महिला उद्घोषक

-     श्रोता हो नमस्कार!

-      आकाशवाणी कर विशेष प्रसारणरमन के गोठमें हमन जम्मों श्रोता मन कर हार्दिक    स्वागत करथन, अभिनंदन करथन। आएजरमन के गोठकर चैबीसवाँ कड़ी हवे। आकाशवाणी कर स्टूडियो में माननीय मुख्यमंत्री डॉ. रमन जी पधाएर चुकिन हैं।

-     डॉक्टर साहेब नमस्कार, कार्यक्रम में राउर हार्दिक स्वागत हवे। रमन के गोठ कर सफलतापूर्वक दुई बछर पूरा होए पर रउरे के बधाई।

मुख्यमंत्री जी

-     जम्मो संगता, सियान, जवान, दाई-बहिन मन ला जय जोहार।

-     चैबीस कड़ी कर मतलब चैबीस महीना। आएज चैबीसवाँ कड़ी कर प्रसारण हवे, मने     कार्यक्रम ला दुई बछर पूरा होए गईस है। रउरे मन ढेरे लगन ले, ढेरे गंभीरता ले मोला       सुनेन, एकर बर रउरे जम्मों झन के तहेदिल ले आभार।

पुरूष उद्घोषक

-     मुख्यमंत्री जी, काएल 14 अगस्त के रउरे मुख्यमंत्री कर रूप में पाँच हजार दिन पूरा      करथी। सरलग तीन कार्यकाल बर जनादेश भेंटाना आउ जनता कर उम्मीद उपर खरा     उतरना कोई भी राजनेता बर रोंट उपलब्धि होएल।

-     ढेरे राजनेता मन ला तीन ले बगरा धाएर भी मुख्यमंत्री बने कर अवसर भेंटाइस, बाकि    सरलग तीन कार्यकाल पूरा करे कती आगु बढ़ना आउ सरलग 5 हजार दिन पूरा करना    ढेरे रोंट बात हवे, रउरे एला का रूप में लेथी।

मुख्यमंत्री जी

-     मुख्यमंत्री कर रूप में 5 हजार दिन पूरा करे ऊपर बधाई देहे बर बहुत-बहुत धन्यवाद।

-     सही पूछी तो अईसा काहीं सपना भी नई रहिस आउ अईसा कांहीं लक्ष्य नी रहिस।

-     एला मैं अपन सौभाग्य मानथों कि मोला प्रदेश कर जनता आउ हमर नेतृत्व हर अवसर       प्रदान करिस।

-     जनता कर सेवा करे कर जे सपना मन में रहिस, ओला पूरा करेकर अवसर प्रदान करे     बर मैं प्रदेश कर जनता अपन शीर्ष नेतृत्व आउ जम्मो कार्यकर्ता मनला दिल के गहराई ले धन्यवाद देहथों।

महिला उद्घोषक

-     माननीय मुख्यमंत्री जी, सन् 2003 में जब राउर हाथ में शासन कर बागडोर आईस तेघनी      कर परिस्थिति का रहिस आउ रउरे कोन तरह ले ओमें बदलाव लानेन ?

मुख्यमंत्री जी

-    एन.डी.. सरकार हर सन् 2000 में तीन गोट नावा राज्य कर गठन करत हमर पुरखा    मन कर सपना पूरा करिस। मैं धन्यवाद देना चाहथों घनी कर प्रधानमंत्री श्री अटल     बिहारी बाजपेयी जी कर जेहर छत्तीसगढ़ के निर्माण कर कल्पना ला साकार करिस आउ     उनकर एगोट सपना रहिस कि क्षेत्र हर विकसित होही।

-     आउ छत्तीसगढ़ कर निर्माण बर एगोट आदर्श राज्य बनाए बर सपना ला पूरा करे बर लगे हन, आउ मोला खुशी हवे कि आएज राज्य निर्माण कर यात्रा में हमन सफल होएन।

