रायपुर : छत्तीसगढ़ में ईआरओ नेट पर मतदाता सूचियों के सुधार के लिए हो रहे कार्य सराहनीय : श्री संदीप सक्सेना : भारत निर्वाचन आयोग के उप निर्वाचन आयुक्त ने की समीक्षा

रायपुर, 29 सितम्बर 2017

भारत निर्वाचन आयोग के उप निर्वाचन आयुक्त श्री संदीप सक्सेना ने पिछले डेढ़ महीने पहले ही शुरू हुई ईआरओ (निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी) नेट पर छत्तीसगढ़ में मतदाता सूचियों के शुद्धिकरण के लिए किए जा रहे कार्यों की तारीफ की है। श्री सक्सेना आज यहां मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के सभाकक्ष में मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2018 कार्यक्रम की समीक्षा बैठक ली। बैठक में मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के अधिकारियों ने मतदाता सूची विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2018 के संबंध में जानकारी दी। श्री सक्सेना ने ईआरओ नेट पर हो रहे कार्यों का आंकलन करने के लिए रायपुर जिले के निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों एवं सहायक निर्वाचक रिजस्टीकरण अधिकारी से रूबरू चर्चा की। श्री सक्सेना ने कहा कि छत्तीसगढ़ में ईआरओ नेट पर निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी विश्वास के साथ बहुत अच्छा कार्य कर रहे हैं। अधिकारियों ने ईआरओ नेट पर काम करते हुए अच्छे अनुभव प्राप्त किए हैं। इन अनुभवों के आधार पर उन्होंने सुझाव भी दिए हैं। उनके सुझाव मतदाता सूचियों को साफ-सुथरी करने के लिए व्यवहारिक हैं।
बैठक में भारत निर्वाचन आयोग के आईसीटी के निदेशक डॉ. कुशल पाठक, संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री डी.डी. सिंह, कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी रायपुर श्री ओ.पी. चौधरी, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुश्री जयश्री जैन, रायपुर जिले के निर्वाचन से जुड़े अधिकारी और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।
उप चुनाव आयुक्त श्री सक्सेना ने कहा कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा राष्ट्रीय स्तर पर मतदाताओं के डाटाबेस संधारित करने के उद्देश्य से ईआरओ नेट शुरू की गई है। छत्तीसगढ़ में विगत 14 अगस्त को इसकी शुरूआत हुई है। सुव्यवस्थित चुनाव सम्पन्न कराने के लिए समय-समय पर मतदाता सूचियों के शुद्धिकरण अर्थात मतदाताओं के नाम जोड़ने और हटाने का काम किया जाता है, ताकि चुनाव के समय किसी प्रकार का आक्षेप न लगे। श्री सक्सेना ने कहा कि मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण में ईआरओ नेट काफी प्रभावशाली साबित होगी। जिला रजिस्ट्रीकरण अधिकारी ईआरओ नेट पर जितना ज्यादा काम करेंगे, उन्हें चुनाव से संबंधित दायित्वों को पूरा करने में सहूलियत होगी। ईआरओ नेट पर राष्ट्रीय परिदृष्य में डाटाबेस तैयार कर मतदाताओं के नाम शामिल किए जाएंगे। श्री सक्सेना ने देश के विभिन्न राज्यों के पिछले चुनावों के उदाहरण देते हुए कहा कि वर्तमान परिस्थितियों में निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों को सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग में दक्ष होना जरूरी है। यह स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए बहुत जरूरी भी है। उन्होंने कहा कि चुनाव कराने के लिए मतदाता सूची तैयार करते समय उससे पहले हुई जनगणना पर विशेष ध्यान रखना चाहिए। श्री सक्सेना ने कहा कि भविष्य में मतदाता सूचियों को सुधारने का काम ईआरओ नेट पर ही होगा। आम नागरिक एनव्हीएसपी पोर्टल के माध्यम से नाम जोड़ने, हटाने और संशोधन करने के कार्य ऑनलाइन करवा सकेंगे। इस संबंध में मतदाताओं से प्राप्त आवेदनों पर हो रही कार्रवाईयों की जानकारी उन्हें एसएमएस के माध्यम से दी जाएगी। श्री सक्सेना ने बताया कि जिन क्षेत्रों में इंटरनेट कनेक्टिविटी नहीं है, वहां मतदाता सूचियों को सुधारने का काम ऑफलाइन किया जाएगा।
जिला निर्वाचन अधिकारी एवं कलेक्टर रायपुर श्री ओ.पी.चौधरी ने रायपुर जिले में मतदाता सूचियों के शुद्धिकरण के लिए किए गए कार्यों के संबंध में विस्तार से बताया। बैठक में उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी सुश्री जैन ने स्पेशल समरी रिवीजन 2018 के समयबद्ध कार्यक्रम के बारे में कम्प्यूटर आधारित प्रस्तुतिकरण के माध्यम से जानकारी दी। उन्होंने मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 2018 के लिए किए गए कार्यों और उपलब्धियों के संबंध में भी बैठक में अवगत कराया।
उप चुनाव आयुक्त श्री सक्सेना ने रायपुर जिले के निर्वाचन से जुड़े अधिकारियों से मतदाता सूचियों के पुनरीक्षण से संबंधित विभिन्न प्रपत्रों को भरने और निराकरण के संबंध में विस्तार से चर्चा की। उन्होंने ईआरओ नेट में पुनरीक्षण कार्य में आ रही दिक्कतों की जानकारी भी ली और अधिकारियों को बहुत व्यवहारिक ढंग से ईआरओ नेट पर काम करने के लिए जरूरी सुझाव दिए। उन्होंने बैठक में उपस्थित निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों की नेट पर मतदाता सूचियों के सुधार कार्य से संबंधित विभिन्न शंकाओं का समाधान भी किया। श्री सक्सेना ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग करने से चुनाव कराने में आसानी होगी।

क्रमांक-2802/राजेश


Secondary Links