्यमंत्री डॉ.सिंह

Secondary links

Search

बैकुण्ठपुर : आकाशवाणी से ‘रमन के गोठ’ की ग्यारहवीं कड़ी प्रसारित : किसानों को 5 लाख रूपये तक ब्याज मुक्त ऋण मिलेगा-मुख्यमंत्री डॉ.सिंह

Printer-friendly versionSend to friend

कलेक्टर को सूचित किये बिना कोई भी वित्तीय कंपनी नहीं कर पायेगी रोजगार

बैकुण्ठपुर 10 जुलाई 2016

प्रदेष के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ की 11वीं कड़ी को आज प्रातः 10.45 से 11.05 बजे के मध्य जिला मुख्यालय बैकुण्ठपुर स्थित मानस भवन में आम नागरिकों, जन प्रतिनिधियों, कलेक्टर श्री एस. प्रकाष.  के साथ साथ जिला पंचायत की मुख्य कार्यपालन अधिकारी सुश्री संतन जांगडे, जिला परिवहन अधिकारी श्री बी सी एक्का, नगर पालिका बैकुण्ठपुर के मुख्य नगर पालिका अधिकारी एम एस टेकाम और जिला कौशल विकास प्राधिकरण के श्री उमेष जायसवाल ने तल्लीनता के साथ सुना। इसके अलावा जिले के सभी विकासखण्ड मुख्यालयों, नगरीय निकायों, सभी ग्राम पंचायतों, लोक षिक्षा केंद्रों, छात्रावास आश्रम षालाओं के विद्यार्थियों और लाईवलीहुड कालेज के प्रषिक्षणार्थियों ने भी रमन के गोठ कार्यक्रम को उत्साह पूर्वक श्रवण किया। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ को सुनने के लिए जिला प्रषासन द्वारा व्यापक व्यवस्था की गई थी। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ को आज षाम को पुनः आज षाम 8 बजे से 8.20 बजे तक आकाषवाणी के सभी केंद्रेां से प्रसारित होगा।
मुख्यमंत्री डॉ.सिंह ने आज सबेरे आकाषवाणी से अपने मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ की 11वीं कडी में प्रदेशवासियों को गुरूपूर्णिमा, रथयात्रा, ईद-उल-फितर, डॉ. खूबचंद बघेल जयंती की बधाई और शुभकामनाएं दी।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राज्य के किसानों को खेती के लिए पांच लाख रूपए तक ब्याज मुक्त अल्पकालीन कृषि ऋण देने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा ब्याज अनुदान की पात्रता के लिए प्रति हेक्टेयर, असिंचित भूमि पर 20 हजार रूपए और सिंचित भूमि पर 25 हजार रूपए की पूर्व प्रचलित ऋण सीमा को समाप्त कर दिया गया है। डॉ. सिंह ने आज सवेरे आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से प्रसारित अपनी मासिक रेडियो वार्ता ’रमन के गोठ’ में किसानों को यह जानकारी दी। उन्होंने उम्मीद जताई है कि राज्य सरकार के ये दोनों फैसले किसानों को आर्थिक रूप से सक्षम बनाएंगे।
मुख्यमंत्री डॉ सिंह ने प्रदेश के युवाओं से कहा कि छत्तीसगढ़ में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपने को पूरा करने के लिए कौशल उन्नयन पर विशेष जोर दिया है। राज्य सरकार ने युवाओं के कौशल विकास के लिए मनपसंद व्यवसायों में प्रशिक्षण पाने का कानूनी अधिकार दिया है। इस योजना के तहत अब तक छत्तीसगढ़ के तीन लाख युवाओं ने विभिन्न प्रकार के रोजगारमूलक काम-काज का प्रशिक्षण प्राप्त कर स्वयं को हुनरमंद बना लिया है। डॉ. सिंह ने कहा कि  प्रदेश के युवा अपने लायक किसी भी व्यवसाय का प्रशिक्षण हासिल करने के लिए अपने जिले के कलेक्टर से सम्पर्क करें।
मुख्यमंत्री ने जनता को विश्वास दिलाया कि उनकी सरकार फर्जी बैंकिंग और फर्जी चिटफंड कम्पनियों से निपटने के लिए सतर्क है। इसके लिए राज्य सरकार ने कानून भी बनाया है, जिसके तहत उन वित्तीय संस्थाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और दोषियों को कड़ी सजा देने का प्रावधान है, जो आम नागरिकों को ठग कर उनका पैसा हड़प लेते हैं। मुख्यमंत्री ने बताया-इस कानून के तहत कलेक्टर को सूचना दिए बिना कोई भी कम्पनी अपना वित्तीय कारोबार नहीं कर सकती।
मुख्यमंत्री ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता में किसानों से आग्रह किया कि वे कृषि विभाग और कृषि विशेषज्ञों की सलाह लेकर सही समय पर बोनी करें और खाद तथा बीज भी सही अनुपात में डालें। मुख्यमंत्री ने किसानों से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का भी लाभ उठाने की भी अपील की। मुख्यमंत्री डॉ सिंह ने कहा कि फसल बीमा योजना में शामिल होने की अंतिम तारीख 31 जुलाई है। उन्होने कहा कि खरीफ फसल के लिए फसल बीमा योजना में किसानों को सिर्फ दो प्रतिशत का प्रीमियम देना होगा। उससे ज्यादा जो भी प्रीमियम होगा, उसकी राशि राज्य और केन्द्र सरकार द्वारा दी जाएगी।