-     सन् 2003 में हमर हाथ खाली रहिस। विरासत में समस्या कर अम्बार मिले रहिस।

-     भयंकर बिजली कटौती, धान खरीदी कर कोई इंतजाम नहीं, सड़क खोजना मुश्किल      रहिस।

-     स्कूल-कॉलेज, अस्पताल, पंचायत, आंगनबाड़ी जम्मों जघा अव्यवस्था रहिस।

-      विकास बर नीति रहिस, नीयत। जनकल्याण, गरीब, मजदूर, किसान कर बेहतरी तो       जइसे कोई मुद्दा रहिस ही नहीं।

-     अइसा परिस्थिति में हमन काम शुरू करेन।

-     तीन आँकड़ा ले भी बहुत स्पष्ट होए जाही कि तब राज्य कर बजट मात्र 7 हजार करोड़    रहिस, आएज 80 हजार करोड़ होए गईस हवे।

-     जी.एस.डी.पी. 47 हजार करोड़ रहिस अब बाएढ़ के 250 हजार करोड़ रूपए होए गईस     हवे।

-     तीन आँकड़ा ले रउरे मन समइझ सकत ही कि 5 हजार दिन में राज्य में केतना बड़ा    बदलाव आईस हवे।

पुरूष उद्घोषक

-     मुख्यमंत्री जी सन् 2000 में तो एन.डी.. सरकार हर विकेन्द्रीकरण बर, मने सरकार ला जनता कर लिघे पहुँचाए बर मध्यप्रदेश ले अगले कइर के नावा राज्य छत्तीसगढ़ बनाए      देहे रहिस बाकि रउरे अपन सरकार ला जनता तक पहुँचाए बर 5 हजार दिन में का      करेन ?

 

 

मुख्यमंत्री जी      

-     अटल जी 3 गोट नावा राज्य ला जनम देहिन आउ जब छत्तीसगढ़ बनिस तब 16 जिला एमें रहिस।   

-     हमन जिला प्रशासन सेवा मन ला जनता कर लिघे ले जाए बर 11 नावा जिला कर       निर्माण करेन जेकर ले बाएढ़ के अब 27 जिला छत्तीसगढ़ में होए गईसे।

-     अब जिला उनकर लिघे आईसे। केवल जिला जिघे आईसे जिला प्रशासन यानी कलेक्टर, डिप्टी कलेक्टर, तहसीलदार जिला प्रशासन कर अंतर्गत आए वाला  उप जिला    स्तरीय अधिकारी मन ला सुविधा भेंटाइस है कि अपन जिला में अलग-अलग जघा   तक बार-बार दौरा कइर सके।

-     एही नियर प्रदेश कर तहसील मन कर संख्या 98 ले बाएढ़ के 150 होइस है। नगर पंचायत कर संख्या 49 ले 112 होए गईस है, नगर पालिक परिषद कर संख्या 28 ले    बाएढ़ के 43 होए गईस है आउ नगर निगम मनकर संख्या 10 ले बाएढ़ के 13 होए    गईस है।

-     एकर अलावा हमन विशेष आवश्यकता वाला क्षेत्र में समन्वित प्रशासनिक व्यवस्था कायम     करे हन, जेमे आगु ले प्रचालित व्यवस्था कर अलावा विशेष प्राधिकरण मन कर गठन भी     करल गईसे।

-     बस्तर आउ दक्षिण क्षेत्र विकास प्राधिकरण, सरगुजा आउ Ÿार क्षेत्र विकास प्राधिकरण,       अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण, छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण विकास प्राधिकरण कर गठन       कईर के आदिवासी, अनुसूचित जाति आउ आने पिछड़ा क्षेत्र में प्राथमिकता आउ तेजी ले विकास कर रस्ता बइन गईसे।

