Homeमहासमुंद : नरतोरा के ग्रामीणों ने सामूहिक रूप से सुनी रमन वार्ता

Secondary links

Search

महासमुंद : नरतोरा के ग्रामीणों ने सामूहिक रूप से सुनी रमन वार्ता

Printer-friendly versionSend to friend

महासमुंद, 11 दिसम्बर 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता की 16 वीं कड़ी का प्रसारण आज महासमुंद जिले में भी बड़ी दिलचस्पी से सुना गया। महासमुंद विकासखण्ड के ग्राम नरतोरा स्थित राशन दुकान में ग्राम पंचायत की ओर से रमन के गोठ सुनने और सुनाने की खास इंतजाम की गई थी। सरपंच श्रीमती लक्ष्मी पटेल सहित ग्रामीण महिलाओं और बुजुर्गो ने बड़े ध्यान से दरी में बैठकर सामूहिक रूप से ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम सुने। सरपंच श्रीमती पटेल ने सुनने के बाद अपनी प्रतिक्रिया देते हुए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह को तीसरे कार्यकाल के तीन साल पूर्ण होने पर बधाई और शुभकामनाएं दी।   
 उन्होंने कहा कि किसानों और गरीबों के उत्थान के लिए डॉ. सिंह के नेतृत्व में राज्य सरकार ने पिछले तेरह साल में काफी काम किए हैं। शून्य प्रतिशत ब्याज पर किसानों को ऋण प्रदान करने का ही कमाल है कि किसानों में आज संपन्नता है। किसान क्रेडिट कार्ड के जरिए बैंक का काम-काज भी सरल हुआ है। पैसा निकालने और जमा करने में किसानों को अब कोई दिक्कत नहीं है। उन्होंने तेन्दूपत्ता के दाम में बढ़ोतरी सहित इस काम में लगे मजदूरों को बीमा, चरणपादुका सहित अन्य सुविधाओं के लिए डॉ. सिंह को साधुवाद दिया।  गांव के डेढ़ एकड़ के किसान श्री महेश ने कहा कि जात-पात से दूर डॉ. रमन सिंह ने सभी गरीबों के लाभ के लिए योजनाएं बनाई और क्रियान्वित की है। उनके द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं और सिंचाई सुविधाओं के विस्तार के कारण ही हमारे गांव से लोगों का पलायन थमा है। पिछले पांच-सात साल से लोग ईंट-भट्ठा कमाने नहीं जाते हैं। वे अपने खेतों में और रोजगार गारण्टी योजना के अंतर्गत काम करते हैं। बेटियों की शिक्षा और शादी में सहयोग ग्रामीणों के लिए बड़ी राहत लेकर आई है। लगभग 65 साल की बुजुर्ग महिला श्रीमती रामबाई ने बताया है कि मैं अपने जीवन काल में बहुत तेन्दूपत्ते की तोड़ाई की है। लेकिन अब संग्राहकों को जितनी सुविधा राज्य सरकार दे रही है, पहले नहीं मिलती थी। बीए की पढ़ाई कर रही छात्रा कुमारी चंद्रकला ने कहा कि साइकिल मिलने के कारण ही वह अपनी शिक्षा जारी कर पाई। पन्द्रह किलोमीटर दूर बागबाहरा में वह पढ़ने जाती है। उन्होंने कैशलेस भुगतान और ऑनलाईन लेने देन को बढ़ावा देने के राज्य और केन्द्र सरकार की योजना की सराहना की। उन्होंने कहा कि कालाधन से लड़ने के लिए नोटबंदी का उपाय अच्छा है। लोगों को भविष्य में इससे जरूर फायदा मिलेगा।
डॉ. सिंह ने आज की अपनी रेडियो वार्ता में राज्य सरकार की उन योजनाओं का विशेष रूप से उल्लेख किया, जिनसे गरीबों, महिलाओं, स्कूली बच्चों और आम नागरिकों के जीवन में परिवर्तन आया है। उन्होंने अपनी सरकार के विगत तेरह वर्षों की प्रमुख योजनाओं और उपलब्धियों का भी ब्यौरा भी दिया। डॉ. सिंह ने मुख्यमंत्री खाद्यान सहायता योजना के तहत 58 लाख 80 हजार परिवारों के लिए चावल, नमक और चना वितरण की योजना और किसानों को खेती के लिए ब्याज मुक्त ऋण सुविधा का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा राज्य के किसानों को पहले खेती के लिए 14 प्रतिशत ब्याज पर ऋण मिलता था। अब उन्हें शून्य ब्याज पर ऋण मिल रहा है। यह किसानों के लिए बड़ी राहत है। इसके फलस्वरूप कृषि ऋणों का वितरण 150 करोड़ रूपए से बढ़कर लगभग तीन हजार करोड़ तक पहुंच गया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि समर्थन मूल्य पर किसानों से धान खरीदी हमारी तीसरी बड़ी योजना है। विगत तरेह साल में पांच करोड़ 60 लाख मीटरिक टन धान खरीद कर किसानों को 53 हजार करोड़ रूपए का भुगतान किया गया है। डॉ सिंह ने कहा कि जब मैं दिल के करीब योजना की बात करता हॅूं तो मुझे मुख्यमंत्री बाल हृदय सुरक्षा योजना सबसे ज्यादा पसंद आती है, जिसका सबसे ज्यादा स्वागत हुआ है। उन्होंने कहा इस योजना में हजारों बच्चों के हृदय के ऑपरेशन हुए है और आज वे सुरक्षित जीवन जी रहे हैं। उनके चेहरों पर मुस्कान है। यह मुस्कान छत्तीसगढ़ के भविष्य की मुस्कान बनेगी। डॉ. सिंह ने कहा टोल फ्री नम्बर 102 पर आधारित महतारी एक्सप्रेस और 108 पर आधारित संजीवनी एक्सप्रेस एम्बुलेंस के जरिये लाखों परिवारों को सुरक्षा मिली है। जवानों को सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली मौतों से बचाया गया है। इसी प्रकार जिले के लोक शिक्षा केन्द्र, पंचायत भवन, सामुदायिक भवन एवं कम्प्यूनिटी भवन में रमन के गोठ कार्यक्रम लोगों ने सुना और सराहना की। 

     

क्रमांक 34/1159/पटेल

 

Date: 
11 Dec 2016