रायपुर : छत्तीसगढ़ असंगठित कर्मकार राज्य सामाजिक सुरक्षा मंडल की नवीन योजनाओं के तहत लाभ मिलना शुरू

मुख्यमंत्री ई-रिक्शा सहायता योजना: दो सौ हितग्राहियों को मिली ई-रिक्शा

रायपुर 10 अगस्त 2017

श्रम विभाग की छत्तीसगढ़ असंगठित कर्मकार राज्य सामाजिक सुरक्षा मंडल द्वारा संचालित नवीन योजनाओं के तहत हितग्राहियों को लाभ मिलने लगा है। मुख्यमंत्री ई-रिक्शा सहायता योजना के रायपुर, दुर्ग और बिलासपुर जिले की दो सौ हितग्राहियों को मंडल द्वारा ई-रिक्शा प्रदान की गई है। योजना के तहत 18 से 50 वर्ष आयु समूह के पंजीकृत रिक्शा एवं ऑटो रिक्शा चालकों को ई-रिक्शा के लिए मंडल द्वारा 30 हजार रूपये अनुदान के रूप में आर्थिक सहायता दी जाती है। योजना के तहत हितग्राही को 10 हजार रूपये स्वयं का अंशदान देना होता है। हितग्राही को शेष राशि बैंक से ऋण के रूप में लेना होता है। योजना के तहत हितग्राही द्वारा बैंक से ऋण प्राप्ति का अभिलेख प्रस्तुत करने पर ही मंडल द्वारा 30 हजार रूपये  की अनुदान राशि दी जाती है। हितग्राही को ई-रिक्शा प्रदाय करने के छह से आठ माह में प्रथम बार बैटरी खराब होने पर बैटरी खरीदने के लिये 20 हजार रूपये  का अनुदान दिया जाता है।
मंडल द्वारा ई-ठेला सहायता योजना शुरू की गई है। इसके तहत 18 से 50 वर्ष आयु समूह के पंजीकृत हाथ ठेला चलाने वालों को ई-ठेला के लिये मंडल मडल द्वारा 30 हजार रूपये अनुदान दिया जाएगा। हितग्राही को 10 हजार रूपये स्वयं का अंशदान देना होगा। बकाया राशि हितग्राही को बैंक से ऋण लेना होगा। योजना के तहत हितग्राही द्वारा बैंक से ऋण प्राप्ति का अभिलेख प्रस्तुत करने पर ही मंडल का अंशदान राशि रूपये 30 हजार हितग्राही को देय होगा।
         स्मार्ट वेडिंग कार्ट (रेडिमेड किचन) सहायता योजना के तहत18 से 50 वर्ष आयु समूह के पंजीकृत चाय, चाट ठेला लगाने वाले अथवा ठेला लगाकर खाद्य सामग्री बेचने वाले को स्मार्ट वेडिंग कार्ट (रेडिमेड किचन) के लिए मंडल द्वारा 30 हजार रूपये अनुदान दिया जाएगा। हितग्राही को 10 हजार रूपये स्वयं का अंशदान देना होगा। बकाया राशि बैंक से ऋण के माध्यम से हितग्राही द्वारा देय होगा। योजना के हितग्राही द्वारा बैंक से ऋण प्राप्ति का अभिलेख प्रस्तुत करने पर ही मंडल का अंशदान राशि देने का प्रावधान है।
          असंगठित कर्मकार अंत्येष्ठि सहायता योजना के तहत प्रदेश के किसी भी जिले में पंजीकृत असंगठित कर्मकार के मृत्यु होने पर उसके उत्तराधिकारी को अंत्येष्ठि के लिये राशि पांच हजार रूपये सहयता देने का प्रावधान है। कचरा बीनने वाले हेतु सुरक्षा उपकरण सहायता योजना के तहत मंडल में पंजीकृत कचरा बीनने वाले को सुरक्षा उपकरण जैसे दस्ताना, जूता एवं रेनकोट प्रदान किया जाएगा। दीनदयाल श्रम अन्न सहायता योजना के तहत काम की तलाश में चावड़ी पर एकत्रित होने वाले मजदूरों का पंजीयन किया जाकर उन्हें गरम भोजन देने का  प्रावधान है।


                                                        क्रमांक-2007/सी.एल.


Secondary Links