Homeमहासमुंद : रमन के गोठ कार्यक्रम : किसानों ने सामूहिक रूप से सोसायटी में सुना रमन के गोठ

Secondary links

Search

महासमुंद : रमन के गोठ कार्यक्रम : किसानों ने सामूहिक रूप से सोसायटी में सुना रमन के गोठ

Printer-friendly versionSend to friend

खेत की मेड़ पर भी रमन वार्ता की गुंज           

महासमुंद, 10 जुलाई 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की रेडियो वार्ता रमन के गोठ कार्यक्रम की 11 वीं कड़ी का प्रसारण आज यहां रविवार को सवेरे 10.45 बजे से 11.05 बजे तक प्रसारित हुई। राज्य के आकाशवाणी केन्द्र, सभी एफ.एम. रेडियो चैनल सहित सभी निजी चैनलों में इसका प्रसारण किया गया। रमन के गोठ की 11वीं कड़ी का प्रसारण सुनने लोगांे में उत्साह का वातावरण रहा। इसी कड़ी में जिला मुख्यालय से लगे ग्राम बरोंडाबाजार में किसानों ने सोसायटी भवन में एकत्र होकर सामूहिक रूप से रमन वार्ता सुनी। कलेक्टर श्री उमेश कुमार अग्रवाल भी उनका उत्साह वर्धन करने के लिए विशेष रूप से उपस्थित थे। बरोंडा बाजार के खेतिहर मजदूरों ने भी रोपाई का काम कुछ समय के लिए रोककर खेत की मेड़ पर रमन की रेडियो वार्ता सुनी और उसकी काफी सराहना की। जिले के ग्राम पंचायतों, लोक शिक्षण केन्द्रों में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के गोठ कार्यक्रम को सुनने की व्यवस्था की गई थी।
              बरोंडाबाजार के किसान श्री निहाल देवांगन ने रमन वार्ता सुनने के बाद अपने प्रतिक्रिया में कहा कि राज्य सरकार किसानों को काफी प्राथमिकता दे रही है। खेती की अनिश्चिता को दूर करने के लिए राज्य सरकार बड़ी प्रभावी फसल बीमा योजना लागू की है। सरपंच श्रीमती द्रोपती साहू ने कहा कि नियमित रूप से रमन वार्ता सुनती हूॅं, उनकी बातें समाज के लिए बहुत उपयोगी और शिक्षाप्रद है। हमे अपने जीवन में उनकी सीख को अमल करना चाहिए। इसी तरह गांव के मजदूर श्री हेमलाल ने कहा कि वे रेडियो के जरिए सभी तरह के कार्यक्रम सुनते है। रमन के गोठ शुरू होने के पहले अपने बच्चों को पहले से शांत रहने के लिए ताकिद कर देते हैं, ताकि उन्हें कोई व्यवधान न हो।
             मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने रमन के गोठ कार्यक्रम में कहा कि छत्तीसगढ़ में हमने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपने को पूरा करने के लिए कौशल उन्नयन पर विशेष जोर दिया है। इस योजना के तहत अब तक छत्तीसगढ़ के तीन लाख युवाओं ने विभिन्न प्रकार के रोजगारमूलक कामकाज का प्रशिक्षण प्राप्त कर वे स्वयं को हुनरमंद बना लिया है। डॉ. सिंह ने प्रदेश के युवाओं को अपने लायक किसी भी व्यवसाय का प्रशिक्षण हासिल करने के लिए अपने जिले के कलेक्टर से सम्पर्क करने को भी कहा। मुख्यमंत्री ने जनता को विश्वास दिलाया कि उनकी सरकार फर्जी बैंकिंग और फर्जी चिटफंड कम्पनियों से निपटने के लिए पूरी तरह से सतर्क है। इसके लिए राज्य सरकार ने कानून भी बनाया है, जिसके तहत उन वित्तीय संस्थाओं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और दोषियों को कड़ी सजा