बिलासपुर : बोनस मिलने से किसानों के चेहरे पर आई मुस्कान-डॉ. रमन सिंह : किसान भी मना सकेंगे अच्छे से दीपावली का त्यौहार-डॉ. सिंह

’’रमन के गोठ’’ की 26वीं कड़ी को सुनने बड़ी संख्या में पहुंचे लोग


बिलासपुर, 08 अक्टूबर 2017

’’रमन के गोठ’’ की गोठ की 26वीं कड़ी में आज मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा कि धान का बोनस मिलने से किसानों में उत्साह का माहौल है। प्रदेश के कई तहसीलों में सूखें की स्थिति निर्मित हुई है। ऐसे में धान का बोनस मिलने से किसानों को कुछ राहत मिली है। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में धान किसानों की आय का मुख्य जरिया है। डॉ. सिंह ने कहा कि राज्य बनते वक्त औसतन 4 लाख 63 हजार मीट्रिक टन धान की खरीदी होती थी। जो कि अब 60 से 70 लाख मीट्रिक टन औसतन खरीदी होती है।
          जिले के देवकीनदंन दीक्षित सभागृह में बड़ी संख्या में रमन के गोठ कार्यक्रम को सुनने पहुंचे। रमन के गोठ कार्यक्रम में डॉ. सिंह ने शासन द्वारा मनाये जा रहे बोनस तिहार कार्यक्रम की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि बोनस तिहार कार्यक्रम में किसान बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं और उनके खाते में बोनस तुरंत ट्रांसफर किया जा रहा है। उम्मीद है कि इस बोनस से किसानों को बड़ी राहत मिलेगी। डॉ. सिंह ने कहा कि बोनस मिलने से किसान अच्छे से दीपावली का त्यौहार मना सकेंगे और खरीदारी कर सकेंगे। उन्होंने कहा कि 2022 तक किसानों की आय दुगुना करके प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के सपने को जरूर पूरा करेंगे। उन्होंने प्रदेशवासियों से अपील की कि दीपावली में मिट्टी के बने दीये का ही प्रयोग करें। इसके साथ ही दीपावली में अपने आस-पास स्वच्छता का जरूर ध्यान दें। बिलासपुर निवासी श्री विजय शर्मा ने रमन के गोठ कार्यक्रम में प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बोनस बांटकर सरकार बहुत ही सराहनीय काम कर रही है। बोनस मिलने से किसानों को बड़ी राहत मिली है। चिंगराजपारा निवासी श्री भरत कुलपहाड़ी ने कहा कि सूखे की स्थिति से निपटने के लिए सरकार द्वारा बोनस देना बहुत ही सार्थक कदम है। इससे किसानों को आर्थिक मदद तो मिलेगी ही साथ में खरीदारी करने से बाजार में भी पैसा आयेगा। सरकण्डा निवासी विशाल तिवारी ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने बोनस देने का निर्णय लेके किसानों की मुश्किल बहुत कम कर दी है। उन्होंने कहा कि अब किसानों को सूखे से ज्यादा परेशान होने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि बोनस मिलने से बहुत राहत मिली है।


समाचार क्रमांक/7278/नितिन


Secondary Links