रायपुर : गणवेश सिलाई में स्व-सहायता समूहों की छह हजार महिलाओं को मिल रहा है रोजगार

रायपुर 09 अगस्त 2017

स्कूली बच्चों के गणवेश सिलाई से प्रदेश में 660 महिला स्व-सहायता समूहों की लगभग छह हजार महिलाओं को रोजगार मिल रहा है। ग्रामोद्योग विभाग से सम्बद्ध हाथकरघा प्रभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि प्रदेश के बुनकर सहकारी समितियों द्वारा गणेवश कपड़े तैयार की जाती है। इन कपड़ों से ग्रामीण क्षेत्रों में महिला स्व-सहायता समूहों द्वारा गणवेश तैयार कर शिक्षा विभाग में आपूर्ति की जा रही है। इस योजना से हाथकरघा बुनकरों के साथ-साथ समूह की महिलाओ को भी अतिरिक्त रोजगार मिल रहा है। अधिकारियों ने बताया कि चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए शिक्षा विभाग द्वारा 91 करोड़ 58 लाख रूपए की 45 लाख 79 हजार गणवेश सेट का मांग आदेश प्राप्त हुआ है, अब तक 17 लाख 64 हजार गणेवश सेट की आपूर्ति की जा चुकी है। उन्होंने बताया कि पिछले वित्तीय वर्ष 2016-17 में 93 करोड़ रूपए की 47 लाख गणेवश सेट की आपूर्ति शिक्षा विभाग में की गई तथा स्व-सहायता समूह की महिलाओं को 16 करोड़ 33 लाख रूपए सिलाई पारिश्रमिक का वितरण किया गया।

क्रमांक-1981/काशी


Secondary Links