Homeबैकुण्ठपुर : आकाशवाणी से ‘रमन के गोठ’ की नौवीं कड़ी प्रसारित

Secondary links

Search

बैकुण्ठपुर : आकाशवाणी से ‘रमन के गोठ’ की नौवीं कड़ी प्रसारित

Printer-friendly versionSend to friend

छत्तीसगढ की सफल योजनाएं लोक सुराज के चौपालों की देन -मुख्यमंत्री डॉ. सिंह
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने की जैविक खेती करने वाले किसानों की जमकर तारीफ

बैकुण्ठपुर 8 मई 2016

प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ की 9वीं कड़ी को आज प्रातः 10.45 से 11 बजे के मध्य जिले के विधायक आदर्ष ग्राम बुड़ार में सागौन के पेड़ के नीचे बैठकर आम नागरिकों, जन प्रतिनिधियों के साथ कलेक्टर श्री एस. प्रकाष, पुलिस अधीक्षक श्री बी.एस. ध्रुव और जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजीव झा ने तल्लीनता के साथ सुना। इसके अलावा जिले के सभी विकासखण्ड मुख्यालयों, नगरीय निकायों, सभी ग्राम पंचायतों, लोक षिक्षा केंद्रों, छात्रावास आश्रम षालाओं के विद्यार्थियों और लाईवलीहुड कालेज के प्रषिक्षणार्थियों ने भी रमन के गोठ कार्यक्रम को उत्साह पूर्वक श्रवण किया। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ को सुनने के लिए जिला प्रषासन द्वारा व्यापक व्यवस्था की गई थी। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ को कल सोमवार 9 मई को भी लोक षिक्षा केंद्रों, छात्रावास आश्रम षालाओं के विद्यार्थियों द्वारा सुना जायेगा।
मुख्यमंत्री डॉ.सिंह ने आज सबेरे आकाषवाणी से अपने मासिक प्रसारण रमन के गोठ की 9वीं कडी में प्रदेष वासियों को इस महीने मनाये जाने वाले अक्षय तृतीया (अक्ती), बुध्द पूर्णिमा, महाप्रभु बल्लभाचार्य की जयंती, सेन महाराज, भगवान परषुराम और षंकराचार्य जयंती की हार्दिक बधाई और षुभकामनाएं दी।
मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ में प्रदेष व्यापी लोक सुराज अभियान का उल्लेख करते हुए कहा कि आम जनता के लिए सरकार की योजनाएं मंत्रालय के वातानुकूलित कमरों में दिमाग से तो बन सकती है लेकिन जब हम चौपाल में गांव वालों के बीच बैठकर योजनाएं बनाते हैं तो ऐसी योजनाएं न सिर्फ दिमाग से बल्कि दिल से बनती है। उन्होने कहा कि चौपालों में होने वाली चर्चाएं हमारे लिए भविश्य का एजेंडा बन जाती है। जिनका हम षत प्रतिषत पालन करते है। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि गर्मियों के इस मौसम में आम, महुआ, कुसुम के वृक्षों के नीचे चौपाल लगाकर बैठते हैं तो ग्रामीणों से बातचीत में बहुत सी नई योजनाआंे का जन्म होता है। डॉ. सिंह ने कहा कि मैने देखा है कि हमने जितनी भी येाजनाएं चौपालों में बनायीं है उन्हें अच्छी सफलता मिली है। अबतक ऐसी सबसे सफल योजनाओं में मुख्यमंत्री बाल ह्रदय सुरक्षा योजना, चावल उत्सव, लघु वनोपज की खरीदी और तेंदूपत्ता संग्राहकों को चरण पादूका वितरण उल्लेखनीय है। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अपने रमन के गोठ में प्रदेषवासियेां से अक्षय तृतीया (अक्ती) के दिन बाल विवाह जैसी सामाजिक बुराई से बचने और इस कुप्रथा को रोकने की भी अपील की।
मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अपने रमन के गोठ मे प्रिय कवि लक्ष्मण मस्तुरिया के लोकप्रिय छत्तीसगढ़ी गीत मोर संग चलव जी मोर संग चलव गा का उल्लेख करते हुए छत्तीसगढ के विकास के लिए सभी लोगों से एक साथ चलने का आव्हान किया। उन्होने कहा कि सब मिलकर साथ चलेंगे तभी हमारा सुराज अभियान सफल होगा। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि हमने गरीबो को चावल देने की योजना षुरू की और जब उन्हें चावल बांटते है तो लोगों को पता नहीं कितनी खुषी होती है। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने जैविक खेती करने वाले किसानों की जमकर तारीफ की। उन्होने कहा कि जैविक खेती से उत्पादित चावल न केवल छत्तीसगढ में बल्कि हिन्दुस्तान के अन्य राज्यों में भी बिक रहा है।
मुख्यमंत्री रमन सिंह ने कहा कि ग्राम सुराज और लोक सुराज अभियान में हमने देखा कि पटवारियों से नक्षा खसरा और बी-1 की प्रतियां लेने के लिए महीनों चक्कर लगाने पड़ते है। इस बार हमने यह निर्णय लिया है कि राज्य के सभी किसानों और नागरिकों को अगले तीन माह के भीतर इन राजस्व अभिलेखों की निःषुल्क प्रतियां उनके गांव और पंचायतों में पटवारी स्वयं बैठकर देंगे। उन्होने कहा राज्य सरकार ने एक बड़ी सोच के साथ ग्रामीणों को आबादी भूमिका पटटा निःषुल्क देने का निर्णय लिया है। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने अपने रमन के गोठ मे बताया कि राज्य में अबतक लगभग 108 जन औशधि केंद्र षुरू किये जा चुके है। जहां ब्रांडेड दवाईयों की तुलना में चौथाई कीमत पर लगभग 400 प्रकार की जेनेरिक दवाईयां उपलब्ध है। छत्तीसगढ संभवतः देष का एकमात्र राज्य है जहां इतनी बड़ी संख्या में जेनेरिक दवाईयों के लिए जन औशधि केंद्र खोले गये है। उन्होने कहा कि जेनेरिक दवाईयां न केवल सस्ती है बल्कि गुणवत्ता में भी अच्छी है। उन्होने डाक्टरों से मरीजों के हित में अधिक से अधिक जेनेरिक दवाईयां लिखने की अपील की।
रमन के गोठ पर प्रतिक्रिया
मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ के संबंध मे प्रतिक्रिया देते हुए विधायक आदर्ष ग्राम बुड़ार के ग्रामीण श्री सतीष देषलहरे ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ एक सराहनीय पहल है। जेनेरिक दवा निष्चित ही गुणवत्तापूर्ण और सस्ती होती है। मरीजों के लिए डाक्टरों के द्वारा जेनेरिक दवाईयों को प्राथमिकता से लिखा जाना चाहिए। इसी तरह श्री षिवलाल ने कहा कि मुख्यमंत्री रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ प्रेरणादायक होता है। उन्होने बाल विवाह के रोकथाम के लिए सभी को अपनी सक्रिय भागीदारी निभानी चाहिए। श्री कृश्ण कुमार भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो रमन के गोठ प्रदेष के ढ़ाई करोड़ जनता में सीधे संवाद स्थापित करने का माध्यम बन गया है। उन्होनंे लोक सुराज अभियान की मुक्त कंठ से सराहना की। इसी तरह श्रीमती अहिल्या बाई और रूपा महंत ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ सिंह ने बाल विवाह नहीं करने का जो संदेष दिया है,जो सकारात्मक और प्रेरणादायक है। इसका पालन सभी लोगों को करना चाहिए। श्री मनोज सिंह जगत ने भी अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि रमन के गोठ में षासन की जनकल्याणकारी योजनाओं की सहज रूप से जानकारी मिलती है जो लोगो के लिए फायदेमंद है। उन्होने जेनेरिक दवाईयों की उपलब्धता को जनहित में महत्वपूर्ण कदम बताया।


समाचार क्रमांक 720//लहरे
 

Date: 
08 May 2016