Homeमहासमुंद : जिले के अनेक स्थानों पर रमन वार्ता की गुज : अनेक दुर्गा पंडालों सहित ग्राम भोरिंग में पंचायत पदाधिकारी एवं बिरकोनी में ग्रामीणों ने उत्साह से सुना

Secondary links

Search

महासमुंद : जिले के अनेक स्थानों पर रमन वार्ता की गुज : अनेक दुर्गा पंडालों सहित ग्राम भोरिंग में पंचायत पदाधिकारी एवं बिरकोनी में ग्रामीणों ने उत्साह से सुना

Printer-friendly versionSend to friend

महासमुंद, 09 अक्टूबर 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की रेडियो वार्ता रमन के गोठ कार्यक्रम की 14 वीं कड़ी का प्रसारण आज यहां रविवार को सवेरे 10.45 बजे से 11.05 बजे तक प्रसारित हुई। राज्य के आकाशवाणी केन्द्र, सभी एफ.एम. रेडियो चैनल सहित सभी निजी चैनलों में इसका प्रसारण किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के मासिक रेडियो वार्ता से दूर दराज के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को राज्य शासन के नवीनतम कदमों की सीधेे जानकारी मिल रही है। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने अपने संबोधन में प्रदेश के सभी लोगों को शारदीय नवरात्रि के साथ -साथ 11 अक्टूबर को मनाए जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय बालिका दिवस की भी शुभकामनाएं दी। उन्होंने विजयादशमी, करवाचौथ, धनतेरस और दीपावली सहित एक नवम्बर को मनाए जाने वाले छत्तीसगढ़ राज्य स्थापना दिवस ’राज्योत्सव’ के लिए भी प्रदेशवासियों को बधाई दी।         
                इसी कड़ी में जिला मुख्यालय से लगे ग्राम भोरिंग के ग्रामीणों ने पंचायत भवन में एकत्रित होकर उत्साह के साथ रमन के गोठ सुना और मुख्यमंत्री की इस अभिनव पहल की काफी सराहना की और कहा कि मुख्यमंत्री सीधे जनता से संवाद कर उनके सुख-दुख को जानने का प्रयास कर रहे है। सरकार की नई-नई योजनाओं की जानकारी देकर इससे अधिक से अधिक लाभ लेने की बात कह रहे है। इस अवसर पर सरपंच श्रीमती बेदमति साहू, उप सरपंच श्री गणेश राम साहू, पंच श्री शारदा प्रकाश, मनोज कुमार, देवनाथ साहू, सुखराम, मिलाउराम, अशोक कुमार जलक्षत्री, राहुल मन्नाडे सहित गांव के प्रबुद्ध नागरिक बड़ी संख्या में मौजूद थे। इसी प्रकार ग्राम बिरकोनी में नवरात्रि के अवसर पर उपस्थित दुर्गा पंडाल में लोगों ने रमन के गोठ सुना और किसानों और समाज के सभी वर्ग के लोगों के लिए बनाए गए जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी ली। पिथौरा विकासखंड के ग्राम बुंदेली, भुरकोनी में भी लोगों ने उत्साह के साथ रमन के गोठ सुना। इसी प्रकार जिले के लोक शिक्षा केन्द्र, पंचायत भवन, सामुदायिक भवन एवं कम्प्यूनिटी भवन में रमन के गोठ कार्यक्रम लोगों ने सुना।
                  डॉ. रमन सिंह ने अपनी रेडियो वार्ता में महिला सशक्तिकरण के संदर्भ में राज्य में महिलाओं की बेहतर स्थिति और उनके सामाजिक, आर्थिक विकास के लिए प्रदेश सरकार द्वारा उठाए गए कदमों की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने कहा-नारी सम्मान की रक्षा के लिए अपने घरों में शौचालय का होना और इसके उपयोग की आदत डालना सबसे जरूरी है, मैं चाहूंगा कि पुरूष स्वयं इसकी पहल करें। उन्होंने समृद्धि को स्वच्छता से जोड़ने की भारतीय परम्परा का उल्लेख करते हुए दीपावली को स्वच्छता के अवसर के रूप में देखने की जरूरत पर भी बल दिया। आने वाले राज्योत्सव 2016 के संदर्भ में उन्होंने कहा-भारत रत्न, पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी हमें राज्य की सौगात दी है। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में महिलाओं की बेहतर सामाजिक स्थिति का जिक्र करते हुए कहा-राज्य के 27 में से 13 जिलों में तो महिलाओं की संख्या पुरूषों से भी ज्यादा है। यह छत्तीसगढ़ में महिलाओं की अच्छी स्थिति का प्रतीक है। इसके साथ ही यह राज्य में कन्या जन्म को मिलने वाले सम्मान, महिलाओं के प्रति बराबरी की भावना और उनकी सुविधाओं और उनके अधिकारों के प्रति जागरूकता का भी परिचायक है। डॉ. सिंह ने यह भी कहा-प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू किए गए ’बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ अभियान को छत्तीसगढ़ में हम सब मिलकर जनआंदोलन बना रहे है। कन्याओं को संरक्षण देने के लिए छत्तीसगढ़ सरकार ने ’नोनी सुरक्षा योजना’ की शुरूआत की है। इसके अंतर्गत गरीबी रेखा श्रेणी के परिवारों में जन्म पर उनके नाम से बैंक में खाता खोलकर राशि जमा की जाती है।
               डॉ. रमन सिंह ने कहा- राज्य के हर जिले में महिलाओं के लिए टोल फ्री हेल्पलाईन 1091 शुरू की गई है, जिसमें किसी भी संकट के समय कोई भी बहन निःसंकोच फोन लगाकर अपनी शिकायत दर्ज करवा सकती हैं, ताकि उन्हें जल्द मदद मिल सके। उन्होंने कहा कि महिलाओं के लिए रोजगार और स्वावलंबन की दिशा में भी हमने कई इंतजाम किए हैं। सस्ती ऋण सुविधा, राशन दुकान, आंगनबाड़ी, कुपोषण मुक्ति, गणवेश सिलाई जैसी योजनाओं से महिला स्व-सहायता समूहों को जोड़ा गया है। डॉ. रमन सिंह ने ’रमन के गोठ’ में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत मिशन की चर्चा करते हुए कहा-दीपावली में धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी जी की पूजा होती है। डॉ. सिंह ने कहा- हमारे यहां समृद्धि को स्वच्छता से जोड़ने की परम्परा है, इसलिए दीपावली के पहले घरों, दुकानों, दफ्तरों और कारखानों आदि जगहों की लिपाई, पोताई की जाती है। इसी प्रकार जिले अनेक स्थानों में रमन के गोठ सुनकर लोगों ने इसकी काफी सराहना की और इसे आम जनताओं से जुड़ने की अच्छी पहल बताया।


   क्रमांक 38/951/हेमनाथ
 

Date: 
09 Oct 2016