डॉ. रमन सिंह ने वर्षा  ऋतु के आगमन के साथ ही नये शिक्षा सत्र के शुरू होने का उल्लेख किया और स्कूल कॉलेजों में दाखिला लेने वाले सभी छात्र-छात्राओं को शुभकामनाएं दी। मुख्यमंत्री ने शिक्षा की गुणवत्ता की तरफ ध्यान देने की जरूरत पर विशेष रूप से बल दिया। मुख्यमंत्री ने बालिका शिक्षा की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि शिक्षा ही नारी सशक्तिकरण की बुनियाद है। बेटी हो या बेटा, सबको एक बराबर समझना चाहिए, क्योंकि पढ़ाई के कारण बेटियों ने समाज में पुरूषों का बखूबी मुकाबला किया है और बड़ी-बड़ी प्रतियोगिताओं में अच्छा स्थान हासिल करने में भी सफल हुई हैं।
मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ में कहा कि प्रधानमंत्री श्री मोदी ने धान का समर्थन मूल्य 60 रूपये प्रति क्वि.बढाकर किसान भाईयों को एक बडी सोैगात दी है। जिसका लाभ लाखों किसान भाईयों और उनके परिवारजनों को मिलेगा।  उन्होने कहा कि सूखा प्रभावित तहसीलों में इस बार खरीफ में प्रत्येक किसान को अधिकतम एक क्वि. धान का बीज निःषुल्क दिया जा रहा है। डॉ.सिंह ने कहा कि प्रत्येक जिले के लिए 84 करोड़ रूपये की धन राषि अग्रिम के तौर पर उपलब्ध करा दी है।
डॉ. रमन सिंह ने अपनी रेडियो वार्ता में प्रदेश सरकार की युवा नीति की तैयारी और मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना के तहत चल रहे प्रयास आवासीय विद्यालयों के बच्चों के बेहतर प्रदर्शन का भी जिक्र किया। उन्होने कहा कि छत्तीसगढ देश का पहला राज्य है, जो युवाओं की सहभागिता से प्रदेश की नई युवा नीति बनाने जा रहे हैं। डॉ. रमन सिंह ने कहा-राज्य के युवाओं को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय संस्थानों में शिक्षा ग्रहण करने का अवसर मिले, इसके लिए एनआईटी, ट्रिपल आईटी, एम्स, राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, आई.आई.एम जैसी संस्थाएं संचालित की जा रही हैं। मुख्यमंत्री ने अपने रेडियो प्रसारण में कहा-हमने नक्सल हिंसा पीड़ित इलाकों के बच्चों को बेहतर शिक्षा देने के लिए ’प्रयास आवासीय विद्यालय’ खोले हैं, जिनका लाभ हर साल उन्हें मिल रहा है। हाल ही में जे.ई.ई. का रिजल्ट आया। प्रयास विद्यालय के 27 बच्चे इसमें सफल हुए, जो अब देश के बड़े प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग शिक्षा संस्थानों में पढ़ेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि ये बच्चे गांव में, गरीबी में और कठिन परिस्थितियों में सपने देखने वाले बच्चों के लिए नये ’आईकॉन’ है।
रमन के गोठ पर प्रतिक्रिया
मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ के संबंध मे प्रतिक्रिया देते हुए श्री नितेष जायसवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने राज्य के किसानों को खेती के लिए पांच लाख रूपए तक ब्याज मुक्त अल्पकालीन कृषि ऋण देने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा ब्याज अनुदान की पात्रता के लिए प्रति हेक्टेयर, असिंचित भूमि पर 20 हजार रूपए और सिंचित भूमि पर 25 हजार रूपए की पूर्व प्रचलित ऋण सीमा को समाप्त कर दिया गया है। जो किसानों के लिए लाभदायक और प्रशंसनीय है। इसके लिए श्री जायसवाल ने मुख्यमंत्री डॉ सिंह के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। इसी तरह श्री राकेष कुमार सिंह ने प्रदेष में युवाओं के कौशल विकास के लिए मनपसंद व्यवसायों में प्रषिक्षण पाने का कानूनी अधिकार की प्रषंसा की। उन्होने कहा कि कौशल विकास से युवा स्वरोजगार प्राप्त कर आत्मनिर्भर और स्वावलंबी बनने में सार्थक होंगे। इसी तरह श्री भागवत प्रसाद साहू ने कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की प्रशंसा की। उन्होने कहा कि इस योजना से सिर्फ देा प्रतिशत का ही प्रीमियम देना होता है। प्रीमियम की शेष राशि राज्य शासन द्वारा जमा की जा रही है। देा प्रतिषत की प्रीमियम पर ही किसानों को नुकसान की भरपाई होगी। इसी तरह श्री अमित साहू ने भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि फर्जी बैंकिंग और फर्जी चिटफंड कंपनियों से निपटने के लिए कानून बनाया गया है जो तारीफेकाबिल है। इस कानून से फर्जी बैंकिंग और फर्जी चिटफंड कंपनियों पर रोक लगेगी और जनता को फर्जी बैंकिंग और फर्जी चिटफंड कंपनियों से छुटकारा मिलेगी।


समाचार क्रमाक 1034/लहरे
 

Date: 
10 Jul 2016