Homeमुंगेली : ग्राम भालापुर और करही के लोगों ने उत्साहपूर्वक सुना रमन के गोठ : मुख्यमंत्री ने नोटबंदी को साहसिक और क्रांतिकारी कदम बताया

Secondary links

Search

मुंगेली : ग्राम भालापुर और करही के लोगों ने उत्साहपूर्वक सुना रमन के गोठ : मुख्यमंत्री ने नोटबंदी को साहसिक और क्रांतिकारी कदम बताया

Printer-friendly versionSend to friend

मुंगेली 08 जनवरी 2017

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियोवार्ता रमन के गोठ की 17वीं कड़ी का प्रसारण आज प्रातः 10.45 बजे से 11.05 बजे तक प्रदेश के सभी आकाशवाणी केंद्रों के माध्यम से किया गया। मुंगेली जिले के ग्राम भालापुर और करही सहित अन्य ग्राम पंचायतों, चौक-चौराहों और दुकानों में लोगों ने उत्साह पूर्वक रमन के गोठ को सुना। बालक छात्रावास के विद्यार्थियों ने भी उमंग और उत्साह के साथ रमन के गोठ को सुना। मुख्यमंत्री ने रेडियोवार्ता में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा किए गए नोटबंदी के फैसले की सराहना करते हुए कहा कि उनके इस ऐतिहासिक, साहसिक, क्रांतिकारी और दूरदर्शी पहल से बेईमानों, षड़यंत्रकारियों और स्वार्थी तत्वों के हौसले पस्त हुए हैं जबकि ईमानदार और देशभक्त जनता का आत्म विश्वास बढ़ा है। उन्होंने अपनी रेडियोवार्ता को मुख्य रूप से नोटबंदी के फैसले और कैशलेस अर्थव्यवस्था पर केन्द्रित किया। मुख्यमंत्री ने दुकानों, हाट-बाजारों, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों और अन्य संस्थानों में किए जा रहे कैशलेस लेनदेन की प्रशंसा की। उन्होंने राज्य में नगदी रहित अथवा कैशलेस लेनदेन को बढ़ावा देने के लिए चल रहे प्रयासों का विस्तार से उल्लेख किया और कहा कि कैशलेस भारत के निर्माण में छत्तीसगढ़ अग्रणी भूमिका निभाएगा।
    मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने रेडियोवार्ता में बताया कि कैशलेस लेनदेन को प्रोत्साहन देने के लिए छत्तीसगढ़ में अब तक 15 लाख लोग प्रशिक्षित होकर राज्य की डिजिटल आर्मी में शामिल हो चुके हैं। प्रदेश में नगदी रहित अथवा कैशलेस लेन-देन को बढ़ावा देने आम जनता के लिए मोर खीसा मेरी जेब मोबाईल एप्प शुरू किया गया है। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में 11 लाख किसानों को रूपे कार्ड बांटे जा रहे हैं जो किसानों को कैशलेस लेनदेन में मदद करेंगे। राज्य की 12 हजार राशन दुकानों और नौ हजार सामान्य सुविधा केन्द्रों सीएससी को जल्द से जल्द कैशलेस करने का लक्ष्य है। उन्होंने श्रोताओं को बताया कि छत्तीसगढ़ में कैशलेस लेन-देन में लोगों को प्रशिक्षित करने के लिए चलाए गए विशेष अभियान में 20 दिनों में 15 लाख लोगों को प्रशिक्षित किया गया है। जिनमें 14 लाख नागरिक और 1 लाख व्यापारी शामिल हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि कैशलेस लेन-देन में सबसे ज्यादा लोगों को प्रशिक्षण देने वाला छत्तीसगढ़ भारत का पहला राज्य बन गया है।
    मुख्यमंत्री ने बताया कि नोटबंदी का तोहफा जनता को नये आवास ऋणों की ब्याज दर में तीन से चार प्रतिशत तक कमी के रूप में मिलेगा। बैंकों ने पुराने आवास ऋणों की ब्याज दरें भी घटा दी हैं। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने रबी फसल के कृषि ऋणों पर 60 दिनों का ब्याज माफ करने और गर्भवती महिलाओं को 6 हजार रूपए प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण डीबीटी के माध्यम से देने की घोषणा की है। गांव-गांव में बच्चे, महिलाओं और बुजुर्ग जब मोबाइल फोन चलाना सीख लेते हैं तो कैशलेस लेन-देन भी सीख सकते हैं। इसके लिए बहुत पढ़ा-लिखा होने की आवश्यकता नहीं है। मुख्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ में कैशलेस लेनदेन को प्रोत्साहन देने के लिए चल रहे प्रयासों की विस्तार से चर्चा की। मुख्यमंत्री ने मुंगेली जिले का जिक्र करते हुए कहा कि 525 सामान्य सुविधा केन्द्र सीएससी बहुत बढ़िया काम कर रहे हैं जहां किसान पंजीयन, मोबाइल रिचार्ज, पेंशन भुगतान, बिजली बिल भुगतान सहित विभिन्न सुविधाएं कैशलेस ट्रांजेक्शन से मिल रही है। नगर पंचायत सरगांव और ग्राम पंचायत घुण्डूकापा मुंगेली जिले में कैशलेस भुगतान के उदाहरण बन गये।
    ग्राम भालापुर के योगेश, पुरूषोत्तम, यदु राम, रामू और मोहित साहू ने पूछने पर बताया कि रमन के गोठ कार्यक्रम में नोटबंदी और कैशलेस लेनदेन के संबंध में उपयोगी जानकारी मिली है। करही के सुंदर साहू ने बताया कि रमन के गोठ कार्यक्रम का हर माह इंतजार रहता है। मुंगेली शहर के निर्मल गुप्ता ने बताया कि हर माह अपने घर में रमन के गोठ कार्यक्रम को सुनता हूं।

 

Date: 
08 Jan 2017