रायपुर : सहकारी समितियों द्वारा मार्कफेड से अब तक लगभग 5 लाख मीटरिक टन खाद का उठाव

रायपुर, 29 जुलाई 2017

राज्य सहकारी विपणन संघ (मार्कफेड) के अध्यक्ष श्री राधाकृष्ण गुप्ता ने आज यहां बताया कि चालू खरीफ मौसम के दौरान प्रदेश के किसानों के लिए 6 लाख 5 हजार मीटरिक टन रासायनिक खाद के भंडारण और वितरण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। इसमें से अब तक 6 लाख 5 हजार 620 मीटरिक टन खादों का भण्डारण हो चुका है और कप्राथमिक कृषि साख सहकारी समितियों द्वारा लगभग 4 लाख 84 हजार मीटरिक टन खादों का उठाव कर लिया गया है। श्री गुप्ता ने बताया कि वर्तमान में मार्कफेड के खाते में 77 हजार 990 मीटरिक खाद शेष है, जबकि विभिन्न कंपनियों के खाते में 43 हजार 617 मीटरिक खाद का स्टाक बचा हुआ है।
मार्कफेड अध्यक्ष ने बताया कि वर्ष 2016-17 में 70 लाख मीटरिक टन धान खरीदी के लक्ष्य के विरूद्ध 69 लाख 59 हजार मीटरिक टन धान की खरीदी की गई। मिलर्स द्वारा सीधे सहकारी समितियों से 41 लाख 25 हजार मीटरिक टन धान का उठाव किया गया और मार्कफेड के संग्रहण केन्द्रों में 28 लाख 32 हजार मीटरिक टन धान रखा गया है। सहकारी समितियों में एक लाख 14 हजार मीटरिक टन धान शेष था। उन्होंने बताया कि मार्कफेड द्वारा भारतीय खाद्य निगम में 24 लाख मीटरिक टन चावल रखा गया है और राज्य खाद्य नागरिक आपूर्ति निगम को 24 लाख टन मीटरिक टन चावल दिया गया। कस्टम मिलरों से अभी 10 हजार 800 मीटरिक टन चावल लेना शेष है।
श्री गुप्त ने बताया कि मार्कफेड की सम्पतियों के उपयोग के लिए एक नई कार्य योजना बनाई गई है, जिसके अनुसार राजधानी रायपुर स्थित नूतन किसान राइस मिल परिसर में एक सौ करोड़ रूपए की लागत से मार्कफेड द्वारा व्यवसायिक परिसर बनाने का प्रस्ताव है। इसके साथ ही मार्कफेड ने दस किसान राइस मिलों को आधुनिक बनाने और उनकी संग्रहण क्षमता बढ़ाने का भी निर्णय लिया है। दुर्ग स्थित पशु आहार संयंत्र में पीपी.पी माडल पर 40 लाख रूपए की लागत से पैलेट प्लांट निर्माण और 80 लाख रूपये की लागत से बायो फर्टिलाइजर एवं बायोपेस्टीसाइड प्रयोगशाला निर्माण की भी योजना बनाई गई है। कवर्धा में एक करोड़ 25 लाख रूपये की लागत से मार्कफेड द्वारा अपने जिला कार्यालय और व्यावसायिक परिसर निर्माण का भी प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है।  

क्रमांक -1824/चौधरी

 


Secondary Links