महासमुंद : मुख्यमंत्री के एक क्लिक से 184 करोड़ रूपए किसानों के खातों में

इस वर्ष भी धान बेचने वाले किसानों को मिलेगा बोनस  

प्रदेश के तेन्दूपत्ता संग्रहकों को मिलेगा 240 करोड़ का बोनस

बोनस तिहार में जिले को मिली करीब चार अरब रूपए की सौगात 

महासमुंद, 12 अक्टूबर 2017

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज महासमुंद जिले के पिथौरा विकासखंड के ग्राम गड़बेड़ा में आयोजित बोनस तिहार और वृहद किसान मेला में जिले को करीब चार अरब रूपए की सौगात दी। उन्होंने यहां 212 करोड़ रुपए के 58 विकास कार्यो का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया और विभिन्न विभागों की विभिन्न योजनाओं में 2860 हितग्राहियों, महिला श्रमिकों, स्कूली बालिकाओं, निःशक्तजनों, स्वसहायता समूह की महिलाओं को 51 लाख 65 हजार रूपए की राशि का चेक या सामग्री वितरण किया। मुख्यमंत्री ने मंच पर लैपटॉप पर अपने एक क्लिक से पिछले खरीफ वर्ष में प्राथमिक सहकारी समितियों के माध्यम से धान बेचने वाले जिले के 92 हजार 767 किसानों को 184 करोड़ 12 लाख रूपए की राशि बोनस के रूप में उनके सीधे खाते प्रदाय की।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि महासमुंद जिले का बोनस तिहार आयोजन ऐतिहासिक है। बोनस वितरण में भले ही सबसे ज्यादा राशि जांजगीर-चांपा जिले के किसानों को मिली है लेकिन कार्यक्रम के आयोजन और उत्साह की दृष्टि से महासमुंद जिला राज्य में पहले स्थान पर है। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में किसानों को बोनस राशि देने का फैसला किया गया है। आगामी दो दिन के भीतर पूरे प्रदेश में 13 लाख से अधिक किसानों को 21 सौ करोड़ रूपए की राशि बोनस के रूप में सीधे उनके बैंक खातों में प्रदाय की जा रही हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि धान की कीमत कोई नहीं लगा सकता, क्यांेकि यह किसानों के एक-एक खून और पसीना सींचकर उपजाई जाती है। इसकी कीमत अनमोल है। उन्होंने किसानों को नमन किया और कहा कि बोनस राशि मिलने से किसानों में उमंग और उत्साह है और दिपावली के पहले बोनस राशि मिलने से दिवाली जैसा माहौल है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन में किसानों को अधिक से अधिक सहायता दिए जाने का प्रयास है। प्रदेश में कुछ स्थानों में सूखे की स्थिति है। ऐसे स्थानों के किसानों को हुए नुकसान का आकलन कर राजस्व पुस्तक परिपत्र की धारा 6-4 के तहत सूखा राहत सहायता राशि दी जाएगी। इसी तरह ऐसे किसान जो इस वर्ष धान बेच रहे है, उन्हें भी बोनस की राशि अगले वर्ष प्रदाय की जाएगी। इसके अलावा ऐसे किसान जिनका फसल खराब हुआ हैै उन्हें फसल बीमा की राशि भी प्रदाय की जाएगी। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि धान बोनस के बाद तेन्दूपत्ता बोनस के रूप में भी लगभग 240 करोड़ रूपए की राशि प्रदाय की जाएगी। 

मुख्यमंत्री ने बताया कि वर्ष 2003 में जहां राज्य में केवल 50 हजार सिंचाई पंप थे वह बढ़कर अब साढ़े चार लाख हो गए है। किसानों को ंिसचाई पंपों के लिए 7 हजार 500 यूनिट बिजली निःशुल्क प्रदाय की जा रही है। पहले जहां कृषि ऋण का 16 प्रतिशत का ब्याज लिया जाता था ,वह घटकर शून्य प्रतिशत हो गया है। सहकारी समितियों के माध्यम से किसानों को 3 हजार 500 करोड़ रूपए का लोन दिया गया है। वर्ष 2003 में जहां मात्र 6-7 लाख मैट्रिक टन धान खरीदा जाता था वह अब बढ़कर 70 लाख मैट्रिक टन हो गया है। जिसकी राशि 11 हजार करोड़ रूपए है।

मुख्यमंत्री ने लगाया भारत माता की जय का नारा

 मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज गड़बेड़ा बोनस तिहार के अवसर पर जब मंच से भारत माता की जय का नारा लगाया। तो उनके साथ-साथ पूरा मंत्र ने भी भारत माता की जय का नारा लगाते हुए जय घोष किया। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जिन्दाबाद का भी नारा लगाया। उन्होंने कहा कि ऐसा लगता हैं जैसे आज पूरा जिला गड़बेड़ा में सम्मिलित हो गया। उन्होंने कार्यक्रम में शामिल होकर मुख्यमंत्री का स्वागत करने वाले 52 समाजों के प्रमुखों के प्रति आभार व्यक्त किया। इसी तरह बोनस तिहार के लिए डेढ़ हजार युवाओं की बाईक रैली के लिए भी अपना आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि उन्हें जनता से ऐसे व्यापक उत्साह की कल्पना नहीं थी। उन्होंने महुंआ के झाड़ के नीचे ग्रामीणजनों, साईकिल की समीप खड़ी बेटियों और दूर-दराज से आई माताओ और बहनों को हाथ जोड़कर नमन किया। और कहा कि उन्हें गर्व है कि किसानों का आर्शीवाद और सहयोग मेरे साथ है।  

कार्यक्रम की अध्यक्षता गृह, जेल एवं लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग तथा जिले के प्रभारी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा मंत्री ने की। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ किसानों का प्रदेश है वर्ष 2003 के बाद प्रदेश का सभी क्षेत्रों में विकास हुआ है। उबड़-खाबड़ सड़कों की जगह चमचमाते सड़के बनी है, लोक अब तुकड़ंे या करनकी की जगह अच्छे चावल खाते है। सांसद श्री चंदूलाल साहू ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के नेतृत्व में महात्मा गांधी के रामराज और पं. दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानवतावाद के लिए अंत्योदय विकास का कार्य किया जा रहा है। विधायक श्री चुन्नी लाल साहू ने कहा कि बोनस राशि किसानों के मेहनत और खून पसीना का सम्मान है।

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में संसदीय सचिव एवं विधायक बसना क्षेत्र श्रीमती रूपकुमारी चौधरी, विधायक, सरायपाली विधानसभा क्षेत्र श्री रामलाल चौहान, विधायक महासमुंद विधानसभा क्षेत्र डॉ विमल चोपड़ा, अध्यक्ष, राज्य अक्षय ऊर्जा विकास एजेंसी (क्रेड़ा) श्री पुरंदर मिश्रा, अध्यक्ष, छत्तीसगढ़ माटी कला बोर्ड श्री चंद्रशेखर पाड़े, पूर्व राज्यमंत्री श्री पूनम चंद्राकर, अध्यक्ष, जनपद पंचायत पिथौरा श्रीमती किरण दीवान, सरपंच, ग्राम पंचायत गड़बेड़ा श्री प्रीतम कुमार साहू सहित बड़ी संख्या में जनप्रतिनिधिगण और सभी विकासखंडों के दूर-दराज के गंावों से आए किसान सम्मिलित थे।

क्रमांक 33/943/पंकज/एच


Secondary Links