रायपुर : एचआईवी संक्रमित 501 व्यक्तियों को मनरेगा से मिला रोजगार

       रायपुर, 08 सितम्बर 2017

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा शासन के विभिन्न विभागों से समन्वय कर विभागों द्वारा संचालित रोजगार मूलक योजनाओं से एच.आई.वी. संक्रमित व्यक्तियों को समाज में बराबर का सम्मान और रोजगार दिलाने के लिए विशेष पहल किए जा रहे है। वर्तमान में एच.आई.वी. संक्रमित 501 व्क्तियों को महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) से रोजगार मुहैया कराया गया है।
   स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने आज यहां बताया कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग  के समन्वय से एचआईवी संक्रमित बेरोजगार व्यक्तियों को अथवा अत्यंत जोखिम व्यवहार समूह से होकर ग्रामीण क्षेत्र में निवास करते हो को मनरेगा से रोजागार मुहैया कराई जा रही है। योजना में 100 दिन के रोजगार के रूप में आजीविका की सुरक्षा की जाती है। जिसमें निर्धारित मजदूरी का भुगतान दिया जाता है। ऐसे एचआईवी संक्रमित सभी व्यक्ति को मनरेगा योजना के अनुरूप जॉब कार्ड और रोजगार दिया जाता है। अधिकारियों ने बताया कि आम व्यक्तियों  की तरह ही संक्रमित व्यक्ति भी स्थानीय पंचायत कार्यालय में संपर्क कर लिखित में काम की मांग के लिए आवेदन कर सकता है। आवेदक को बैंक अकाउंट खुलवाना एवं अपना नाम स्थानीय पंचायत कार्यालय में दर्ज कराना होता है। विकासखंड अधिकारी जिसे जिला ग्रामीण विकास एजेंसी को नये कार्ड,  जॉब कार्ड के पंजीकरण हेतु अग्रेषित करता है। पंचायत आवेदक को आवेदन की प्रगति और उपलब्ध कार्य के बारे में सूचित करता है। लाभार्थी द्वारा दैनिक मजदूरी के रूप में प्राप्त धन को सीधे उसके खाते में डाला जाता है। योजना का लाभ लेने के लिए ग्राम पंचायत अध्यक्ष को मूल निवासी प्रमाण पत्र, वोटर आईडी, पासपोर्ट साईज फोटो तथा जन्म प्रमाण पत्र व एचआईवी संक्रमित प्रमाण पत्र जमा कराना होता है।


क्रमांक-2459/ओम


Secondary Links