Homeमुंगेली : बालक छात्रावास के बच्चों ने ‘‘रमन के गोठ’’ सुना : मुख्यमंत्री ने सूखा राहत एवं आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान की दी जानकारी

Secondary links

Search

मुंगेली : बालक छात्रावास के बच्चों ने ‘‘रमन के गोठ’’ सुना : मुख्यमंत्री ने सूखा राहत एवं आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान की दी जानकारी

Printer-friendly versionSend to friend

‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम में युवा उत्सव के संबंध में लोगों को मिली जानकारी


मुंगेली 10 जनवरी 2016

‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम के अंतर्गत आज रविवार को 5 वीं कड़ी का प्रसारण सुबह 10.45 से 11 बजे तक किया गया। मुंगेली जिले के लोगों ने रेडियो और टी.व्ही. के माध्यम से कार्यक्रम को बड़े उत्साह के साथ सुना। मुंगेली के पड़ाव चौक स्थित शासकीय पोस्ट मेट्रिक बालक छात्रावास के बच्चों एवं ग्राम बोकराकछार के बैगा आदिवासियों सहित घर-आंगन, दुकानों में ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम का उत्साह से श्रवण किया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज रविवार को 5 वीं कड़ी में ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम में लोगों से मन की बात कही तथा लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रदेश के 117 तहसीलों को सूखाग्रस्त घोषित किया गया है। सूखाग्रस्त क्षेत्रों में मनरेगा के तहत 150 दिन के स्थान पर अतिरिक्त 50 दिन को मिलाकर 200 दिन मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराया जायेगा। वर्तमान में सूखाग्रस्त क्षेत्रों में मनरेगा के तहत 8 हजार से अधिक पंचायतों में रोजगारमूलक कार्य प्रारंभ कर दिये गये है जिससे 10 लाख लोगों को रोजगार मुहैया कराया जा रहा है। उन्होने कहा कि सूखा प्रभावित क्षेत्रों के किसानों का भू-राजस्व एवं सिंचाई उपकर पूरी तरह माफ कर दिया गया है।
    मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि 20 हजार हेक्टेयर में मक्का उत्पादन के लिये किसानों को 400 मे.टन निःशुल्क मक्का बीज उपलब्ध कराया जायेगा। अल्पकालीन ऋण को मध्यकालीन ऋण में परिवर्तन करने की सुविधा दी गई है। आरबीसी 6 एवं 4 के प्रावधानों के तहत सिंचित एवं असिंचित क्षेत्र के किसानों को राहत राशि दी जायेगी। उन्होने कहा कि मुख्यमंत्री कन्यादान विवाह योजना की राशि दोगुनी कर दी गई है। अब बेटियों के हाथ पीले करने हेतु 15 हजार के स्थान पर 30 हजार रूपये दिया जायेगा। उन्होने किसानों से अपील करते हुए कहा कि पंचायतों में किसान मितान केंद्र की स्थापना की गई है। डॉ. सिंह ने ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम को लोगों को जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश भर में 4 जनवरी से आंगनबाड़ी गुणवत्ता उन्नयन अभियान प्रारंभ किया गया है जो 13 जनवरी 2016 तक चलेगा। इस अभियान के तहत कुपोषण 52 प्रतिशत से 30 प्रतिशत तक लाने में सफलता हासिल की है तथा 50 हजार आंगनबाड़ी केंद्रों में गुणवत्ता में सुधार लाने एवं कुपोषण को 25 प्रतिशत से नीचे लाने का लक्ष्य है। उन्होने कहा कि मंत्रियों, संसदीय सचिव, विधायकों एवं नगरीय निकाय के जनप्रतिनिधियों, पंचायत प्रतिनिधियों के साथ-साथ व्यापक जनभागीदारी से आंगनबाड़ी गुणवत्ता का परीक्षण एवं सुधार का कार्य किये जायेंगे। आंगनबाड़ी गुणवत्ता अभियान के दौरान कुपोषित बच्चों को पोषण आहार का वितरण तथा पोषण मेला का आयोजन भी किया जा रहा है।
    मुख्यमंत्री ने छेरछेरा पुन्नी त्यौहार, मकर संक्रांति एवं 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रदेश की समृद्धि एवं सुशासन के लिये प्रदेशवासियों को बधाई दी। उन्होने कहा कि भारत सरकार द्वारा स्वामी विवेकानंद की जयंती को युवा दिवस के रूप में मनाया जा रहा है। उन्होने कहा कि स्वामी विवेकानंद के छत्तीसगढ़ में दो साल बीता था। रायपुर में युवा उत्सव का आयोजन किया जायेगा। जिसमें 18 सांस्कृतिक विधाओं में कलाकारों द्वारा कार्यक्रम प्रस्तुत किये जायेंगे।
    पोस्ट मेट्रिक छात्रावास के बच्चों हरीश, गुलशन, लुकेश, अनिल, मनमोहन, जगजीवन, राहुल एवं विवेक ने बताया कि ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम बेहद अच्छा लगा। बच्चों ने बताया कि हर माह छात्रावास में ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम को सुनते है। हर माह कार्यक्रम का आयोजन होना चाहिये। सहायक आयुक्त श्री सी.डी. चेलक ने बताया कि हर माह ‘‘रमन के गोठ’’ कार्यक्रम का इंतजार रहता है।


 

Date: 
10 Jan 2016