-     चारो प्राधिकरण मन कर बैठक एगोट मिनी केबिनेट कस होएल जेजग समस्या बताल जाएल तो तुरते उहाँ उपस्थित अधिकारी आउ जनप्रतिनिधि मिलके निर्णय लेथें, जेकर ले   तुरन्त राहत भेंटाए सके।

-     नियर हमन विकास कर क्षेत्रीय असंतुलन खतम करे, सबकर समस्या मन कर हल करे       आउ अलग-अलग क्षेत्र में उहाँ कर स्थानीय जरूरत कर आंकलन करे आउ तुरतेह निदान करे कर रणनीति अपनाए हन।

-     छोटे राज्य कर सौगात ला जन-जन तक पहुँचाए में हमन कोई कोर-कसर बाकी नई      राखे हन।

महिला उद्घोषक

-      डॉक्टर साहेब, 5 हजार दिन में प्रदेश कर शिक्षा बेवस्था में का बदलाव आईस है? अईसा   का हो गइसे जेहर आगु नई रहिस ?

 

मुख्यमंत्री जी

-     5 हजार दिन कर यात्रा में हमन शिक्षण संस्था मन कर संख्या में केवल वृद्धि करे हन   बल्कि वृद्धि असाधारण हवे।

-     प्राथमिक स्कूल कर संख्या 13 हजार ले बाएढ़ के 38 हजार होए गईस है। 

-     मिडिल स्कूल कर संख्या 5 हजार ले बाएढ़ के साढ़े 16 हजार होए गईस है।

-      हाई स्कूल कर संख्या 900 ले बाएढ़ के 2 हजार 600 होए गईस है।

-     हायर सेकेण्डरी स्कूल कर संख्या 600 ले बाएढ़ के 3 हजार 715 होए गईस है।

-      एगोट आउ महत्वपूर्ण परिवर्तन आईस है बल्कि ओकर असर बच्चा मन में दिखथे आउ   असर है ड्रॉप आउट रेट पर ड्रॉप आउट रेट 2003 के 11 प्रतिशत ले घइट के 1     प्रतिशत होए गईसे।

-     एही नियर उच्च शिक्षा कर क्षेत्र में भी क्रांति होईसे।

-     सन् 2003 में एकोगोट राष्ट्रीय स्तर कर संस्थान नई रहिस लोग पूछथे कि राज्य के     निर्माण कर लाभ का भेंटाएल, राज्य ला। मैं ओमन ला बताना चाहथों अगर राज्य नई     बने रहतिस, छत्तीसगढ़ ला आई.टी.आई. मिलतिस, छत्तीसगढ़ ला ट्रिपल आई.टी.   मिलतिस, एन.आई.टी.नई मिल पातिस, एम्स के स्थापना होए गईस है, आई.आई.एम. कर     स्थापना होए गईसे नियर अलग-अलग संस्थान जो बाढ़िन हैं, अपन आप में   छत्तीसगढ़ ला राष्ट्रीय स्तर में शिक्षा कर क्षेत्र में स्थापित करिन हैं।

-     सरकारी विश्वविद्यालय कर संख्या 3 ले बाएढ़ के 13 होए गइेसे।

-     शासकीय महाविद्यालय जे सिर्फ 116 रहिस आएज बाएढ़ के 224 होए गईसे।

-     मेडिकल कॉलेज 2 ले बाएढ़ के 10 होए गईस है।

-     इंजीनियरिंग कॉलेज सिरिफ 12 रहिस आएज 50 होए गइेसे।

-     कृषि महाविद्यालय सिरिफ चाएर गो महाविद्यालय ओघनी रहिस राउर मन ला अचंभा होही       एकर संख्या बाएढ़ के 21 होए गइेसे।

-     पॉलिटेक्निक 10 ले 51, आउ आई.टी.आई 61 ले बाएढ़ के 176 होए गईस।

-     अनुसूचित जाति, जनजाति छात्रावास आउ आश्रम शाला मनकर संख्या 1 हजार 837   रहिस बाएढ़ के 3 हजार 250 होए गईस।

