उत्तर बस्तर (कांकेर) : कौशल विकास प्रशिक्षण से मनिषा को मिला आईडिया कॉल सेंटर में नौकरी

उत्तर बस्तर (कांकेर) 13 सितंबर 2017

नक्सल प्रभावित कांकेर जिले के विकासखण्ड भानुप्रतापपुर अंचल में रोजगार की संभावनाओं की तलाश कर रही ग्राम मालापारा की निवासी कु. मनीषा मण्डावी अपनी पढ़ाई पूरी करने के बाद बेरोजगार थी। 12 वीं पास मनीषा के घर पर केवल उसके पिता फागेन्द्र मण्डावी ही कमाऊ सदस्य है और उनकी आमदनी पर माँ, चार बहने आश्रित थी।

    मनीषा को कोई रास्ता जब नजर नही आ रहा था। तभी सहेलियो और गांव के लोगो से मनीषा को मुख्यमंत्री कौशल विकास योजना की जानकारी मिली, तो मनीषा ने देर न करते हुए सालो से संजोए हुए सपने को साकार करने बी.पी.ओ. वाईस कॉल सेन्टर के कोर्स हेतु आवेदन भर डाला। आवेदन करने के एक पखवाड़े के भीतर ही मनीषा को कौशल विकास विभाग से एक फोन आया और उसे निःशुल्क प्रशिक्षण की जानकारी उपलब्ध कराई गई।
    मनीषा अपना सामान लेकर घरवालों और गांववालो से विदा होकर अंतागढ़ के आजीविका महाविद्यालय मंे अपना दाखिला कराने पहुंच गई। जहॉ उसे नई सहेलियां मिली और अपने रूचि के क्षेत्र के बेहतर विशेषज्ञ भी मिले। मनीषा ने कॉलेज में रोज नई-नई तकनीको का प्रशिक्षण प्राप्त किया और प्रशिक्षकों के परामर्श से मनीषा को अपने कार्य के प्रति दृढ़ता भी आई है।
    मनीषा ने बताया कि उसके पिताजी कृषक है। कॉलेज आ कर मनीषा के आत्मविश्वास में बेहद इजाफा हुआ और प्रशिक्षण के दौरान मनीषा को आधुनिक तकनीको को समझने का हुनर भी मिला। काम सीखने के साथ ही मनीषा को अपनी प्रतिभा को निखारने का अवसर भी मिला। उसे अब शहरी जीवनशैली और बातचीत के नए तौर तरीको के बारे में सीखने से मनीषा के रहन सहन एवं बोलचाल की शैली में भी सुधार आया है। प्रशिक्षण के बाद मनीषा के हुनर का इम्तिहान हुआ और उसे प्रमाण पत्र मिलने के बाद आजीविका कॉलेज अंतागढ़ के प्रयास से हिन्दुजा ग्लोबल सॉल्युशन रायपुर (आईडिया कॉल सेन्टर) में नौकरी मिली जहॉ उसे प्रतिमाह 09 हजार रूपये वेतन मिलता है। विगत तीन माह से कार्य करते हुए मनीष प्राप्त वेतन का कुछ हिस्सा अपने परिवार के खर्चो के लिए भेजती है और परिवार के जिम्मेदारियों में अपने पिता के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है।
    जानकारी देते हुए कौशल विकास विभाग ने मनीषा को इस सफलता के लिए बधाई दी तथा इनसे प्रेरणा लेकर अन्य युवाओं को भी इस प्रकार रोजगार से जुड़ने कौशल विकास से प्रशिक्षण लेने की आवश्यकता होगी।                         क्र/  /संत कुमार


Secondary Links