Homeराजनांदगांव : भर्रेगांव की सभी दुकानों में डिजिटल भुगतान की सुविधा पूरे प्रदेश के लिए प्रेरणा बनेगी: डॉ. रमन सिंह

Secondary links

Search

राजनांदगांव : भर्रेगांव की सभी दुकानों में डिजिटल भुगतान की सुविधा पूरे प्रदेश के लिए प्रेरणा बनेगी: डॉ. रमन सिंह

Printer-friendly versionSend to friend

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने भर्रेगांव वासियों को दी बधाई
जिले की पहली कैशलेस ग्राम पंचायत का
‘रमन के गोठ’ में हुआ जिक्र


    राजनांदगांव 08 जनवरी 2017

  राजनांदगांव विकासखंड की भर्रेगांव ग्राम पंचायत का जिक्र आज मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने रेडियो कार्यक्रम ‘रमन के गोठ’ में विशेष रूप से किया। मुख्यमंत्री ने राजनांदगांव जिले की पहली कैशलेस ग्राम पंचायत बनने का गौरव प्राप्त करने वाली इस ग्राम पंचायत के सभी बड़े-बुजुर्गों, युवाओं, महिलाओं और व्यापारियों को अपनी बधाई और शुभकामनाएं भी दी। उन्होनें अपने रेडियों उद्बोधन में मोबाईल रिपेयरिंग की दुकान संचालित करने वाले दुष्यंत साहू एवं एवन सिन्हा, मेडिकल स्टोर संचालक श्री लोकेश हिरवानी, होटल संचालक श्री घनश्याम चंद्राकर का भी जिक्र किया है।  मुख्यमंत्री ने इन सभी लोगों को ग्राम पंचायत को कैशलेस बनाने के लिए किये गये अपने योगदान के लिए बधाई दी है। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपने बधाई संदेश में कहा है कि भर्रेगांव ग्राम पंचायत में दुकानदारों सहित ग्राहकों ने भी बिना नगदी के मोबाईल फोन के माध्यम से लेनदारी-देनदारी करना शुरू कर दिया है। ग्राम पंचायत की यह पहल पूरे जिले ही नहीं बल्कि पूरे प्रदेश के लिए प्रेरणा देने वाली साबित होगी। मुख्यमंत्री ने अपने निर्वाचन क्षेत्र राजनांदगांव जिले को जल्द से जल्द कैशलेस बनाने के लिए किये जा रहे प्रयासों और इसके लिए मिल रहे जनसहयोग की भी जमकर तारिफ की है। उन्होनें राजनांदगांव जिले को कैशलेस बनाने के लिए व्यापारियों से लेकर आमजनों तक को हर संभव सहायता भी देने का आश्वासन दिया है।
    ग्राम पंचायत के मुख्य चौक में चंद्राकर होटल एवं पान सेन्टर चलाने वाले श्री धनश्याम चंद्राकर ने बताया कि रमन के गोठ में अपने गांव और अपनी होटल का नाम सुनकर उन्हें गर्व महसूस हो रहा है। उन्होनें बताया कि कैशलेस भुगतान जैसे सरल और छोटे से काम के लिए मुख्यमंत्री के द्वारा प्रोत्साहन मिलना किसी भी ग्रामवासी के लिए गौरव का विषय है। उन्होनें अपनी होटल में कैशलेस भुगतान प्राप्त करना शुरू किया है, अभी हर दिन 10 से 12 लोग पान मसाला खरीदने, चाय, समोसे, नास्ते के लिए उन्हें अपने मोबाईल फोनों से  भुगतान कर रहे है। वे बताते है कि डिजिटल भुगतान से चिल्लहर पैसों की दिक्कत खत्म हुई है। उन्होनें बताया कि गांव के अन्य लोगों को भी आज नहीं तो कल कैशलेस भुगतान का तरीका सीखना ही पड़ेगा। शहर से बाहर जाने पर नगदी रखकर जाने से लूटमारी के खतरे बचने, चिल्लहर की दिक्कतों का सामना करने जैसी सभी समस्याओं का एक सरल समाधान मोबाईल फोन से डिजिटल भुगतान ही है।