-     हमन शिक्षण संस्था मन कर संगे पढ़ाई कर गुणवत्ता बर भी धियान देहे हन।

-     दूरस्थ अंचल में नक्सलवादी गतिविधि कर चलते जे बच्चा मन कर पढ़ाई में बाधा आत रहिस, ओमन बर आवासीय संस्था बनाल गईसे, जिहाँ पढ़ाई कर अलावा अईसा प्रशिक्षण       कर व्यवस्था भी करल गईस है जेहर प्रतियोगी परीक्षा में सफलता दिलात है।

-     यानी, बच्चा मन कर भविष्य संवारे बर दाई-दाउ अपन घर में जो बेवस्था करथें       सुविधा हमर सरकार हर भी देहिस है।

-     एही वजह हवे कि बस्तर ले लेके सरगुजा तक आउ आने ग्रामीण अंचल कर बच्चा बड़ा    पैमाना में सफल होथें आउ देश के प्रतिष्ठित कॉलेज में पढ़थें।

-     हमन अबगा लोहा, सीमेण्ट क्रंाक्रीट ले अधोसंरचना नई बनाए हन बल्कि अईसा शिक्षा कर अधोसंरचना बनाए हन जेहर शिक्षित आउ स्वावलंबी नावा पीढ़ी कर निर्माण करथे।

-     मैं सोचथों 5 हजार दिन में एहर सबले रोंट उपलब्धि हवे।

पुरूष उद्घोषक

-     माननीय मुख्यमंत्री जी सन् 2003 में प्रदेश में आम जनता ले लेके किसान भाई तक     बिजली कटौती ले परेशान रहत रहिन बाकि बिल्कुल भी बिजली कटौती नई होए। 5       हजार दिन में ये चमत्कार कईसे होईस ?

मुख्यमंत्री जी

-     हमन राज्य में विद्युत उत्पादन पारेषण आउ वितरण, जम्मो क्षेत्र में उदारता आउ उत्साह      कर नीति अपनाएन, जेकर चलते छत्तीसगढ़ कर धरती में विभिन्न संस्था मन कति ले     बिजली उत्पादन 4 हजार 732 मेगावॉट ले बाएढ़ के 22 हजार 764 मेगावॉट होए गईसे।

-     अति उच्चदाब उप केन्द्र कर संख्या 28 रहिस जेहर बाएढ़ के 96 होए गईसे।

-     ट्रांसमिशन लाईन कर लम्बाई 5 हजार 205 सर्किट किलोमीटर ले बाएढ़ के 11 हजार    522 किलोमीटर होए गईसे।

-     ट्रांसमिशन क्षमता अबगा हमर 1350 मेगावाट रहिस, आएज हमर ट्रांसमिशन क्षमता 6 हजार 350 मेगावाट होए गईसे।

-     हमन राज्य क्षेत्र कर अलावा सार्वजनिक आउ निजी क्षेत्र कर बिजली उत्पादक मन कर   भागीदारी भी बढ़ाए हन।

-     एकर ले एक कति जिहां राज्य कर उपयोग बर भरपूर बिजली भेंटाए लगिस, उहें हमन    दूसरा राज्य ला निर्यात करे कर स्थिति में आए गए हन।

-     उपभोक्ता मन कर संख्या 18 लाख ले बाएढ़ के 42 लाख होए गईस है।

-     प्रति व्यक्ति वार्षिक विद्युत खपत आएज 5000 दिन कर बाद 350 यूनिट ले बाएढ़ के 1724 यूनिट हवे, जे देश में सर्वोŸाम में ले एक हवे।

