रायगढ़ : कन्या छात्रावास की छात्राओं ने सुनी 'रमन के गोठ'

रायगढ़, 8 अक्टूबर 2017

मुख्यमंत्री ने आकाशवाणी के रायपुर केन्द्र से आज प्रसारित अपनी मासिक रेडियो 'रमन के गोठ' में प्रदेशवासियों को संबोधित करते हुए विचार व्यक्त किए। रायगढ़ के पोस्ट मैट्रिक शासकीय कर्मचारी पुत्री छात्रावास में आज रमन के गोठ का आयोजन किया गया। मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि धान छत्तीसगढ़ के किसानों की आमदनी का मुख्य जरिया है और यह हमारे लिए सिर्र्फ फसल हीं नहीं बल्कि यह हमारी सांस्कृतिक विरासत से भी जुड़ा हुआ है। उन्होंने रेडियो वार्ता में किसानों की बेहतरी और खेती की उन्नति के लिए सरकार के प्रयासों पर विशेष रूप से केन्द्रित किया। डॉ. सिंह ने वर्ष 2022 तक किसानों की आमदनी को दोगुनी करने के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के लक्ष्य का उल्लेख करते हुए कहा कि राज्य सरकार के प्रयासों से छत्तीसगढ़ में खेती और उससे संबंधित व्यवसायों का टर्न ओवर 44 हजार करोड़ रुपए तक पहुंच गया है जिसे वर्ष 2022 तक बढ़ाकर हम 87 हजार करोड़ रुपए तक पहुंचाना चाहते है।
उन्होंने कहा कि 2003-04 से 2016-17 तक 14 वर्षो में राज्य सरकार ने किसानों से 6 करोड़ 91 लाख मीट्रिक टन से ज्यादा धान खरीदीकर सहकारी समितियों के जरिए उन्हें 75 हजार करोड़ रुपए का भुगतान किया है। वर्ष 2016-17 में सरकार ने उनसे 69 लाख मीट्रिक टन धान खरीदा जिस पर उन्हें 300 रुपए प्रति क्विंटल की दर से 2100 रुपए का बोनस दिया जा रहा है।
रमन के गोठ को सुनने के बाद हॉस्टल की अधीक्षिका श्रीमती ए.के.बेक ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि प्रत्येक माह के दूसरे रविवार में आयोजित होने वाले रमन के गोठ लोगों के लिए लाभकारी है। इससे उनको शासन की योजनाओं की जानकारी मिलती है। उन्होंने शासन के द्वारा किसानों के लिए उत्पादन बढ़ाने के लिए सार्थक प्रयास की सराहना की। हॉस्टल अधीक्षिक के.मिंज ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि खेती-किसानी के साथ फल, फूल को भी उद्योग के रूप में बढ़ावा दिया जा रहा है, यह अच्छी पहल है। एम.एस.सी.फाईनल की छात्रा यशोदा राठिया ने कहा कि बोनस से किसानों को काफी मदद मिलेगी। एमए फाईनल अर्थशास्त्र की रजनी नायक ने कहा कि कृषि के क्षेत्र में 2022 तक किसानों के आय में दोगुनी करने का लक्ष्य रखा गया है।
एमए भूगोल की सौदामिनी सिदार ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कृषि के क्षेत्र के साथ-साथ कुटीर उद्योग, लघु उद्योग, मछली पालन, मुर्गी पालन को बढ़ावा देने की सराहना की। एमएससी फाईनल की छात्रा डिलक लता ने कहा कि बोनस तिहार किसानों के लिए लाभकारी है। एमएससी फायनल की छात्रा वर्षा प्रधान ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि धान खरीदी के साथ भी मक्का खरीदी भी की जा रही है एवं तेन्दूपत्ता संग्राहकों को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है, यह बात अच्छी लगी। एमसीसी द्वितीय वर्ष की छात्रा निर्मला पटेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ को धान के कटोरे के नाम से जाना जाता है यह अपने राज्य के लिए सबसे बड़ी उपलब्धि है।


स.क्र./38/नूतन 

 


Secondary Links