Homeसूरजपुर : मुख्यमंत्री की मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ : कार्यक्रम का श्रवण गोपालपुर के युवाओं ने किया

Secondary links

Search

सूरजपुर : मुख्यमंत्री की मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ : कार्यक्रम का श्रवण गोपालपुर के युवाओं ने किया

Printer-friendly versionSend to friend

सूरजपुर 12 मार्च 2017

प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियो वार्ता ‘‘रमन के गोठ‘‘ का 19 वीं कड़ी का प्रसारणआज  12 मार्च को प्रातः 10.45 से 11.05 बजे तक आकाशवाणी के सभी केन्द्रो से किया गया। इसी कडी में आग सूरजपुर जिले के नगरीय निकाय वार्ड 01 गोपालपुर के खेल मैदान में आज रमन के गोठ के आयेाजन केा खेल मैदान में उपस्थित युवाओं ने ध्यान से सुना। मुख्यमंत्री रमन सिंह ने बताया कि 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। छत्तीसगढ़ सरकार ने इस अवसर पर क्या संकल्प लिया है, जिसका लाभ महिला हमें सशक्तीकरण में मिलेगा। मैं नारी स्वरूप में विराजमान जननी, शक्ति, करूणा, दया, साहस को नमन करता हूं। अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर प्रदेश की दो महिलाओं को राष्ट्रीय स्तर पर पुरस्कार मिले हैं। छत्तीसगढ़ पुलिस में कार्यरत आरक्षक स्मिता तांडी को ‘राष्ट्रीय नारी शक्ति’ पुरस्कार, माननीय राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी के करकमलों से मिला है। दुर्ग जिले की एक ग्राम पंचायत चीचा (पाटन) सरपंच उत्तरा ठाकुर को माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के करकमलों से ‘स्वच्छ शक्ति’ पुरस्कार मिला है। उन्होने कहा कि मुझे यह कहते हुए खुशी होती है कि विगत 13 वर्षों में हमने महिलाओं को अधिकारों, सुविधाओं, योजनाओं के माध्यम से जो संसाधन दिए हैं, उसका उपयोग करते हुए छत्तीसगढ़ की नारी शक्ति, अब ‘महाशक्ति’ का रूप ले चुकी है।
             उन्होने कहा कि प्रदेश में ग्रामीण अंचलों में मात्र 29 प्रतिशत लोगों के पास मोबाइल है और आज भी प्रदेश का 36 प्रतिशत भू-भाग मोबाइल इंटरनेट या किसी प्रकार की कनेक्टिविटी से दूर है। मेरे लिए यह बहुत बड़ी बात थी। मैं सोचता था वे स्कूल, कॉलेज, सड़क, अस्पताल, बिजली के बारे में बोलेंगे। लेकिन उन्होंने मांगी मोबाइल में बात करने की सुविधा। ये विकास के साथ बदलती प्राथमिकता का प्रतीक है और तभी से इस दिशा में सोचने लगा था। ‘स्काई’ के अंतर्गत हमने यह निर्णय लिया है कि 39 लाख ग्रामीणों, शहरी क्षेत्रों के 3 लाख परिवारों और महाविद्यालय के 3 लाख विद्यार्थियों को ‘स्मार्ट फोन’ और ‘सिम’ दिए जाएंगे। योजना की लागत 800 करोड़ रूपए है, जिसमें से इस साल के लिए 2 सौ करोड़ रूपए का प्रावधान किया गया है। इसका लाभ उन गरीब परिवारों को मिलेगा, जिनके लिए ‘जैम’ जीवन का नया आधार बनने वाला है। जनधन खाते, आधार और मोबाइल फोन को मिलाकर ‘जैम’ बनता है। इससे डीबीटी का क्रियान्वयन सुनिश्चित होगा, जिसकी तैयारी के रूप में 100 प्रतिशत जन-धन खाते खोले गए हैं। 97 प्रतिशत आधार कार्ड बनाए गए हैं। 40 प्रतिशत मोबाइल उपलब्ध हैं, जिसे बढ़ाया जाना है। आप जानते हैं कि ग्रामीण अंचल में जहां विरल आबादी हो या मोबाइल की संख्या कम हो। वहां कोई कंपनी टॉवर नहीं लगाती। ‘स्काई’ योजना के तीन मुख्य काम होंगे-पहला स्मार्ट फोन वितरण, दूसरा टॉवर की स्थापना और तीसरा मोबाइल फोन के माध्यम से सूचनाओं का आदान-प्रदान तथा इसका उपयोग। इस योजना का सबसे बड़ा लाभ टॉवरों की स्थापना को प्रोत्साहित करने के रूप में होगा। इस तरह एक पहल हमने की है, जिससे विधिवत सारी नियम प्रक्रियाओं का पालन करते हुए ऑपरेटरों को प्रेरित किया जाएगा और 1500 टॉवर चुने हुए ऑपरेटरों द्वारा लगाए जाएंगे।
