अम्बिकापुर : रमन के गोठ का किया गया सामूहिक श्रवण :पं. दीनदयाल उपाध्याय का जन्मशताब्दी वर्ष के तहत 15 सितम्बर से 25 सितम्बर तक अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे

अम्बिकापुर 10 सितम्बर 2017

रमन के गोठ‘ कार्यक्रम की पच्चीसवीं कड़ी में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के व्यक्तित्व एवं कृतित्य से सबको अवगत कराने के लिए छŸाीसगढ़ में 15 सितम्बर से 25 सितम्बर तक विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, ताकि समाज में समरसता के साथ विकास का रास्ता आसान हो सके। उन्होंने कहा कि इस दौरान प्रदेष के सभी स्कूलों तथा कॉलेजों में पण्डित दीनदयाल उपाध्याय के जीवनी पर केन्द्रित लोक संगीत, नृत्य, नाटक, निबंध, चित्रकला, भाषण और वाद-विवाद प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी तथा विष्वविद्यालयों में एकात्म मानववाद पर सम्मेलन एवं सेमीनार आयोजित किए जाएंगे। इसके साथ ही प्रदेष के सभी 27 जिलों में पण्डित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी पर आधारित कथा का आयोजन होगा और ग्रामीण क्षेत्रों में खेल-कूद प्रतियोगिताएं, स्वास्थ्य षिविर तथा कृषि मेले जैसे अनेक कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि 25 सितम्बर को विषेष ग्राम सभा का आयोजन किया जाएगा जहां पण्डित उपाध्याय की जीवनी पढ़कर सुनाई जाएगी तथा पण्डित उपाध्याय के नाम से संचालित विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों की जानकारी आम जनता को दी जाएगी। पण्डित दीनदयाल उपाध्याय जन्म शताब्दी समारोह कार्यक्रम का समापन 11 फरवरी 2018 को पंचायती राज सम्मेलन के रूप में किया जाएगा।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि हमने अपने घोषण पत्र का पालन करते हुए वर्ष 2013-14 में खरीदे गए 78 लाख 35 हजार मिट्रिक टन धान पर 300 रूपए प्रति क्विंटल की दर से बोनस का भुगतान किया। तब किसानों के घर में समर्थन मूल्य के 10 हजार 362 करोड़ रूपए तथा बोनस के रूप में 2 हजार 374 करोड़ रूपए पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि वर्ष 2016 में 13 लाख से अधिक किसानों से 69 लाख 59 हजार मिट्रिक टन धान की खरीदी हुई थी। जिस पर प्रति क्विंटल 300 रूपए बोनस देने से करीब 2100 करोड़ रूपए का भुगतान किया जाएगा। दीपावली के पहले बोनस तिहार मनाकर हर जिले में बोनस का वितरण किया जाएगा। खरीफ 2017 की धान खरीदी का बोनस वर्ष 2018 में देने का निर्णय भी हमने कर लिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि धान छŸाीसगढ़ की जान है। किसान भाई-बहनों एवं उनके परिवार का जीवन धान की खेती, धान की अच्छी फसल और उसकी बिक्री से ही चलता है। किसानों के व्यक्तिगत तथा प्रदेष की अर्थव्यवस्था में धान का बड़ा योगदान है। इसलिए हमने धान खरीदी की व्यवस्था में सुधार को अपनी सबसे पहले प्राथमिकता बनाया था। उन्होंने कहा कि पहले यहां 5 लाख मिट्रिक टन धान की खरीदी होती थी और खरीदी प्रक्रिया बहुत जटिल तथा किसानों को भुगतान पाने में बहुत तकलीफ होती थी। उन्होंने बताया कि हमने कम्प्यूटर आधारित पारदर्षी व्यवस्था कर 1 हजार 333 प्राथमिक साख सहकारी समितियों के 1 हजार 989 केन्द्रों में धान खरीदी के इंतजाम किए, ताकि किसानों को अपना गांव छोड़कर दूर न जाना पड़े। वर्ष 2003-4 से लेकर वर्ष 2016-17 तक 6 करोड़ 91 लाख 59 हजार मिट्रिक टन धान की खरीदी करते हुए किसानों को करीब 75 हजार करोड़ रूपए का भुगतान किया गया।
मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि सन् 1942 में महात्मा गांधी के नेतृत्व में देष ने अंग्रेजों भारत छोड़ो का नारा आत्मसात किया था, जिसके 5 साल बाद सन् 1947 में भारत आजाद हो गया। श्री मोदी नेे संकल्प की महŸाा पर जोर दिया है और कहा है कि संकल्प ही सिद्वी का मार्ग है। उन्होंने भारत की आजादी के 75 वी वर्षगांठ के लिए एक नया भारत गढ़ने का संकल्प लिया है। मुख्यमंत्री ने बताया कि वर्ष 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए रोड मैप तैयार किया गया है। वर्तमान में कृषि तथा संबंधित बाजार मूल्य 44 हजार करोड़ रूपए है उसे 2022 तक बढ़ाकर 87 हजार करोड़ रूपए करना है। प्रधानमंत्री ने स्वच्छता को जन आंदोलन बना दिया है। छŸाीसगढ़ में 15 सितम्बर से 2 अक्टूबर के बीच बड़ा अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान अधिक से अधिक निकायों को ओडीएफ घोषित करने का प्रयास किया जाएगा, ताकि 2018 के लक्ष्य को साधा जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी का जन्म दिन 17 सितम्बर को है। उन्होंने पिछले तीन वर्षो की अथक और निरंतर सेवा से देष के जन-जन का दिल जीता है। गरीब और कमजोर तबकों के जीवन में नई आषा का संचार किया गया है। मुख्यमंत्री ने अपील की है कि सब मिलकर श्री मोदी के जन्म दिन 17 सितम्बर को सेवा दिवस के रूप में मनाएं। मुख्यमंत्री ने कहा है कि 8 सितम्बर अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर सरगुजा जिले  के ग्राम पंचायत करम्हा को राष्ट्रीय साक्षरता पुरस्कार प्रदान किया गया है, जिससे प्रदेष का गौरव बढ़ा है।       
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की मासिक रेडियोवार्ता रमन के गोठ का सामूहिक श्रवण आज यहां जिला पंचायत के सभाकक्ष में किया गया। इस अवसर पर जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री अनुराग पाण्डेय, सामाजिक कार्यकर्ता श्री आकाश गुप्ता, सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी तथा जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। जिला मुख्यालय के साथ ही जनपद पंचायत मुख्यालय और ग्राम पंचायतों में भी रमन के गोठ का सामूहिक श्रवण किया गया।  

   
समाचार क्रमांक 1703/2017  


Secondary Links