Homeबैकुण्ठपुर : आकाशवाणी से ‘रमन के गोठ’ की सातवीं कड़ी : जन्म और मृत्यु पंजीयन का प्रमाण पत्र प्रत्येक नागरिक और प्रत्येक परिवार के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज-मुख्यमंत्री डॉ. सिंह

Secondary links

Search

बैकुण्ठपुर : आकाशवाणी से ‘रमन के गोठ’ की सातवीं कड़ी : जन्म और मृत्यु पंजीयन का प्रमाण पत्र प्रत्येक नागरिक और प्रत्येक परिवार के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज-मुख्यमंत्री डॉ. सिंह

Printer-friendly versionSend to friend

शाला उत्सव प्रवेश एक अप्रैल से

मुख्यमंत्री से विद्यार्थी टेलीफोन नंबर 0771-2331001 पर सीधे कर सकते हैं बात

बैकुण्ठपुर 13 मार्च 2016

प्रदेष के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ की सातवीं कड़ी को आज प्रातः 10.45 से 11 बजे मध्य जिला मुख्यालय स्थित मानस भवन में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजीव झा की उपस्थिति में आम नागरिको, जनप्रतिनिधियों  और अधिकारियों-कर्मचारियों ने तल्लीनता से सुना। इसके अलावा जिले के सभी विकासखण्ड मुख्यालयों, नगरीय निकायों, सभी ग्राम पंचायतों, 239 लोक षिक्षा केंद्रों और छात्रावास आश्रम षालाओं में भी रमन के गोठ कार्यक्रम को उत्साह पूर्वक सुना। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ को सुनने के लिए जिला प्रषासन द्वारा व्यापक व्यवस्था की गई थी।

मुख्यमंत्री डॉ.सिंह ने आज सबेरे आकाषवाणी से अपने मासिक प्रसारण रमन के गोठ की सातवीं कडी में प्रदेष वासियों को 23 मार्च को रंग पर्व ‘होली’ की शुभकामनाएं दी। वहीं उन्होंने 22 मार्च को मनाए जाने वाले विश्व जल दिवस का उल्लेख करते हुए सभी लोगों से पानी बचाने की अपील की। मुख्यमंत्री ने कहा कि पानी बचाने के लिए हमें पेड़ लगाने का भी संकल्प लेना होगा। उन्होंने होली के मौके पर सभी लोगों से राग-द्वेष भूलकर प्रेम और उत्साह के साथ त्यौहार मनाने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ के संबंध मे प्रतिक्रिया देते हुए श्री राम राल साहू ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ एक सराहनीय पहल है। वह हर महिने की दूसरे रविवार को वह और उनके परिवार के लोग मुख्यमंत्री रमन के गोठ केा सुनते हैं। इससे उन्हें नयी नयी जानकारियां मिलती हैं। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा लागू नोनी सुरक्षा योजना एक अच्छी पहल है। इसी तरह श्री बनारसी लाल ने कहा कि मुख्यमंत्री रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ प्रेरणादायक होता है। श्री षागीर खान ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वह मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ षासन की योजनाओं को अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने में सार्थक साबित हो रहा है। अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति भी प्रतिमाह दूसरे रविवार को मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ को सुनने के लिए उत्सुक रहते है। श्री बृजमोहन साहू ने कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो रमन के गोठ दिल को गहराई से छूने वाली होती है। इससे उन्हें नई नई जानकारियां मिलती हैं। जिससे उन्हें गौरान्वित महसूस होता है। उन्होनंे मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ की मुक्त कंठ से सराहना की।

मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने अपनी मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ में सभी लोगों से जन्म और मृत्यु पंजीयन भी अनिवार्य रूप से कराने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि जन्म और मृत्यु पंजीयन का प्रमाण पत्र प्रत्येक नागरिक और प्रत्येक परिवार के लिए एक महत्वपूर्ण दस्तावेज होता है।शासन की विभिन्न योजनाओं का लाभ लेने के लिए भी इसकी जरूरत पड़ती है। प्रदेश भर में ग्राम पंचायतों, नगर पंचायतों, नगर पालिका और नगर निगम कार्यालयों में तथा सभी सरकारी अस्पतालों में ये प्रमाण पत्र निःशुल्क बनाए जा रहे हैं। उन्होने जन्म और मृत्यु पंजीयन का प्रमाण पत्र अवश्य बनाने का आग्रह किया है। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा कि प्रदेष के स्कूलों में इस वर्ष 1 अप्रैल से 13 अप्रैल तक प्रदेश व्यापी शाला प्रवेश उत्सव मनाया जायेगा। इस दौरान उन्होने 6 वर्ष से अधिक उम्र के स्कूल जाने योग्य सभी बच्चों को दाखिला सुनिश्चित कराने की बात कही। उन्होने कहा कि इस वर्ष निःशुल्क पाठ्य पुस्तक वितरण योजना में हिन्दी, अंग्रेजी और उर्दू किताबों के साथ साथ संस्कृत भाषा भी वितरित की जायेगी।

मुख्यमंत्री ने मरीजों को सस्ती दरों पर अच्छी गुणवत्ता वाली जेनेरिक दवाईयां उपलब्ध कराने के लिए जन औशधि केंद्र खोलने के लिए इच्छुक संस्थाओं को ढ़ाई लाख रूपये की सहायता देने की भी घोषणा की। उन्होने प्रदेश भर में 100 जन औषधि केन्द्र खोले जाने की भी बात कही। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दूसरे प्रवास के दौरान छत्तीसगढ़ की धरती पर पिछले महीने की 21 तारीख को जन औषधि केन्द्रों की राष्ट्रीय योजना के रूप में एक और क्रांति हुई। इस योजना को देश में सबसे पहले छत्तीसगढ़ ने लागू किया। उन्होंने प्रसारण की शुरूआत छत्तीसगढ़ के लोकप्रिय संत कवि स्वर्गीय श्री पवन दीवान को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्हें छत्तीसगढ़ का अनमोल हीरा और छत्तीसगढ़ महतारी का सपूत बताया। मुख्यमंत्री ने स्कूल कॉलेजों की परीक्षाओं के नतीजों में असफल विद्यार्थियों से निराश नहीं होने की अपील करते हुए उनका हौसला बढ़ाया। मुख्यमंत्री ने छात्र-छात्राओं से यह भी कहा- यदि आपको कोई शिकायत हो, कोई संदेह हो  आपके पेपर और आपके नम्बर के बारे में यदि आपको लगता है, आपके साथ बेइंसाफी हुई है, तो आप मुझसे सीधे संपर्क कर सकते हैं। मेरा टेलीफोन नम्बर 0771-2331001 है। आपकी समस्याओं को मैं सुनुंगा, जितना भी आवश्यक होगा मैं निश्चित ही आपकी मदद करूंगा।

मुख्यमंत्री ने ‘रमन के गोठ’ की आज की कड़ी में आगामी एक अप्रैल से शुरू हो रहे नये वित्तीय वर्ष 2016-17 के मुख्य बजट का भी उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि 70 हजार करोड़ रूपये से ज्यादा राशि के इस बजट में सबसे अधिक जोर ‘शिक्षा पर दिया गया है। शिक्षा के लिए इस बजट में 13 हजार करोड़ रूपये से ज्यादा राशि रखी गई है। सूखा पीडि़त किसानों की मदद के लिए 2 हजार करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। लगभग 150 करोड़ रूपये उन्हें निःशुल्क धान बीज देने के लिए रखे गए हैं। स्वच्छ भारत अभियान के लिए बजट में 700 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है। इसमें से 400 करोड़ रूपए गांवों और 300 करोड़ रूपए शहरों में खर्च किए जाएंगे। मुख्यमंत्री अपनी सरकार की इस बजट को ‘सबके साथ सबका विकास’ की अवधारणा के अनुरूप छत्तीसगढ़ की ढाई करोड़ जनता के लिए नई उम्मीद जगाने वाला बताया।

समाचार क्रमांक 495

Date: 
13 Mar 2016