-     हमन किसान मन ला 7 हजार 500 यूनिट तक बिजली निःशुल्क देथन।

-     विद्युत पम्प कर संख्या अबगा 72 हजार रहिस, आएज बाएढ़ के ये 4 लाख होए गईसे।

-     जहाँ परम्परागत विद्युत पहुँचाए में कठिनाई होथे खेत में सौर सुजला योजना कर    तहत 51 हजार सोलर पम्प देहे कर लक्ष्य रखे हन, जेमे ले 12 हजार पम्प देहल जाए       चुकिसे।

-     हमन 100 प्रतिशत ग्रामीण विद्युतीकरण कर करीब हन आउ अगला साल सपना भी पूरा होही।

महिला उद्घोषक

-     मुख्यमंत्री जी, रउरे अधोसंरचना विकास कर बात कहेन। आखिर का कारण है कि 5      हजार दिन पहिले जे अधोसंरचना नई दिख पारत रहिस ओहर अब दिखे लगिसे ?

 

मुख्यमंत्री जी

-     हमर सोच आउ रणनीति ही अलग रहिस।

-     हमन तय कइर लेहे रहेन कि जे अभाव कर कारन छत्तीसगढ़ प्रदेश कर जनता के जीना दूभर हवे जे अभाव कर कारन विकास में बाधा आएल, जो अभाव लाखों लोग के प्रगति      में अड़ंगा बनेल, अभाव मनला तेजी से दूर कईसे करी।

-     एही वजह हवे, हमन राज्य में सुघ्घर सड़क कर जाल बिछाए कर फैसला करेन एकर      बर बगरा आर्थिक संसाधन जुटाए बर केन्द्र ले राज्य तक धरती आउ आसमान एक कईर    देहेन।

-     एही मेहनत कर परिणाम हवे, 5 हजार दिन में 60 हजार किलोमीटर सड़क 1200 बड़ा    मध्यम पुल आउ 23 हजार ले बगरा पुलिया कर निर्माण करल गईस।

-     रेल लाईन कर अभाव हमर राज्य कर एगोट प्रमुख समस्या हवे।

-     सार्वजनिक उपक्रम ला जोड़ेन, ताकि ओला खनिज परिवहन में मदद मिले आउ दूरस्थ   अंचल कर जनता ला रेल यात्रा कर सुविधा जुटाए में अब मदद भेंटाए।

-     एही नियर के रणनीति ले पी.पी.पी. मॉडल बनिस आउ हमन राज्य कर मौजूदा रेलवे     नेटवर्क ला दुईगुना ले बगरा करे कती बइढ़ चलेन।

-     150 बछर कर इतिहास में प्रदेश सिरिफ 1187 किलोमीटर रेल लाईन रहिस बाकि हमन 1300 किलोमीटर अतिरिक्त रेल लाईन बिछाए कर मार्ग प्रशस्त कईर देहे हन।

-     हालुए हमर कई गोट जिला, रेल सुविधाहीन जिलाकर श्रेणी ले हइट जाहीं आउ रेल अनेक जिला कर विकास में भागीदारी बनहीं।

पुरूष उद्घोषक

-     मुख्यमंत्री जी, छत्तीसगढ़ ला रचनात्मक सोच आउ नवाचार कर चाढ़े एगोट अलग      पहचान मिलेसे। अईसा कोन सा प्रमुख काम मन हवें जेला रउरे 5 हजार दिन कर   उपलब्धि कर तौर में याद करना चाहब ?

