Homeमहासमुंद : मुख्यमंत्री की रेडियोवार्ता : ग्रामीणों को खूब रास आया मुख्यमंत्री का छत्तीसगढ़ी में बात करना

Secondary links

Search

महासमुंद : मुख्यमंत्री की रेडियोवार्ता : ग्रामीणों को खूब रास आया मुख्यमंत्री का छत्तीसगढ़ी में बात करना

Printer-friendly versionSend to friend

महासमुंद 11 अक्टूबर 2015

मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने आज आकाशवाणी के माध्यम से राज्य की जनता से अपने विचारों का साझा किया, इसे लोगों ने काफी पसंद किया। खासकर ग्रामीणों को मुख्यमंत्री का छत्तीसगढ़ी भाषा में तीज, त्यौहारों की बात करना खूब रास आया। रमन के गोठ की दूसरी कड़ी का प्रसारण आज सुबह 10.45 बजे से 11 बजे तक किया गया। यह कार्यक्रम जिले के गांव-गांव में सुना गया।
            महासमुंद विकासखंड के ग्राम चितमखार में ग्रामीणों ने रमन के गोठ कार्यक्रम सुना और इस गांव को आज स्वच्छता क्रांति दिवस के अवसर पर खुले में शौच मुक्त गांव घोषित किया गया है। इस कार्यक्रम में शामिल होने वाले श्री दाउराम निषाद एवं श्री विशाल राम साहू ने बताया कि छत्तीसगढ़ के मुखिया द्वारा छत्तीसगढ़ी में बात करना काफी अच्छा लगा। छत्तीसगढ़ी भाषा में बातचीत ज्यादा आसानी से समझ में आती है। किसान श्री कार्तिकेश्वर सिंह राय ने कहा कि इस कार्यक्रम के जरिए उन्हें अल्पवर्षा से प्रभावित किसानों के हित में किए जा रहे कार्यों की जानकारी मिली है। महासमुंद के साहित्यकार श्री बंधु राजेश्वर खरे ने कहा कि मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ के सांस्कृतिक, सामाजिक और तीज त्यौहार की चर्चा सहित सभी समसामयिक पहलुओं को छूआ है। बागबाहरा के समाजसेवी श्री विश्वनाथ पाणीग्राही ने कहा कि रमन के गोठ कार्यक्रम से जनता को सीधे मुख्यमंत्री से सरकार के कार्यों की जानकारी मिल रही है। छत्तीसगढ़ी भाषा के प्रयोग से इस कार्यक्रम के प्रति ग्रामीणों का आत्मीय लगाव उत्पन्न हो रहा है। समाज सेवी श्री रेवाराम ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री मुद्रा योजना वास्तव में छोटे व्यवसायियों के लिए वरदान है, इससे लोगों को अपने व्यवसाय को बढ़ाने में मदद मिलेगी। कोमाखान के साहित्यकार श्री विजय शर्मा ने कार्यक्रम को अभिनव प्रयास बताते हुए कहा कि इससे समाज के सभी वर्गों के भलाई के लिए संचालित कार्यक्रमों की जानकारी मिल रही है। ग्राम सिरको के श्री गजेन्द्र सिंह सिदार ने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा सूखे की स्थिति को देखते हुए इस वर्ष राज्योत्सव मनाने का निर्णय तथा राज्य स्थापना दिवस पर केवल एक दिन का राज्य अलंकरण समरोह आयोजित करना स्वागत योग्य कदम है।

 

क्रमांक 37/829/केशरवानी -हेमनाथ

 

Date: 
11 Oct 2015