Homeरायपुर : रमन के गोठ की 18वीं कड़ी प्रसारित: ग्राम बरौदा के लोगोें ने बड़े ही उत्साह से सुना मुख्यमंत्री की मासिक रेडियो वार्ता शासन की विभिन्न योजनाओं से आमजन हो रहे लाभांवित

Secondary links

Search

रायपुर : रमन के गोठ की 18वीं कड़ी प्रसारित: ग्राम बरौदा के लोगोें ने बड़े ही उत्साह से सुना मुख्यमंत्री की मासिक रेडियो वार्ता शासन की विभिन्न योजनाओं से आमजन हो रहे लाभांवित

Printer-friendly versionSend to friend
 
    रायपुर, 12 फरवरी 2017
 
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ की 18वीं कड़ी का प्रसारण आज यहां पूर्वान्ह 10:45 से 11:05 बजे तक आकाशवाणी के सभी केन्द्रों, एफ.एम. और राज्य के निजी टेवीविजन चैनलों में हुआ। रायपुर जिले के धरसींवा विकासखण्ड के ग्राम बरौदा में ग्रामीणों ने शिव मंदिर चौक में बड़े ही उत्साह से मुख्यमंत्री की रेडियों वार्ता को सुना और उसे सराहा। 
     ग्रामीण श्री रामकुमार साहू, श्री केजू यादव, श्री भीखू वर्मा, श्री पप्पू शर्मा, श्री जुगरू साहू ने कहा कि शासन ने सार्वजनिक वितरण प्रणाली के तहत लोगों के लिए खाद्यान्न की व्यवस्था की है। इस खाद्यान्न सुरक्षा योजना से किसी को अब भूखा नही रहना पड़ता। मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना गरीब लड़कियों के लिए वरदान साबित हुआ है। इसी तरह मुख्यमंत्री बाल हृदय योजना और मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना ने लोगों को स्वास्थ्यगत समस्याओं से मुक्ति दिलाने में अहम भूमिका निभायी है। कॉलेज स्तर पर बालिकाओं को निःशुल्क शिक्षा उपलब्ध करायी जा रही है। शासन द्वारा बालिकाओं के शिक्षा और जीवन प्रारंभ करने के लिए विवाह योजना से गरीबों को सहारा मिला है। 
इसी तरह श्री मदन लाल वर्मा, श्री गणेश शर्मा, श्री रामजी साहू, श्री ईतवारी साहू, श्री रोशन हिरवानी ने कहा कि शासन द्वारा मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना के तहत युवाओं को प्रशिक्षण देकर स्वयं का रोजगार स्थापित करने में मदद कर रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सामाजिक समरसता को बनाये रखते हुए सभी समाज को समान महत्व दिया है। विभिन्न सामाजिक विकास के साथ राज्य के विकास को जोडना इस बात का परिचायक है। प्रदेश में तालाबों की संस्कृति को बचायें रखने की पहल काबिले तारिफ है। जलाशयों का गहरीकरण एवं सौदर्यीकरण एक निश्चित कार्ययोजना बनाकर करने की बात लोगों को उत्साहित करेगा। मुख्यमंत्री द्वारा परीक्षा के इस वातावरण में बच्चों को नकारात्मक सोच से दूर रहने की बात सम्बल प्रदान करेगा। बच्चे साल भर की तैयारी से बेहतर परिणाम ला सकते है। अल्प समय में चमत्कारिक परिणाम की आशा करना व्यर्थ है। यह सत्य है कि तनाव से समस्या दूर नही होती अपितु शांत मन से समस्या का हल निकाला जाये। बड़ी सफलता के लिए कोई छोटा रास्ता नही होता। वन क्षेत्रों में रहने वाले तेन्दूपत्ता संग्राहकों को अब 15 सौ की जगह अब 18 सौ रूपए प्रति मानक बोरा प्रदान किया जायेगा। दूरस्त अंचलों में चिकित्सकों की स्थापना भी की जायेगी। अभावों एवं कठिनाईयों में कार्य करने वाले चिकित्सकों के लिए मुख्यमंत्री मेडिकल फैलोशिप की शुरूवात होगी। इसी तरह आईआईटी और आईआईएम जैसे राष्ट्रीय संस्थानों से पढ़कर निकले युवाओं के नवीन विचारों को अमलीजामा पहनाने मुख्यमंत्री गुड गवर्नेश फैलोशिप स्थापित किया जायेगा। स्वतंत्रता सेनानियों की मानदेय राशि 25 हजार की गई है तथा लोकतंत्र की रक्षा करने वाले मीशा बंदियों की राशि में भी वृद्धि की जायेगी। इस कार्यक्रम के माध्यम से गरियाबंद जिले के ग्राम रसेला के महिला स्व-सहायता समूह द्वारा सीएफएल बल्ब के निर्माण की सराहना की गई। 
 
क्रमांकः 02-37/विष्णु
 
Date: 
12 Feb 2017