 

 

मुख्यमंत्री जी

-     मैं दुई गोट प्रमुख विषय कती ध्यान आकर्षित करहूँ। नम्बर एक मेंमुख्यमंत्री खाद्य एवं       पोषण सुरक्षा कानूनआउ नम्बर दुई मेंपेडी प्रौक्योरमेन्ट सिस्टम दुनो योजना मन कर माध्यम ले हमन छत्तीसगढ़ में भूख ला हराए हन। लगभग 59 लाख परिवार मन ला    एक रूपिया किलो चाउर, आयोडीनयुक्त नमक, प्रोटीनयुक्त चना के लाभ मिलथे।

-     नम्बर तीनकौशल उन्नयन कानूनहवे जेला लागू करे में हमन देश कर पहिला राज्य में हन। हर बछर एक लाख युवा मन ला प्रशिक्षण, हुनर सिखाए कर काम सिरिफ      छत्तीसगढ़ करथे।  

-     किसान मन ला बिना ब्याज ऋण देहे वाला योजना ला लेई, एकर कारन ऋण प्रदान      कर राशि 150 करोड़ रूपिया ले बाएढ़ के 3 हजार करोड़ रूपिया होए गईसे।  

-     तेंदुपत्ताजेमे 5 हजार दिन में हमन तेंदुपत्ताकर मजदूरी कर दर 350 रूपिया ले बाएढ़   के 1800 रूपिया कईर देह हन आउ 2500 करोड़ रूपिया कर भुगतान भी करल गईसे।

-     स्वास्थ्य बीमा योजनाहमन पहिला राज्य हन, जेहर जम्मो, 58 लाख परिवार मन ला स्मार्ट कार्डकर माध्यम ले निःशुल्क इलाज कर सुविधा देहे हन। प्रति कार्ड 30 हजार    रूपिया कर इलाज योजना ले होत हवे।

-     महिला मन ला पंचायत चुनाव ले लेके सरकारी नौकरी तक में आरक्षण महिला समूह मन      ला मात्र 3 प्रतिशत ब्याज दर में ऋण आउ अनेक शासकीय योजना मन में भागीदारी कर माध्यम ले महिला सशक्तिकरण कर रोंट अभियान हमन चलाथन।

-     युवा मन ला निःशुल्क लेपटॉप, टेबलेट, एक प्रतिशत ब्याज दर में ऋण बेटी मनला      निःशुल्क शिक्षा देहे जईसा अनेक योजना मन हवें, जेकर ले हमर युवा प्रदेश कर विकास     योजना मन ले जुड़िन हैं।

-     हमन तो सरगुजा आउ बस्तर मंे मेडिकल कॉलेज भी नवाचार ले खोले हन आउ जम्मों जिला में लाईवलीहुड कॉलेज कर संचालन भी हमर नवाचार कर सफल मॉडल कर    प्रतीक हवे।

-     प्रधानमंत्री माननीय नरेन्द्र मोदी जी हर बितल 3 बछर में अनेक नवाचार करिन, जेमें       छत्तीसगढ़ कर उपलब्धि अग्रणी हवे। चाहे जन-धन कर खाता होए मुद्रा योजना      होए, स्वच्छता अभियान होए, उज्जवला योजना होए, मेक इन इण्डिया होए, स्मार्ट अप       इण्डिया होए, आवास योजना होए चाहे बीमा योजना।

-     माननीय मोदी जी कर विशेष पहल ले खनिज राजस्व कर लाभ स्थानीय विकास में देहे   कर प्रणाली बनाए में छत्तीसगढ़ अव्वल रहित है।

-     खनिज विकास निधि ले हम रेल, सड़क आउ विमानन सेवा मन कर विकास करथन।

-     काकर-काकर नाम लों, लिस्ट बहुत लम्बा है।

 

महिला उद्घोषक

-     महोदय जी, उपलब्धि मन ला परखे बर कुछ मापदण्ड बनाल गईसे। पिछला 5 हजार     दिन ला मापदण्ड ऊपर छत्तीसगढ़ कर स्थिति कर आंकलन कईसे करब ?

