Homeसूरजपुर : भू जल संरक्षण हेतु वर्षा के जल का वाटरहार्वेस्टिंग संरचना आवश्यक - डॉ. सिंह

Secondary links

Search

सूरजपुर : भू जल संरक्षण हेतु वर्षा के जल का वाटरहार्वेस्टिंग संरचना आवश्यक - डॉ. सिंह

Printer-friendly versionSend to friend


आकाशवाणी से रमन के गोठ की आठवीं कड़ी को लोगों ने उत्साह पूर्वक सुना


सूरजपुर 10 अप्रैल 2016

प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियों वार्ता रमन के गोठ की आठवीं कड़ी को आज प्रातः 10.45 से 11 बजे तक सूरजपुर जिले में लोक शिक्षा केन्द्रों, आश्रम छात्रावासों, विकसखण्ड मुख्यालय, नगरीय निकाय, ग्राम पंचायतों एवं जिला मुख्यालय के जनपद पंचायत सूरजपुर के प्रागंण में आम नागरिक जनप्रतिनिधियों और अधिकारी, कर्मचारियों ने उत्साह पूर्वक सुना।
छत्तीसगढ में सच्ची आराधना की प्राचीन परम्परा है। आम लोगों के द्वारा रमन के गोठ कार्यक्रम के प्रति जागरूकता आई है। गांव में भारत की आत्मा बसती है, राज्य के डोंगरगढ में बमलेश्वरी माता, रतनपुर में मॉ महमाया, दंŸोवाड़ा का दंŸोश्वरी, चन्द्रपुर की चन्द्रहासनी, नारायणपुर की मौरी माता आदि जगहों पर मातृ शक्ति की स्थापना है, उक्त बातें मुख्य मंत्री डॉ रमन सिंह ने आज रविवार को आयोजित रमन के गोठ कार्यक्रम के दौरान कही, 14 अप्रैल को डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 125 वीं जयंती के रूप में मनाई जायेगी। उनके पावन अवसर पर मूलमंत्र शिक्षित बनो, संघर्ष करों और संगठित रहें। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आगे कहा कि संविधान निर्माता डॉ भीमराव अम्बेडकर की जयंती पर एवं 19 अप्रैल को महावीर जयंती मनाये जाने पर देश वासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि शासन द्वारा राष्ट्रीय पंचायत दिवस के उपलक्ष्य में 14 से 24 अप्रैल 2016 के मध्य ग्राम स्वाराज अभियान ग्राम उदय से भारत उदय अभियान प्रारंभ होने जा रहा है, जो 24 अप्रैल तक चलेगा। उन्होंने कहा कि त्रिस्तरीय पंचायत राज व्यवस्था को संवैधानिक दर्जा दिया गया है। 24 अप्रैल को राष्ट्रीय पंचायत दिवस के प्रधानमंत्री स्वयं दूरसंचार के माध्यम से देश की जनता से अपने विचार साझा करेंगे। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी रमन के गोठ में कहा कि प्रदेश में 1 अप्रैल से स्कूल प्रारंभ हो चुका है। उन्होने कहा कि पिछले साल स्कूल शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए शिक्षा गुणवत्ता अभियान प्रारंभ किया गया था। जिसके फलस्वरूप शिक्षा के गुणवत्ता में आशा के अनुरूप सुधार आया है। इसके तहत् सामाजिक अंकेक्षण का कार्य कराया जा रहा है। जिसमें शिक्षकों की स्कूल में उपस्थिति और पढ़ाई जाने वाली विषयों की गंभीरता को ध्यान में रखने के साथ बच्चों को पढ़ाई के लिये उत्साहित किया जा रहा है। माताएं भी बच्चों की पढ़ाई में ध्यान दें। नये शिक्षा सत्र से बच्चों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तक का वितरण किया जा रहा है। इसके पश्चात् आगामी माह से होने वाले छुट्टियों में घर के लिये उत्साहित करें और उनका आत्मविश्वास बढ़ाये।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियों वार्ता रमन के गोठ के संबंध में प्रतिक्रिया देते हुये साहित्यकार डॉ. मोहन साहू ने बताया कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की रेडियों वार्ता सराहनीय कहा है। डॉ. साहू बताते हैं कि पूरे परिवार के साथ महिने के दूसरे रविवार को मुख्यमंत्री रमन के गोठ को सुनते हैं और हमारे लिये प्रेरणादायक रहता है। ग्राम मानपुर निवासी प्रेमजीत देवांगन ने बताया है कि रमन सिंह की मासिक रेडियों वार्ता रमन के गोठ की प्रसंसा करते हुये सधन्यवाद दिया है। ग्राम जरही निवासी दीनदयाल ने बताया है कि मासिक रेडियों रमन के गोठ से पूरे प्रदेश में संवाद स्थापित करने का एक सशक्त माध्यम है। आज रमन के गोठ को ग्रामीणों ने भी सराहा है।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अपनी रमन के गोठ में चालू गर्मी के मौसम में स्वास्थ्य संबंधी सलाह दी। उन्होंने कहा कि गर्मी और तेज धूप के कारण लू लगना और डायरिया या उल्टी दस्त, टाइफाईड, पीलिया जैसी गंभीर बीमारियां होने का खतरा रहता है। गर्मी के दिनों में पानी की कमी से होने वाली बीमारियों को दूर करने के लिये अधिक से अधिक पानी और अन्य तरल पदार्थ का उपयोग करें तथा किसी प्रकार की स्वास्थ्य में गड़बड़ी होने पर निःशुल्क चिकित्सकीय सहायता 104 पर फोन करें। प्रकृति हमें अपनी आवश्यकता पूर्ति हेतु प्रर्याप्त संसाधन देती है, प्रकृति से हमें पीने के पानी के साथ अन्य आवश्यकता पूर्ति हेतु प्रर्याप्त मात्रा में भू जल उपलब्ध है। कुछ समय से भू जल का अत्यधिक दोहन करने के कारण अनेक स्थानों गांव, मजरा, टोला में पेयजल की महसूश की जा रही है। इसके लिये डॉ. रमन सिंह ने भू जल संरक्षण अभियान चलाने की बात कहीं। भू जल संरक्षण करने के साथ ही वर्षा के जल का वाटरहार्वेस्टिंग तकनीक के माध्यम से जल संरक्षण की बात कहीं। पंचायत भवन, स्कूल भवन और  अन्य शासकीय भवनों वाटरहार्वेस्टिंग का उपयोग करने के लिये संरचना बनाने की बात कहीं। इससे प्रत्येक गांव में रिचार्जिंग की व्यवस्था होगी। तो गांव का पानी गांव में ही रूकेगा। और हमें पानी की समस्या से निजात मिलेगी।


समाचार क्रमांक/47/2016




 

Date: 
10 Apr 2016