Homeबैकुण्ठपुर : सूखा प्रभावित किसानों को राहत दिलाने सरकार वचनबद्ध ग्रामीणों, जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों ने सुनी ‘‘रमन की गोठ‘‘

Secondary links

Search

बैकुण्ठपुर : सूखा प्रभावित किसानों को राहत दिलाने सरकार वचनबद्ध ग्रामीणों, जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों ने सुनी ‘‘रमन की गोठ‘‘

Printer-friendly versionSend to friend

      
बैकुण्ठपुर 08 नवम्बर 2015

प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ का तृतीय कड़ी को आज प्रातः 10.45 से 11 बजे के मध्य जिला मुख्यालय के अलावा जिले के सभी विकासखण्ड मुख्यालयों, नगरीय निकायों और सभी ग्राम पंचायतों के ग्रामीणों ने तत्लीनता से सुने। जिसका प्रसारण आकाषवाणी के सभी केन्द्रो के साथ-साथ, एफएम रेडियों, आईबीसी 24, ई.टी.व्ही, जी.टी.व्ही, स्वराज एक्सप्रेस एवं साधना न्यूज के द्वारा किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ के तीसरी कड़ी का प्रसारण आकाषवाणी (रेडियो) के माध्यम से किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ में प्रदेष के सभी लोंगों को दिवाली, गोवर्धन पूजा, भाईदूज, कार्तिक पूर्णिमा और गुरूनानक जयंती की बधाई और शुभकामनाएं दी। कार्यक्रम में नगरपालिका बैकुण्ठपुर के अध्यक्ष श्री शैलेष षिवहरे, श्री शैलेन्द्र शर्मा, श्री अविनाष पाठक, श्री मंगलेष्वर राजवाड़े आदि श्रोताओं ने मुख्यमंत्री द्वारा रमन के गोठ के माध्यम से मिली बधाई और शुभकामना पर खुषी व्यक्त करते हुए कहा कि प्रदेष के मुखिया जन-जन की भावनाओं को समझतें है। उन्होंने सूखा प्रभावित किसानों की ध्यान रखते हुए लगभग 4 हजार करोड़ रूपए का राहत पैकेज तैयार कर भारत सरकार से राषि की मांग की गई है। जो प्रषंसनीय है। मुख्यमंत्री ने ‘‘रमन के गोठ‘‘ श्रोताओं द्वारा प्रेषित पत्रों का जवाब देते हुए उन्हें पत्र भेजने के लिए धन्यवाद भी दिया।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने अपनी रेडियों वार्ता रमन के गोठ में प्रदेष के अकाल पीड़ित और ओला पीड़ित किसानों के प्रति अपनी सहानभूति प्रगट करते हुए उन्हें भरोसा दिलाया कि उन्हें राहत पहुंचाने के लिए कई कदम उठाए जा रहे है। डॉ. सिंह ने कहा कि प्रदेष की 93 तहसीलों को पहले ही सूखा ग्रस्त घोषित किया गया है। इसके अतिरिक्त नजरीय आनावारी रिपोर्ट के आधार पर 17 और तहसीलों को भी सूखाग्रस्त घोषित किया गया है। केन्द्रीय अध्ययनदल का प्रभण भी सूखाग्रस्त क्षेत्रों में हो चुका है। उन्होंने कहा कि लगभग 4 हजार करोड़ रूपए का राहत पैकेज तैयार कर भारत सरकार से राषि की मांग की गई है। जहां तक सूखा प्रभावित क्षेत्रों में किसानों को राहत पहुंचाने का विषय है सरकार स्थिति के प्रति पूरी तरह जागरूक है और प्रभावित किसानों को राहत पहुंचाने के लिए वनचबद्ध है। उन्होंने कहा कि आगामी खरीफ फसल में सूखाग्रस्त क्षेत्रों के किसानों को बीज की कोई समस्या न हो इसके लिए प्रभावित क्षेत्र के लगभग 22 लाख किसानों को एक क्विंटल तक धान का बीज निःषुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। इसके साथ ही सूखा प्रभावित क्षेत्रों के किसानों को जीवन ज्योति योजना के तहत् 7 हजार 5 सौ मुफ्त बिजली के स्थान पर 9 हजार यूनिट बिजली निःषुल्क दी जाएगी। प्रत्येक सूखा प्रभावित किसानों को कुल मिलाकर लगभग 30 हजार रूपए की बिजली निःषुल्क दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि सूखा प्रभावित क्षेत्रों में रोजगार के अभाव में पलायन की स्थिति न हो इस उद्देष्य से अतिरिक्त रोजगार के अवसर भी उपलब्ध कराए जा रहे है। जिसमें महात्मा गांधी राष्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तहत् 100 दिन के स्थान पर 150 दिन का रोजगार दिया जाएगा।
उन्होंने कहा कि खरीफ विपणन वर्ष 2015-16 में समर्थन मूल्य नीति पर धान खरीदी की चौकस व्यवस्था की गई है। चालू खरीफ विपणन वर्ष में धान खरीदी 16 नवंबर से 31 जनवरी 2016 तक (लगभग ढाई माह तक) की जाएगी। यह खरीदी सहकारी समितियों के एक हजार नौ सौ छिहत्तर उपार्जन केन्द्रो पर नगद और लिंकिंग होगी। उन्होंने कहा कि पिछले साल की तुलना में इस वर्ष 71 हजार ज्यादा किसान पंजीकृत हुए है। उन्हें मिलाकर 13 लाख 23 हजार किसानों का पंजीयन किया गया है। मुख्य मंत्री ने कहा कि इस वर्ष कामन धान के लिए समर्थन मूल्य 1410 रूपए प्रति क्विंटल और ग्रेड ए धान के लिए एक हजार 450 रूपए प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने मासिक रेडियो वार्ता रमन के गोठ के तीसरी कड़ी में जनता को यह विष्वास दिलाया कि छत्तीसगढ़ के नौनिहालों के भविष्य को लेकर पूरी तरह सतर्क है। ताकि उन्हें उच्च स्तर की उत्कृष्ठ षिक्षा मिले और वे राष्ट्रीय स्तर के प्रतिस्पर्धाओं में सफल हो सके। इसे ध्यान में रखते हुए डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम षिक्षा गुणवत्ता अभियान शुरू किया गया है। जिसके अच्छे परिणाम सामने आने की संभावना है। मुख्यमंत्री ने गरियाबंद जिले के फिंगेष्वर विकासखण्ड में विगत दिनों हुई दुर्घटना का उल्लेख किया और उन्होंने दिवंगत बच्चों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उनके शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना प्रगट की। मानस भवन में आयोजित कार्यक्रम में जिले के पुलिस अधीक्षक श्री बी.एस. धु्रव, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री संजीव झा, नगरपालिका परिषद के मुख्य नगरपालिका अधिकारी श्री एम.एस. टेकाम, जिला लोक षिक्षा समिति के परियोजना अधिकारी श्री उमेष जायसवाल सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधि और नगरवासी उपस्थित थे।


समाचार 1370/फोटो क्र. 01/2015/लहरे
 

Date: 
08 Nov 2015