Homeराजनांदगांव : ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम में 15वीं बार मुखातिब हुए मुख्यमंत्री : एक हजार एवं पांच सौ रूपए की नोटबंदी को बताया अर्थव्यवस्था को मजबूत करने वाला कदम

Secondary links

Search

राजनांदगांव : ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम में 15वीं बार मुखातिब हुए मुख्यमंत्री : एक हजार एवं पांच सौ रूपए की नोटबंदी को बताया अर्थव्यवस्था को मजबूत करने वाला कदम

Printer-friendly versionSend to friend

राजनांदगांव 13 नवम्बर 2016

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह प्रदेश की जनता से वार्तालाप शैली में सीधे संवाद करने के उद्देश्य से आकाशवाणी के माध्यम से प्रसारित ‘रमन के गोठ’ कार्यक्रम में प्रदेश की जनता से आज लगातार 15वीं बार मुखातिब हुए। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के 1000 एवं 500 रूपए के नोटों को प्रचलन से बाहर करने के निर्णय को अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करने वाला ऐतिहासिक कदम बताया। उन्होनें कहा कि नई व्यवस्था होने पर प्रारंभिक रूप से छोटी-मोटी समस्याएं आती है। जिनके निराकरण हेतु भी व्यापक इंतिजाम किये गये है। आज प्रसारित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने गुरूनानक जयंती, कार्तिक पूर्णिमा और पुन्नी मेला सहित सभी तीज त्यौहारों की भी शुभकामनाएं दी।
    आज प्रसारित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने प्रदेश के किसानों को राज्य सरकार द्वारा समर्थन मूल्य के अनुसार 15 नवम्बर 2016 से धान खरीदी के लिए की गई तैयारियों की भी जानकारी दी। उन्होनें खुशी जताई कि इस वर्ष समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए 14 लाख 54 हजार किसानों ने पंजीयन कराया है। किसानों की संख्या पिछले साल के मुकाबले डेढ़ लाख से भी अधिक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि दीवाली के बाद धान खरीदी का उत्सव शुरू हो रहा है। जिससे किसानों का इंतिजार खत्म हो रहा है। इस बार राज्य के इतिहास में सबसे यादा किसानों ने सहकारी समितियों में समर्थन मूल्य पर धान बेचने के लिए मन बनाया है। इसके लिए विधिवत पंजीयन भी करवा लिया है। आज प्रसारित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने 14 नवम्बर को देश के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू जयंती पर मनाये जाने वाले बाल दिवस का भी जिक्र किया। इस अवसर पर उन्होनें राज्य सरकार द्वारा बच्चों के शिक्षा और उनके भविष्य निर्माण के लिए किए जा रहे प्रयासों की भी जानकारी दी। उन्होनंे बच्चों के अधिकारों के संरक्षण के लिए राज्य में लागू कानूनों के संबंध में जानकारी दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के बच्चे ही कल के कर्णधार है। उनके भविष्य की बुनियाद को मजबूत करने और वर्तमान में उनके बचपन को बचाने की जिम्मेदारी संपूर्ण समाज की है। इस मौके पर उन्होनंे राज्य के प्रतिभावान बच्चों की विभिन्न उपलब्धियों का विशेष उल्लेख कर उनका उत्साह बढ़ाया। मुख्यमंत्री ने आज प्रसारित कार्यक्रम में राज्य के नन्हे खिलाडिय़ों की चर्चा कर उनके उपलब्धियों को सराहा।
    आज प्रसारित कार्यक्रम में उन्होनें राज्य निर्माण के सोलह वर्ष होने पर तत्कालीन प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी बाजपेयी को राज्य निर्माता के रूप में याद किया। उन्होनें राज्योत्सव के अवसर पर प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं गृहमंत्री श्री राजनाथ सिंह के आगमन की भी चर्चा की। इस दौरान उन्होनें पूरे देश में मनाए जा रहे पंडित दीनदयाल जन्म शताब्दी वर्ष का भी जिक्र किया। मुख्यमंत्री ने आज प्रसारित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा छŸाीसगढ़ राज्योत्सव में शुरू की गई सौर सुजला योजना के संबंध में भी जानकारी दी। उन्होनें कहा कि इस योजना के अंतर्गत दो साल में राज्य के 51 हजार किसानों को सौर ऊर्जा से चलने वाले सिंचाई पंप बहुत ही रियायती दरों पर दिये जायेंगे।  मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्योत्सव में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी एवं गृह मंत्री श्री राजनाथ सिंह के आगमन से हमारा उत्साह बढ़ा है। उन्होनें कहा कि छŸाीसगढ़ को और आगे बढ़ाना है। मुख्यमंत्री ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के जन्म शताब्दी के वर्ष संदर्भ में उनके एकात्म-मानववाद और अंत्योदय के सिद्धातांे का भी जिक्र किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि छŸाीसगढ़ में हमने अंत्योदय को हमने राज्य के तमाम नीतियों और योजनाओं का मूल मंत्र बताया है।
    नगर पालिका निगम के सभाकक्ष में आज महापौर श्री मधुसूदन यादव, नगर निगम के सभापति श्री शिव वर्मा, आयुक्त नगर निगम श्री अश्वनी देवांगन, पूर्व महापौर श्री अजीत जैन, एमआईसी मेम्बर श्री देवशरण सेन, श्री मुकेश ध्रुव, श्री सुनील साहू, श्री पारस वर्मा, गप्पू सोनकर सहित पार्षद श्री बलवंत साव, सुनीता साहू, करूणा राय के अलावा एल्डर मेन श्री संजय लडवन, श्री रमेश नारायणी सहित जनप्रतिनिधियों, अधिकारी-कर्मचारियों एवं आम नागरिकों ने ‘रमन की गोठ’ कार्यक्रम को सुनकर सराहना की।
क्रमांक 1620चंद्रेश ठाकुर

 

Date: 
13 Nov 2016