मुख्यमंत्री जी

-     कोई भी मापदण्ड ला देखी आउ खासतौर ले मैं 5 हजार दिन में छत्तीसगढ़ में   स्वास्थ्य सेवा में जो सुधार होईसे, जो नावा अस्पताल बनिसे, नावा डॉक्टर कर भर्ती होईसे आउ जिला स्तर में दन्तेवाड़ा, बीजापुर आउ सुकमा में चिकित्सक मन कर भर्ती     होईसे, विशेष कार्य योजना बनाए के ओकर असर होईसे। कुपोषण दूर होईसे आउ सबले    चमत्कारिक जो आँकड़ा है, मैं राउर मन ला बताहूँ।

-     शिशु मृत्यु दर जे 76 रहिस घएट के 41 होए गईसे।

-     महतारी मृत्यु दर 407 ले घएट के 221 होए गईसे।

-     जनम दर 26 ले घएट के 23.2 होए गईसे।

-     कुपोषण 52 प्रतिशत ले घएट के 30 प्रतिशत होए गईसे।

-     नियर हमन देखब संस्थागत प्रसव 7 ले बाएढ़ के 70 प्रतिशत होए चुकिसे।

-     ईज आॅफ डूइंग बिजनेस में देश में छत्तीसगढ़ चैथा स्थान में आहाए।

-     आएज काएल औद्योगिक निवेश ला भी विकास कर एगोट मापदण्ड मानल जाएल।

-     मोला कहत खुशी होथे कि बितल 4 बछर में देश में सर्वाधिक निवेश के प्रस्ताव छत्तीसगढ़ ला भेंटाइसे।

-     डिजिटल इण्डिया कर मापदण्ड में भी हमन देश में अग्रणी रहे हन। -प्रशासन बर अनेक आॅनलाईन सेवा संचालित करल गईसे।

-     भारतीय रिजर्व बैंक कर ताजा रिपोर्ट कर अनुसार छत्तीसगढ़ कर बेहतरी ऊपर राशि     खर्चा करे कर मामला में छत्तीसगढ़ देश में अव्वल नम्बर में आहाए।

-     देश कर बजट जी.एस.डी.पी. कर अनुपात ले सामाजिक क्षेत्र में व्यय 7-9 प्रतिशत       आहाए, जबकि छत्तीसगढ़ में ये प्रतिशत 15.8 प्रतिशत आहाए।

-     एही नियर विकास मूलक काम में हमर 22.7 प्रतिशत कर प्रावधान ही देश कर 12.8     प्रतिशत कर औसत ले लगभग दुई गुना हवे।

पुरूष उद्घोषक

-     श्रोता हो! राउर प्रतिक्रिया हमन ला राउर पत्र, शोसल मीडिया - फेसबुक, ट्विटर कर      संगे SMS ले भी ढेरे संख्या में भेंटाथे। एकर बर रउरे मन ला बहुत-बहुत धन्यवाद।

 -     आगु भी रउरे अपन मोबाइल कर मैसेज बॉक्स मेंRKG कर बाद स्पेस लेके अपन विचार लिखके 7668-500-500 नम्बर में भेजत रही आउ संदेश कर आखिर में अपन     नाम पता लिखना झिन भुलाब।

मुख्यमंत्री जी   

-     शोसल मीडिया आउ पत्र कर माध्यम ले बहुत सारा श्रोता मन अपना प्रतिक्रिया आउ     सुझाव देहिन है। रउरे मन ला धन्यवाद। आएज मैं रउरे मन ला एगोट विशेष सुझाव      देना चाहथों। एगोट विशेष अनुरोध भी राउर मन करना चाहथों।

-     ढेरे भाई बहिन मन ला अपन हक पाए बर चाहे अपन विवाद कर निराकरण बर     कोर्ट-कचहरी कर चक्कर लगाना पड़ेल, जेकर ले ढेरे समय, धन आउ मेहनत कर      बरबादी होएल।

-     एकर ले बांचे बर लोक अदालत कर बेवस्था करल गईसे। जेमे कोर्ट-फीस नई लागे आउ ही कोई खर्चा होएल। इहां तक कि जे मामला में कोर्ट फीस अदा कर देहल    गईसे कोर्ट फीस पक्षकार मन ला वापस करेकर भी प्रावधन है।

