बलौदा बाजार-भाटापारा : दीवाली के दिन मिट्टी के दिये का उपयोग करें- डॉ रमन सिंह : रमन के गोठ कार्यक्रम के 26 वीं कड़ी का प्रसारण रवान में सुना गया

बलौदा बाजार-भाटापारा, 8 अक्टूबर 2017

रमन के गोठ कार्यक्रम के 26 वीं कड़ी का प्रसारण विकासखंड बलौदा बाजार के ग्राम पंचायत भवन रवान में प्रातः 10.45 बजे से 11.05 बजे तक जनपद सदस्य श्रीमती रामेश्वरी वर्मा, सरपंच रवान श्री घनश्याम वर्मा, पंच श्रीमती सरस्वती शर्मा, शत्रुहन दुबे, वरिष्ठ नागरिक श्री बिसौहा राम पटेल, श्री सेवकराम साहू, श्री सेखूराम देवांगन, श्री फिरता राम, श्री सुरेश वर्मा, जनपद पंचायत मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री किरण कुमार कौशिक, स्वच्छ भारत अभियान नोडल अधिकारी श्री मुरलीकांत यदु, मितानिन एवं ग्रामीणजनों की उपस्थिति में रमन के गोठ के कार्यक्रम को सुना। रमन के गोठ कार्यक्रम के दौरान सत्रहवें क्विज में पूछे गये प्रश्न का सही उत्तर देने वाले बलौदाबाजार-भाटापारा जिला के ग्राम लवन निवासी श्री सन्नी खुंटे को मुख्यमंत्री ने बधाई दी।
प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने आगामी त्यौहार करवा चौथ, दीपावली के अलावा अन्य त्यौहार के अवसर पर गाड़ा-गाड़ा बधाई दी। उन्होंने कहा कि किसानों की आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए बोनस तिहार मनाया जा रहा है। जिससे प्रदेश किसानों को प्रति क्विंटल तीन सौ रूपये की दर से दिया जा रहा है। छत्तीसगढ़ को धान का कटोरा के रूप में पहचाना जाता था। प्रदेश के किसानों को धान की खेती पर निर्भर न होकर दोहरी फसल के लिए प्रोत्साहित करते हुए गेहू, चना, दलहन, तिलहन की फसल लेने प्रेरित किया जा रहा है। मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कहा कि प्रदेश धान का कटोरा के अलावा उद्यानिकी के क्षेत्र में बढ़ावा देकर सब्जी के टोकरा के रूप में पहचाना जाएगा। उद्यानिकी फसलों को बढ़ावा देने के लिए कृषक उत्पादक संगठन बनाए जा रहे हैं। जिसमें 40 हजार से अधिक किसान पंजीकृत हो चुके हैं। आगामी वर्ष 2017-18 को बोनस 2018-19 में दिया जाएगा। किसानों द्वारा खरीदी गई धान की समर्थन मूल्य 80 रूपए बढ़ने के बाद और 300 रूपए बोनस मिलने के बाद किसानों की धान की कीमत 1890 रूपए यानी लगभग 1900 रूपए प्रति क्विंटल मिलेगी। प्रदेश के 96 तहसीलों को सूखाग्रस्त घोषित किया गया है, जिसे राहत देने के उपाय भी शुरू किए हैं।  इन परिस्थितियों में 2100 करोड़ रूपए का बोनस जब किसान भाइयों के घर जाएगा, तो न सिर्फ इस साल की दीवाली खुशी से मना पाएंगे बल्कि सूखे से लड़ने और आगे की कार्य योजना बनाने में सक्षम होंगे। किसानों के घर पैसा आने पर घर में मांगलिक कार्य होंगे, किसान अपने बेटे-बेटियों की शादी-ब्याह कर सकेंगे और जरूरी समान खरीदेंगे, आवश्यक निर्माण कार्य करेंगे। इस तरह किसान और गांव का विकास होगा। किसान भाई भावी योजना बनाने के साथ स्वच्छता और स्वास्थ्य के लिए भी रखे। मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों से दीवाली पर चीनी पटाखे, चीनी बिजली के सामान आदि का उपयोग नहीं करने, गांव में बने दीये तथा मिट्टी के सामानों का उपयोग करने, अपने चारों ओर साफ-सफाई रखने तथा किसी भी तरह का प्रदूषण न फैलने के लिये कहा। रमन के गोठ कार्यक्रम को श्रवण करते हुए ग्राम पंचायत रवान के श्री छेदूराम साहू ने बताया कि गत वर्ष 2015-16 में ढाई एकड़ खेती कर 29 क्विंटल धान बेचा था। इस वर्ष सूखा होने के कारण शासन द्वारा धान बोनस की 8775 रूपये खाते में जमा की गई है। बोनस मिल जाने से परिवार के साथ त्यौहार को खुशहाली से मनायेगा। इसी तरह श्री फिरता राम ने गत वर्ष एक एकड़ मेें आठ क्विंटल के एवज में दो हजार चार सौ रूपये, श्री बिसौहा राम वर्मा ने गत वर्ष ढाई एकड़ में अठाईस क्विंटल के एवज में छह हजार चार सौ रूपये धान बोनस मिलने से हर्ष प्रकट किया। उन्होंने कहा कि सूखे के कारण दीवाली त्यौहार मनाने किसान मायूसी थे किन्तु प्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने किसानों के हित में धान बोनस की घोषणा किए जाने से राहत मिली है। रमन के गोठ कार्यक्र का श्रवण नगर पंचायत सिमगा में जनप्रतिनिधियों ने, विकासखंड भाटापारा अन्तर्गत आदिवासी बालक छात्रावास सिंगारपुर में ईश्वर दास, गौरीशंकर चक्रधारी, महेन्द्र लहरे, सतखोजन आजाद, खेमराज पाल, पवन ध्रुव, प्रमोद ध्रुव, तीज ध्रुव, रघुवरी ध्रुव, मंगल ध्रुव, भुनेश्ववर ध्रुव, दीपेश ध्रुव, अमन ध्रुव, चोवारज कुमार, राहुल, यशवंत, विष्णु ध्रुव ने श्रवण किया। उन्होंने कहा कि रमन के गोठ कार्यक्रम मंे मुख्यमंत्री द्वारा महत्वपूर्ण जानकारी दी जाती है।
क्रमांक 30/2017


Secondary Links