          डा0 रमन सिंह ने कहा कि मेरा मानना है कि ‘डायल-112’ सेवा एक क्रांतिकारी कदम हैं, जो पुलिस व्यवस्था का कायाकल्प कर देगी। इसमें रिस्पांस टाइम के साथ पारदर्शिता, जिम्मेदारी, जवाबदेही, मदद, राहत सब कुछ मिलेगा, जो पुलिसिंग को आधुनिक दिशा देगा। दुर्घटनाएं बता कर नहीं होती। ऐसे संकट के समय जल्द से जल्द घायल या संकटग्रस्त व्यक्ति तक पहुंचना सबसे बड़ी प्राथमिकता है। इस दिशा में नई प्रौद्योगिकी, नेटवर्किंग और प्रबंधन का उपयोग करते हुए हमनें ‘डायल-112’ योजना शुरू कर रहे हैं। ताकि शहरी इलाकों में 10 मिनट के भीतर तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 30 मिनट के भीतर मदद पहुंचाई जा सके। यह नम्बर डायल करते ही राज्यस्तरीय कंट्रोल रूम में तुरंत एक्शन चालू हो जाएगा, जिसके लिए जीपीएस युक्त 240 वाहनों एवं 50 मोटर साइकिलों का नेटवर्क काम शुरू कर देगा। योजना के प्रथम चरण में 11 जिलों जिसमें रायपुर, दुर्ग, राजनांदगांव, कबीरधाम, महासमुन्द, बिलासपुर, रायगढ़, जांजगीर-चांपा, कोरबा, सरगुजा और जगदलपुर शहर को लिया जा रहा है, जिसके लिए इस वर्ष 50 करोड़ की राशि का प्रावधान किया गया है।
       डा0 रमन सिंह ने लोक सुराज के बारे में बताते हु कहा कि सबसे सरल शब्दों में कहंू तो ‘लोक सुराज अभियान’, मेरी और हमारी सरकार की पाठशाला है। पहले हमने ‘ग्राम सुराज अभियान’ चलाया था फिर ‘नगर सुराज अभियान’ चलाया अब दोनों को मिलाकर ‘लोक सुराज अभियान’ चला रहे हैं। मेरा विश्वास है कि जनता से सीधे जुड़ना, सीधे बात करना सुशासन का सबसे पहला कदम है और इसी से हमें सही दिशा मिलती है। मुझे यह कहते हुए खुशी होती है कि हमने गांवों के विकास के लिए जितनी भी योजनाएं बनाई हैं, हर योजना की प्रेरणा हमने ग्राम सुराज और लोक सुराज से ली है। हम जिस साल यह अभियान चलाते हैं, उसके अगले साल का बजट क्या होगा, इसकी तस्वीर हमारे दिमाग में बनना शुरू हो जाती है और इसी से बजट की प्राथमिकताएं तय होती हैं, योजनाएं बनती हैं, बजट आवंटन होता है, क्रियान्वयन होता है और लोगों को लाभ मिलता है। तभी मैं कहता हूं कि मैं बजट मंत्रालय में बैठकर नहीं खेत- खलिहान, पंचायत, चौपाल में बैठकर बनाता हूं। तभी गांव-गली व किसान लोग मेरे बजट के केन्द्र में होते हैं। ‘लोक सुराज अभियान’ में हम लोगों की शिकायतें, मांगें, आवश्यकताएं लिखित में लेते हैं। बकायदा साफ्टवेयर में दर्ज करते हैं, उसकी पूरी मॉनीटरिंग करते हैं। इस साल यह काम और भी बेहतर ढंग से किया जा रहा है। इस साल लोक सुराज अभियान तीन चरणों में हो रहा है। पहले चरण में 26 से 28 फरवरी तक आवेदन लिए गए।दूसरे चरण में पूरे मार्च भर इन आवेदनों का निराकरण किया जाएगा।और तीसरे चरण में 3 अप्रैल से लेकर 20 मई तक पूरा राज्य में ‘समाधान शिविर’ आयोजित किए जाएंगे। जहां अभी लिए गए आवेदनों पर की गई कार्यवाही को बताया भी जाएगा और नए आवेदन भी शिविर स्थल पर लिए जाएंगे। इस तरह हमने इस बार लोक सुराज अभियान को ‘समाधान पर्व’ बना दिया है, ताकि समाधान की मानसिकता सरकार के हर स्तर पर बने, जनप्रतिनिधि और जनता भी समाधान की प्रक्रिया में शामिल हों और एक सकारात्मक वातावरण बने। हमने स्पष्ट किया है कि जहां आवंटन उपलब्ध हो, वहां तत्काल समाधान किया जाए। इसके साथ ही जो समस्याएं निचले स्तर पर नहीं सुलझती, उन्हें वरिष्ठ कार्यालयों तक भेजने की भी व्यवस्था है, ताकि समाधान का अंतिम लक्ष्य पूरा हो। हमने इन आवेदनों, मांगों और आदि के लिए जो साफ्टवेयर विकसित किया है, उससे क्षेत्रवार, आवश्यकतावार सूची भी बन जाएगी और कहां, किस तरह की जरूरत है भविष्य में क्या कदम उठाए जाने हैं, यह भी पता चल जाएगा। रमन सिंह कहा कि पत्र, सोशल मीडिया- फेसबुक, ट्विटर के साथ से भी बड़ी संख्या में मिल रही हैं। इसके लिए आप सबको बहुत-बहुत धन्यवाद।

प्रतिक्रिया
आज रमन के गोठ के श्रवण करके ग्राम गोपालपुर में उपस्थित ब्रजेश ठाकुर ने कहा कि रमन ंिसंह के गोठ कार्यक्रम के जरिये हमें राज्य शासन से होने वाले नई-नई योजनाअेां की जानकारी मिलती है उसने कहा कि इस बार की लोक सुराज तीन चरणों में हो रहा है व लोक सुराज अभियान के दौरान जनप्रतिनिधि मैदानी स्तर पर कार्य करके हमें योजनओं का लाभ दिला रहे हैं। इसके लिए मुख्यमंत्री डा0 रमन सिंह का धन्यवाद दिया।


समाचार क्रमांक /1437/2017

 

Date: 
12 Mar 2017