    मोबाईल रिपेयरिंग की दुकान चलाने वाले श्री दुष्यंत साहू और श्री एवन सिन्हा ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह द्वारा अपने रेडियों कार्यक्रम में भर्रेगांव और उनका नाम उल्लेखित करते हुए पूरे प्रदेश के लिए प्रेरणा दायक बताने को सम्मान की बात कहा। श्री दुष्यंत साहू ने कहा कि ऐसे प्रोत्साहन से कैशलेस अभियान निश्चित ही सफल होगा। श्री एवन सिन्हा ने मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के रमन के गोठ कार्यक्रम की भी प्रशंसा की और इस कार्यक्रम को छŸाीसगढ़ के युवाओं के लिए प्रेरणा दायक बताया। सीधे मुख्यमंत्री के मुख से अपने गांव और अपना नाम सुनकर भर्रेगांव निवासी खुश और रोमांचित है। सभी ग्रामवासी आने वाले दिनों में अपनी सारी लेनदारी-देनदारी कैशलेस मोड में ही करने की बात कर रहे हैं।     
    उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत के सभी पान ठेलों, चाय-समोसे की होटलों से लेकर किराना दुकानों, मेडिकल स्टोरों, टीवी-मोबाईल रिपेयरिंग की दुकानों से लेकर साज-श्रंृगार की दुकानों तक में कैशलेस भुगतान की सुविधा हो चुकी है। ग्राम पंचायत भर्रेगांव के निवासी अपनी जरूरत की लगभग सभी चीजे ग्राम पंचायत में स्थापित लगभग 35 दुकानों से ही खरीदते हैं। ग्राम पंचायत में  टीवी, फ्रीज, मोटर सुधारने, मोटर सायकिलों की रिपेयरिंग, फोटोग्राफी की भी दुकान है।
    ग्राम पंचायत में सामान्य सेवा केन्द्र के माध्यम से सबसे पहले ग्रामीणों के लिए बनाये जाने वाले आय, जाति प्रमाण-पत्रों सहित अन्य दस्तावेजों का शुल्क सीधे डिजिटल भुगतान के माध्यम से लिया जाना शुरू किया गया। सामान्य सेवा केन्द्र पर अन्य वस्तुओं की खरीदी के लिए भी डिजिटल भुगतान की जानकारी देकर ग्रामीणों को इसके लिए प्रोत्साहित किया गया।
    ग्राम पंचायत में छŸाीसगढ़ ग्रामीण बैंक की शाखा भी है। जिसमें लगभग सभी व्यस्कों का खाता है और उनके आधार नंबरों से लिंक हो गया है। ग्राम पंचायत में 222 बुजुर्गजनों को शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत पेंशन की राशि प्रतिमाह उनके बैंक खातों में ही प्राप्त हो रही है। महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी एक्ट के तहत काम करने वाले लगभग 1100 ग्रामीणों को भी उनके काम के लिए दिये जाने वाले मानदेय का भुगतान सीधे बैंकों के माध्यम से ही हो रहा है। ग्राम पंचायत में चल रहे विभिन्न निर्माण कार्यों में लगे सभी श्रमिकों को भी भुगतान सीधे उनके खातों में किया जा रहा हैं। पहले भुगतान के लिए बैंक से नगदी राशि प्राप्त करने में भारी असुविधा होती थी। परन्तु अब सीधे एक ही क्लिक में सभी श्रमिकों के खातों में उनकी मजदूरी का भुगतान हो जाता है।
    ग्राम पंचायत भर्रेगांव के सरपंच श्री दिलीप चन्द्राकर ने भर्रेगांव में चल रही कैशलेस लेनदेन को ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम में शामिल करने के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के प्रति धन्यवाद ज्ञापित किया। उन्होनें कहा कि भर्रेगांव का जिले का पहला कैशलेस ग्राम पंचायत बनना हम सभी के लिए गौरव की बात है। श्री चन्द्राकर ने केन्द्र शासन द्वारा प्रारंभ की गई कैशलेस पद्धति को दूरगामी परिणाम देने वाली एवं लोक हितैषी बताया। आज ग्राम पंचायत मुख्यालय भर्रेगांव में रमन के गोठ कार्यक्रम को सुनने के लिए पुख्ता इंतिजाम किये गये थे। ग्राम पंचायत भवन भर्रेगांव में आज पंच सर्वश्री मेघन पटेल, चमरा सिन्हा सहित ग्राम के गणमान्य नागरिक श्री फकीर राम चन्द्राकर, श्री घनश्याम निषाद, श्री नरेन्द्र चन्द्राकर, श्री महेन्द्र चन्द्राकर, श्री भरत चन्द्राकर सहित ग्राम पंचायत के सचिव श्री दीपक वैष्णव, रोजगार सहायक श्री नरेश सिन्हा, लोक सेवा केन्द्र के संचालक श्री लीलाधर कुंभकार सहित बड़ी संख्या में ग्रामीण उपस्थित थे।


क्रमांक 58/चंद्रेश ठाकुर

Date: 
08 Jan 2017