रायपुर : होनहार विद्यार्थियों को अब अपने ही प्रदेश में मिलेगी प्लास्टिक इंजीनियरिंग की शिक्षा : अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद ने बी.ई. संचालन की दी मंजूरी 


पी.ई.टी. के माध्यम से बी.ई. की 60 सीटों  मिलेगा दाखिला 

रायपुर, 31 मई  2017

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर स्थित केन्द्रीय प्लास्टिक इंजीनियरिंग और टेक्नॉलाजी संस्था (सिपेट) को चालू शैक्षणिक सत्र 2017-18 से बी.ई. के संचालन के लिए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) नई दिल्ली द्वारा मंजूरी दे दी गयी है। होनहार विद्यार्थियों को अब अपने ही प्रदेश में प्लास्टिक इंजीनियरिंग की उच्च शिक्षा मिलेगी । यह संस्थान स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय (सीएसवीटीयू) छत्तीसगढ़ से भी संबद्ध है। चालू शिक्षा सत्र से 60 सीटो के लिए विधार्थियों का चयन पीईटी के माध्यम होगा । यह संस्थान राजधानी रायपुर के नजदीक भनपुरी में स्थित है। 
संस्थान में प्लास्टिक इंजीनियरिंग और तकनीकी क्षेत्र में डिप्लोमा, पोस्ट डिप्लोमा, पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा, स्नातक और स्नातकोत्तर डिग्री पाठयक्रम संचालित किए जाते हैं । संस्थान में कुछ डिप्लोमा पाठयक्रम और कौशल उन्नयन के अल्प कालीन पाठ्यक्रम की शुरूआत की गयी है। संस्थान द्वारा छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित जिलों के लगभग 1100 से ज्यादा  युवाओं को मुख्यमंत्री कौशल विकास कार्यक्रम के तहत बहुलक इंजीनियरिंग के क्षेत्र में रोजगार और विकास के लिए नई दृष्टि प्रदान करने की शुरूआत की गयी है। प्रदेश के बेरोजगार युवाओं को शैक्षणिक और रोजगारमूलक कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने और प्लास्टिक उद्योगों के लिए तकनीकी सहायता सेवा प्रदान करने में यह संस्थान महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। 
उल्लेखनीय है कि केन्द्रीय प्लास्टिक इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी संस्थान (सिपेट)का शुभारंभ पिछले साल 22 अप्रैल को केन्द्रीय रसायन एवं उवर्रक मंत्री श्री अनंत कुमार और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने संयुक्त रूप से किया था । 

क्रमांक-969/पाराशर
 


Secondary Links