प्रदेश के सभी जिलों में गठित होगी क्रीड़ा विकास समिति : सभी खेल गतिविधियां होंगी ऑनलाइन : श्री बोरा ने की विभागीय काम-काज की समीक्षा

रायपुर, 24 जून 2017

खेल एवं युवा कल्याण विभाग के सचिव श्री सोनमणि बोरा ने आज यहां मंत्रालय (महानदी भवन) में खेल विभाग के जिला और राज्य स्तरीय अधिकारियों की बैठक में विभागीय काम-काज की समीक्षा की। बैठक में श्री बोरा ने कहा कि प्रदेश के सभी जिलों में जिला क्रीड़ा विकास समिति का गठन किया जाएगा। क्रीड़ा समिति के माध्यम से खेल अद्योसंरचनाओं में मेला-मड़ई आदि जैसे कार्यक्रमों के आयोजन पर न्यूनतम उपयोग शुल्क लिया जाएगा। इन अद्योसंरचानओं से प्राप्त राशि से मिनी स्टेडियम खेल मैदानों की रख-रखाव, मरम्मत और सुरक्षा करने पर खर्च किया जाएगा। श्री बोरा ने कहा कि खेल संचालनालय का वेबसाईड बन गया है। जिसमें सभी खेल गतिविधियों, खेल अद्योसंरचना आदि की जानकारी को अपलोड किया जाएगा। खेल गतिविधियों की सभी जानकारियां वेबसाइड में प्राप्त की जा सकती है। उन्होंने जिला अधिकारियों से कहा कि सभी काम पारदर्शिता पूर्वक करें और जानकारियों का आदान-प्रदान करने में ई-मेल, एसएमएस और वाट्सऐप का उपयोग किया जाना चाहिए। श्री बोरा ने कहा कि जिले के विभिन्न खेलों के प्रतिभावान खिलाड़ियों का चयन करें और उनकी सूची संचालनालय को उपलब्ध कराएं। श्री बोरा ने बताया कि नई खेल नीति बनाई जा रही है जिसमें उत्कृष्ट खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करने का प्रावधान किया जाएगा। उन्होंने संचालनालय के अधिकारियों से सात दिन के भीतर प्रोत्साहन नियम और युवा शक्ति योजना नियम बनाकर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। श्री बोरा ने प्रदेश में वित्तीय वर्ष 2016-17 में स्वीकृत मिनी स्टेडियम निर्माण कार्य की प्रगति की समीक्षा की। प्रत्येक मिनी स्टेडियम के लिए 45 लाख रूपए स्वीकृत किये गए है। श्री बोरा ने कहा कि जिन जिलों में मिनी स्टेडियम निर्माण कार्य शुरू नही हो पाये है उन जिलों में 15 दिन के भीतर काम शुरू नही होने पर संबंधित अधिकारी की वेतन रोकने की कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी खेल अद्योसंरचनाओं में दिव्यांगजनों के लिए रेम्प का निर्माण अनिवार्य रूप से किया जाए।
श्री बोरा ने लोक सुराज अभियान के दौरान मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के घोषनाओं पर तुरंत कार्रवाही करने के निर्देश दिए। बैठक में जानकारी दी गई कि लोक सुराज अभियान के दौरान कुल 557 आवेदन प्राप्त हुए थे जिनमें से 544 आवेदनों का निराकरण कर दिया गया है और शेष 13 आवेदन पर निराकरण की कार्रवाई की जा रही है। बैठक में खेल संचालक श्री अविनाश चम्पावत एवं प्रदेश के सभी जिला स्तर के अधिकारी उपस्थित थे।

क्रमांक-1313/सी.एल

 


Secondary Links