Homeमहासमुंद : रमन के गोठ कार्यक्रम: शासन के निर्णयों और कार्यक्रमों की चर्चा अब खेत खलिहानों पर

Secondary links

Search

महासमुंद : रमन के गोठ कार्यक्रम: शासन के निर्णयों और कार्यक्रमों की चर्चा अब खेत खलिहानों पर

Printer-friendly versionSend to friend

महासमुंद 14 फरवरी 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के मासिक रेडियो वार्ता से दूर दराज के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को राज्य शासन के नवीनतम कदमों की सीधेे जानकारी मिल रही है। जिला मुख्यालय से लगे ग्राम बेलसोंडा  में मनरेगा में मुक्तिधाम पहुंच मार्ग में काम करने वाले मजदूरों ने रेडियो वार्ता का प्रसारण तल्लीनता से सुना। इसके अलावा जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में भी ग्रामीणों ने इस प्रसारण को सुनकर राज्य शासन की योजनाओं और नीतियों के संबंध में गांव की चौपाल और खेत खलिहानों में इसकी चर्चा करते देखे गए।
         ग्राम बेलसोंडा के श्री केशव प्रसाद देवांगन, श्री मीलूराम निर्मलकर और श्री संतुराम चंद्राकर सहित कई ग्रामीणों ने कहा कि मुख्यमंत्री की मासिक रेडियो वार्ता से युवाओं विद्यार्थियों और तेन्दूपत्ता संग्रहण से जुड़े लोगों के लिए नई सुविधाओं और व्यवस्थाओं की इससे जानकारी मिली है। इस कार्यक्रम से छत्तीसगढ़ सरकार  द्वारा प्रदेश की जनता की भलाई के लिए लिए गए निर्णयों और योजनाओं की जानकारी लगातार मिल रही है। ग्रामीणों ने बताया कि कार्यक्रम में सीधे मुख्यमंत्री द्वारा सरकार की नीतियों एवं कार्यक्रमों से जुड़ी बातों की चर्चा की जाती है, इससे लोगों को ज्यादा भरोसा मिलता है। रेडियों प्रसारण के जरिए शासन की नीतियों कार्यक्रम की जानकारी आसानी से मिल जाती है, पहले इन सब बातों की जनकारी ग्रामीणों तक पहुंचने में महीनों का समय लग जाता था। ग्राम मनकी के श्री भूपेन्द्र नेताम ने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने पैरी सोंढुर और महानदी के संगम पर हर वर्ष मांघ पूर्णिमा में आयोजित होने वाले राजिम कुंभ में संतो के समागम का लाभ उठाने के लिए न्योता दिया है, इससे राजिम कुंभ के प्रति लोगों का जुड़ाव और बढ़ेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में बोर्ड परीक्षाओं के लिए विद्याथियों को उत्साह से जुटने और सफलता के लिए अपनी शुभकामनाएं देकर विद्यार्थियों को और अधिक मेहनत करने की प्रेरणा दी है। तेन्दू पत्ता संग्रहण दर बढ़ने से ग्राम झाल खम्हरिया के वनवासी भी प्रसन्न हैं। फड़ मुंशी श्री नंद राम निषाद ने बताया कि शासन द्वारा वनवासियों को लघु वनोपज के संग्रहण में उनकी मेहनत का पूरा लाभ दिलाने एवं इस कार्य में बिचौलियों से बचाने के लिए पूरे इंतजाम किए जा रहे हैं। इस सीजन में बढ़ी हुई संग्रहण दर को लेकर गांव में उत्साह जनक वातावरण है।
          रमन के गोठ कार्यक्रम पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कक्षा 12वीं में पढ़ने वाली छात्रा कुमारी पिंकी जगत और कुमारी मीनू सिदार ने दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षाओं में विद्यार्थियों को ज्यादा दूर जाना न पड़े इसके लिए परीक्षा केन्द्रों की संख्या बढ़ाने पर प्रसन्नता व्यक्त की है। इससे परीक्षा देने के लिए ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा। श्रीमती सोन कुंवर लहरे ने बताया कि उन्हें रमन के गोठ कार्यक्रम के जरिए सखी वन स्टाप सेन्टर की जानकारी मिली । उन्होंने कहा कि पीडित महिलाओं को इस सेन्टर से काफी सुविधाएं मिलेगी। महिलाओं को कानूनी सहायता, पुलिस सहायता एवं परामर्श जैसी सुविधाएं मिलने पर महिलाओं के प्रति सुरक्षा का वातावरण बनेगा। पीडित महिलाओं के लिए यह केन्द्र उपयोगी सिद्ध होगा। उल्लेखनीय है पीडित महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाने के लिए रायपुर में देश का पहला वन स्टाप सेन्टर ‘सखी’ बनाया गया है।


क्रमांक 54/1296/केशरवानी

 

Date: 
14 Feb 2016