Homeराजनांदगांव : "रमन के गोठ" कार्यक्रम में 5वीं बार मुखातिब हुए मुख्यमंत्री

Secondary links

Search

राजनांदगांव : "रमन के गोठ" कार्यक्रम में 5वीं बार मुखातिब हुए मुख्यमंत्री

Printer-friendly versionSend to friend

    राजनांदगांव 10 जनवरी 2016

आकाशवाणी रायपुर के माध्यम से छत्तीसगढ़ की जनता से सीधे संवाद करने के उद्देश्य से माह के दूसरे रविवार में प्रसारित की जा रही रमन के गोठ कार्यक्रम में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह प्रदेश की जनता से आज 5वीं बार मुखातिब हुए। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने रमन के गोठ को सुनने के लिए प्रदेश की जनता की अपार स्नेह एवं उत्सुकता के लिए आभार माना। उन्होने इस कार्यक्रम के माध्यम से प्रदेश की जनता से निरंतर मिल रही उपयोगी सलाह के लिए प्रसन्नता व्यक्त किया है। आकाशवाणी रायपुर से आज 5वीं बार प्रसारित रमन के गोठ कार्यक्रम के सुनने हेतु नगर निगम राजनांदगांव के सभाकक्ष में व्यवस्था की गई थी। महापौर श्री मधुसुदन यादव, नगर निगम के सभापति श्री शिव वर्मा, पार्षदों एवं नगर के गणमान्य नागरिकों, शिक्षा व समाज के विभिन्न क्षेत्र के लोगों के अलावा अधिकारी-कर्मचारियों ने भी रमन के गोठ कार्यक्रम के धैर्य पूर्वक सुनकर सराहना व्यक्त की। आज प्रसारित कार्यक्रम के माध्यम से मुख्यमंत्री ने नये साल की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए प्रदेश की जनता की खुशहाली एवं तरक्की ने प्रदेश की जनता को आगामी 24 जनवरी को होने वाली छेर-छेरा, पुन्नी पर्व की बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होने इसके महत्व पर प्रकाश डालते हुए छत्तीसगढ़ में फसल कटाई के बाद अपने खुशियों को इजहार करने का महत्वपुर्ण पर्व बताया। मुख्यमंत्री 15 जनवरी को आने वाली मकर संक्राति के पर्व की महत्ता पर प्रकाश डालते हुए प्रदेश की जनता को गौरवशाली परंपरा को अक्षुण्ण बनाये रखने के लिए बधाई दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज से दो दिन बाद 12 जनवरी हमारे देश के महान संत भारतीय संस्कृति प्रतिनिधि एवं युवाओं के प्रेरणा स्त्रोत स्वामी विवेकानंद जी की जयंती है। उन्होने कहा कि इस अवसर पर राज्य सरकार द्वारा विशाल युवा उत्सव का आयोजन किया जा रहा है। मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वामी जी के बाल्य काल का समय छत्तीसगढ़ को व्यतीत हुआ है। उन्होने इस युवा उत्सव में पूरे प्रदेश से बड़ी संख्या में शामिल होगे। इस अवसर पर बासुरी वादन, हस्त शिल्प प्रदर्शनी, ललित कला पेंटिंग आदि विभिन्न सारे कलाओं  का प्रदर्शन किया जायेगा। इसके अलावा उन्होने कार्यक्रम में शामिल किये विभिन्न कार्यक्रमों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी।
    मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने आज अपने प्रसारण नये साल के प्रारंभ में 4 से 13 जनवरी तक प्रारंभ की गई आंगनबाड़ी गुणवत्ता अभियान कार्यक्रम के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। उन्होने कहा कि आंगनबाड़ी केन्द्र गर्भवती माताओं एवं छोटे बच्चों की देखभाल की प्रमुख संस्थान होता है। मुख्यमंत्री ने महिलाओं की ऊपर सम्पूर्ण परिवार की देखभाल करने की महति जिम्मेदारी होती है। राज्य सरकार द्वारा महिलाओं एवं बच्चों के कुपोषण मुक्ति के लिए निरंतर प्रयास किये जा रहे है। राज्य में कुपोषण की दर 52 प्रतिशत से घटकर 32 प्रतिशत तक हो गया है। इसी अवसर पर उन्होने कार्यक्रम के उद्देश्यों के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने अपने प्रशासन में प्रदेश की भीषण सुखे की स्थिति पर चिंता व्यक्ति किया है। मुख्यमंत्री ने इस विषम परिस्थितियों में से निपटने हेतु राज्य शासन द्वारा किये जा रहे प्रयासों की भी जानकारी दी। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा मनरेगा के कार्य को 50 दिन बढ़ाकर 200 दिन का रोजगार देने का निर्णय लिया गया है। प्रदेश के सभी ग्राम पंचायतों में रोजगार मूलक कार्य प्रारंभ कर दिये गये है। इस दौरान उन्होने सूखा प्रभावित क्षेत्रों में आरबीसी 6 (4) के तहत की जा रही मदद के संबंध में विस्तार से जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने बताया कि सूखा प्रभावित किसानों की बेटी की विवाह हेतु निर्धारित राशि 15 हजार को बढ़ाकर 30 हजार रूपए किये जाने की जानकारी दी। डॉ. सिंह ने कहा कि जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते है। उन्होने प्रदेश की जनता को ऐसे विषम परिस्थितयों में हिम्मत और धैर्य बनाए रखने की अपील की। इस अवसर पर उन्होने आगामी 16 फरवरी को प्रसारित होने वाली अगले कार्यक्रम पुन: मुखातिब होने की बात कही। इस अवसर पर संयुक्त संचालक स्वास्थ्य सेवाएं डॉ. आरएन नेताम, दिग्विजय महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. आरएन सिंह, नगर निगम के पार्षद श्री अतुल रायजादा, पार्षद श्री देवेश देवांगन, श्रीमती करूणा जितेन्द्र ठाकुर, प्रभारी कार्यपालन अभियंता श्री जोशी सहित अधिकारी-कर्मचारी जनप्रतिनिधि एवं आम नागरिक उपस्थित थे।

क्रमांक -  40/  चंद्रेश ठाकुर
 

Date: 
10 Jan 2016