देने का प्रावधान है, जो आम नागरिकों को ठग कर उनका पैसा हड़प लेते हैं। उन्होंने कहा कि इस बारे में कलेक्टर के कार्यालय में जाकर पूछताछ कर यह समझ ले कि ऐसे व्यक्ति अथवा ऐसी कम्पनी को पैसा देना उचित होगा या नहीं। अपनी मासिक रेडियो वार्ता में डॉ. रमन सिंह ने किसानों के लिए बारिश के इस मौसम के मंगलमय होने की भी कामना की। उन्होंने किसानों से आग्रह किया कि वे कृषि विभाग और कृषि विशेषज्ञों की सलाह लेकर सही समय पर बोनी करें और खाद तथा बीज भी सही अनुपात में डालें। मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने किसानों से प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का भी लाभ उठाने की अपील की। किसान यह ध्यान रखें कि इस योजना में शामिल होने की अंतिम तारीख 31 जुलाई है। मुख्यमंत्री ने किसानों को बताया कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में बैंक तथा सोसायटी से ऋण लेने वाले किसान और ऋण नहीं लेने वाले किसान तथा बटाईदार-किसान भी शामिल हो सकते हैं। यह योजना सिंचित और असिंचित धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, अरहर, मूंग और उड़द की फसल के लिए है। खरीफ फसल के लिए इस योजना में किसानों को सिर्फ दो प्रतिशत का प्रीमियम देना होगा। मुख्यमंत्री ने आज की अपनी रेडियो वार्ता में प्रदेशवासियों को गुरूपूर्णिमा, रथयात्रा, ईद-उल-फितर, डॉ. खूबचंद बघेल जयंती की अपनी ओर से बधाई और शुभकामनाएं दी।
        राज्य के विभिन्न जिलों में शिक्षा के क्षेत्र में स्थानीय स्तर पर हो रहे नए प्रयोगों की भी मुख्यमंत्री ने आज के अपने रेडियो प्रसारण में तारीफ की। उन्होंने कहा-लोक सुराज अभियान के दौरान मुझे बहुत सारे अनुभव हुए और खुशी भी हुई कि शिक्षा के क्षेत्र में बड़ा प्रयोग हमारे ग्रामीण शिक्षक-शिक्षिकाओं द्वारा किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने ’रमन के गोठ’ में गरियाबंद जिले के ग्राम अकलवारा (विकासखण्ड-छुरा) के सरकारी हायर सेकेण्डरी स्कूल के प्राचार्य श्री जी.पी.वर्मा, व्याख्याता श्री एस.के. वर्मा और वरिष्ठ नागरिक श्री पूरन सिंह ठाकुर का विशेष रूप से उल्लेख किया और कहा कि ये लोग हर दिन सवेरे चार बजे उठकर गांव की गलियों में सीटी बजाकर बच्चों को नींद से जगाते हैं और उन्हें पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। ये लोग प्रभात फेरी के समय हाजिरी रजिस्टर भी रखते हैं, ताकि कोई भी बच्चा छूट न जाए और उन्हें कई तरह की मदद करते हैं, जैसे रविवार को विशेष कक्षाएं लगाना, बीमार बच्चों को अस्पताल ले जाना, पढ़ाई में कमजोर बच्चों को जूते, चप्पल और आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराना, ग्रामीणों को शराब तथा अन्य नशे के सेवन से दूर रहने की सलाह देना आदि। डॉ. रमन सिंह ने अपनी रेडियो वार्ता में प्रदेश सरकार की युवा नीति की तैयारी और मुख्यमंत्री बाल भविष्य सुरक्षा योजना के तहत चल रहे प्रयास आवासीय विद्यालयों के बच्चों के बेहतर प्रदर्शन का भी जिक्र किया।  


क्रमांक 41/441/पटेल
        

 

Date: 
10 Jul 2016