Homeसूरजपुर : ’’रमन के गोठ’’ लोक शिक्षा केन्द्रो आश्रम छात्रावास मे सुना गया

Secondary links

Search

सूरजपुर : ’’रमन के गोठ’’ लोक शिक्षा केन्द्रो आश्रम छात्रावास मे सुना गया

Printer-friendly versionSend to friend

सूरजपुर13 मार्च 2016

रमन के गोठ का सातवा प्रसारण आज सूरजपुर जिले मे लोक शिक्षा केन्द्रो, आश्रम छात्रावासों ग्राम पंचायतों जनपद पंचायतों एवं जिला मुख्यालय मे भी उत्साह पूर्वक लोगो ने सुना।

रमन के गोठ कार्यक्रम के 7वीं कड़ी को जिले के साहित्यकार डॉ. मोहन लाल साहू ने ग्रामीण जनो एवं स्कूल बच्चों के साथ सुना साहित्यकार डॉ. मोहन साहू ने रमन के गोठ कार्यक्रम को जनता के लिये सबसे लोक प्रिय बताते हुयेे कहा की मुख्यमंत्री जी जनता द्वारा लिखे गए पत्रो का सीधे संवाद कर समस्याओं का समाधान करने से जनता को अच्छा प्रतिसाद मिल रहा है। ’’रमन के गोठ’’ के सामूहिक श्रवण ग्राम मानपुर की महिला श्रीमती जानकी एवं श्री देवनारायण रजवाड़े ने कहा कि मुख्यमंत्री तीज तिहार कर बधाई ला हम के देहत हैं अउर हमन के दुख-सुख कर भी धियान देथे । इस अवसर पर सुरेश कुमार  ध्रुव, गोपालपुर ने कहा कि मुख्यमंत्री जी छत्तीसगढ के विकास के लिए नई नई योजना बनातें हैं और हमारे रीति-रिवाज और जीवन से जुडी हुए विषयों का चर्चा करतंे है। जन शिक्षण संस्थान के अधिकारी श्री एम सिद्धिकी ने कहा कि मुख्यमंत्री जी ने  22 मार्च को मनाये जाने वाली विष्व जल दिवस की महता पर प्रकाष डालते हुए पानी बचाने के लिए पेड बचाने की आवष्यकता पर जोर दिया । इसी तरह श्री नीरंजन विष्वास , सुश्री राजलता धुव्रे, नवीन मिश्र और श्रीमती हिरामनी ने भी ’’रमन के गोठ’’ की सराहना की  तथा उसे समाज के लिए प्रेरणा दायक बताया ।

मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने 22 मार्च को होलिका दहन कर 23 मार्च को होली का त्योहार की बधाई देते हुए कहा कि 22 तारीख को ही विष्व जल दिवस मनाया जाना है। उन्होंने कहा कि पानी बचाने के लिए पडों को भी बचाना आवष्यक है। उन्होंने 25 मार्च को मनाये जाने वाले ’’गुड फ्राईडे’’ और 27 मार्च को मनाये जाने वाले ’’ईस्टर’’ के लिए शुभकामनाएं दी मुख्यमंत्री 8 मार्च को मनाये गये अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस का जिक्र करते हुए समाज में महिलाओं के प्रति सम्मान जिम्मेदारी और प्रतिबद्धता को दोहराया ।महिला सषक्तीकरण के लिए छत्तीसगढ में अनेक प्रयास किए गए है इनमें पंचायतों में पंचायतों में महिलाओं को 50 प्रतिषत आरक्षण दिया गया है। उन्होंने कहा कि राषन दुकानों, मध्यान्ह भोजन, आंगनबाडी केन्द्रों का संचालन और गणवेश वितरण आदि में स्वसहायता समूह की महिलाओं की भागीदारी और उनकी ममता और जतन का लाभ मिल रहा है। उन्होंने ’’ नोनी सुरक्षा योजना की जानकारी देते हुए कहां कि दो बेटियों के जन्म पर 5-5 हजार रूपये 5 साल तक राज्य शासन की ओर से जमा किया जाता है, और 18 वर्ष की उम्र में 1 लाख रूपये मिलेंगा । बेटियों के लिए पहली से लेकर कॉलेज स्तर तक निःशुल्क षिक्षा की व्यवस्था है। सरकारी इंजीनियरिंग और पॉलीटेक्निक में भी निःशुल्क शिक्षा की व्यवस्था है। हाई स्कूल में पढने वाली बेटियों के लिए निः शुल्क सरस्वती साईकल योजना  है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब परिवार की बेटियो की विवाह के लिए मुख्यमंत्री कन्यादान योजना संचालित है।  जिसमें समान्य विवाह हेतु 15 हजार रूपये और विधवा विवाह हेतु 20 हजार रूपये दी जाती है। मुख्यमंत्री ने बताया है कि प्रधानमंत्री पिछले माह छत्तीसगढ के दौरे पर आये थे, तो यहा जन औषधि केन्द्र प्रारंभ किया गया था। आम जनता को गुणवत्ता युक्त जेनेरिक दवाइया उपलब्ध कराने के उद्देश्य से संस्थाओं को दुकान प्रारंभ करने के लिए 2 लाख रूपये और कार्यशील पुजी हेतु 5 हजार रूपये दिया जायेगा । उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा छत्तीसढ 100 जन औषधि केन्द्र का शुभांरभ किया गया है। उन्होंने कहा कि जन्म मुन्यु का पंजीयन कराना आवश्यक है। चूकि यह हर नागरिक के लिए महत्वपूर्ण दस्तावेज है, और शासन की योजना का लाभ लेते समय इसकी आवश्यकता पडती है। जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र ग्राम पंचायतों स्थानीय निकायों और सभी शासकीय अस्पतालों में बनाया जाता है।

मुख्यंमंत्री ने बताया कि नया शैक्षिणिक सत्र 1 अप्रैल 2016 से प्रारंभ होगा और सभी शालाओं मे 13 अप्रैल तक शाला प्रवेश उत्सव आयोजित किये जायें गे। उन्होंने अभिभावको एवं पालको से कहा कि वे स्कूल जाने योग्य 6 वर्ष तक के सभी बच्चों को स्कूल में प्रवेश दिलाएं तथा जो बच्चे पहले से स्कूल जा रहें है। उन्हें आगे भी बढाई कराते रहें। उन्होंने बताया कि पहली से दसवीं तक के विद्यार्थियों को निःशुल्क पुस्तकें वितरीत की जायेंगी ।  मुख्यमंत्री ने कहा कि परीक्षा में परीक्षा के परिणाम सही नही आने के कारण बढते आत्महत्या की घटनाओं को देखते हुए यह सुझाव दिया की वे यदि नम्बर कम आये या किसी विषय में पीछे रह जाये तो जीवन के सारे सफलता के द्वार बन्द नही होते उन्होंने विद्यार्थियों का उत्साह बढातें हुए कहा कि वे आत्मविश्वास के साथ आगे बढतें जायें असफलता हमें सफलता की नई मंजील की ओर जाने का आत्मविश्वास देती है। उन्होंने कहा कि यदि किसी को पेपर या नम्बर के संबंध मे कोई शिकायत हो तो वे दूरभाष क्रमांक 0771-2331001 से सीधे मुझसे बात कर सकतें है। उन्होंने कहा कि जीवन अनमोल है इसे समाप्त न करें और आगे बढे़ और दुनिया आपके साथ है।

मुख्यमंत्री ने बताया की वर्ष 2016-17 का बजट 70 हजार करोड रूपये ज्यादा का है। इसमें सबसे अधिक जोर शिक्षा पर दिया गया है, जिसके लिए 13 हजार करोड रूपये का बजट प्रावधान किया गया है। इसके साथ अकाल से जूझ रहें किसानों को के लिए  2 हजार करोड निःशुल्क धान बीज के लिए 150 करोड़ स्वच्छ भारत अभियान के लिए ग्रामीण क्षेत्रों हेतु 400 करोड और मैदानी क्षेत्रों हेतु 300 करोड का प्रावधान किया गया है। साथ ही स्वच्छता सें संबधित वस्तुओं को वैट से मुक्त किया गया है।

समाचार क्रमांक /1441/ 2016  

 

 

Date: 
13 Mar 2016