-     अदालत मन में लंबित प्रकरण कर अलावा जो मामला अभी न्यायालय नई पहुंचिसे अईसा       प्री.लिटिगेशन प्रकरण कर निराकरण भी लोक अदालत में होएल।

-     9 सितम्बर। तारीख याद रखिहा। मैं दूसर धाएर बोलथों 9 सितम्बर तारीख रउरे मन जरूर याद राखन। 9 सितम्बर के राष्ट्रीय लोक अदालत कर आयोजन करल जाथे, जेमे      उपस्थित होएके रउरे अपन समस्या कर हल कराए सकथी।   

-     तेकरे ले मैं चाहथों रउरे मन बगरा ले बगरा संख्या में अवसर कर लाभ उठाई आउ      विवाद आउ तनाव ले मुक्त होएके सुखद जीवन कती कदम बढ़ाई।

-     अगस्त धार्मिक आउ राष्ट्रीय पर्व कर महीना हवे।

-     मैं बाल गंगाधर तिलक कर पुण्यतिथि आउ रानी अवंतिबाई लोधी, मदर टेरेसा कर जनम       दिन कर अवसर में ओमन ला सादर नमन करथों। ओमनकर व्यक्तित्व आउ कृतित्व    हमन सब झन ला प्रेरणा देत रही।

-     महीना स्वतंत्रता दिवस जईसा महान राष्ट्रीय पर्व आउ रक्षाबंधन, हलपष्ठी, कृष्ण       जन्माष्ठमी, हरितालिका तीज पर्व, गणेश चतुर्थी, नवाखाई जईसा तिहार कर कारन हमन      सब झन ला आनंद ऊर्जा ले सराबोर राखही।

-     रउरे सब झन ला बधाई आउ शुभकामना।    

महिला उद्घोषक

-   और श्रोताअ¨, अब बारी हवेक्विजके।

-   पन्द्रहवां क्विज कर प्रश्न रहिस -

-   14 अगस्त 2017 को डॉ. रमन सिंह जी, मुख्यमंत्री कर रूप में केतना दिन पूरा करथें -

-   जेकर सही जवाब हवे - (B)5000 दिन

-   सबसे हालु जे पांच श्रोता मन सही जवाब भेजिन है उनकर नाम हवे-

1.  श्री चन्द्रा कुमार पैकरा, ग्राम परसोड़ी, जिला बिलासपुर 

2.  श्री पूनम दास, बुंदेली, जिला महासमुंद

3.  श्री कमलेश दास, बिलासपुर

4.  श्री चंदन सेन, पनडढा, जिला राजनांदगांव

5.  श्री पुरूषोत्तम सिन्हा, ग्राम जामगांव, जिला गरियाबंद

 

पुरूष उद्घोषक

-   आउ श्रोता हो अब बेरा हवे तेइसवां क्विज कर सवाल हवे -

-   छत्तीसगढ़ शासन द्वारा युवा मन बर कौशल प्रशिक्षण कर कानून कोन सन में बनाल गईस?

-   एकर सही जवाब                  (A)    2013

                              (B)    2012

    एमें से कोई एक सही हवे।

-   अपन जवाब देहे बर अपन मोबाइल कर मैसेज बॉक्स में  QA लिखी आउ स्पेस देके A चाहे  B जो भी रउरे के सही लागे, एक अक्षर लिखके 7668-500-500 नम्बर में भेज देई। संग में अपन नाम पता जरूर लिखी।

-   राउरे मनरमन के गोठसुनत रही आउ अपन प्रतिक्रिया ला अवगत करात रही। एकरे संग आएज कर अंक के हम यही समापन करथन। अगल अंक में 10 सितम्बर के होही रउरे मन से फेर मुलाकात। तब तक बर देई हमन ला विदा।

-   नमस्कार।