अम्बिकापुर : शारीरिक एवं व्यक्तित्व विकास में खेलों की महती भूमिका - कलेक्टर

अन्तर्विश्वविद्यालयीन महिला व्हालीबाल प्रतियोगिता का आयोजन


                     अम्बिकापुर 12 अक्टूबर 2017

संभाग मुख्यालय अम्बिकापुर के गांधी स्टेडियम में आज अन्तर्विश्वविद्यालयीन महिला व्हालीवाल प्रतयोगिता का आयोजन प्रारंभ हुआ। कलेक्टर श्रीमती किरण कौशल ने प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि खेल आपसी सद्भाव का सशक्त माध्यम है। खेलों के आयोजन से दूरस्थ क्षेत्रों के खिलाड़ी आपस में मिलते हैं और उनके बीच मैत्री संबंध स्थापित होते हैं। खेलों से खिलाड़ियों के शारीरिक विकास के साथ ही साथ व्यक्तित्व विकास भी सुनिश्चित होता है। उन्होंने इस आयोजन को महत्वपूर्ण बताते हुए आश्वस्थ किया किया कि जिला प्रशासन द्वारा खेल प्रतियोगिता में समुचित सहयोग प्रदान किया जाए। सरगुजा विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. रोहिणी प्रसाद ने अपने सम्बोधन में खिलाड़ियों से खेल भावना के साथ प्रतियोगिता में भाग लेने का आहवान किया। उन्होंने कहा कि खिलाड़ियों को आपस में ईष्या-द्वैष रखे बिना खेल को पूरी तन्मयता के साथ खेलना चाहिए। कार्यक्रम की शुरूआत माँ सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन के साथ किया गया।    
प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय, रिवा बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय, बिलासपुर विश्वविद्यालय, बनारस विश्वविद्यालय, दुर्ग विश्वविद्यालय, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, वर्धवान विश्वविद्यालय, पं. रविशंकर विश्वविद्यालय, उत्कल विश्वविद्यालय, विनोवा भावे विश्वविद्यालय एवं सरगुजा विश्वविद्यालय के खिलाड़ियों ने मार्च पास्ट किया। सरगुजा विश्वविद्यालय की कैप्टन मेघा भगत द्वारा खिलाड़ियों को खेल भावना की शपथ दिलाई गई। यह प्रतियोगिता 12 अक्टूबर से 16 अक्टूबर 2017 तक संचालित होगी। प्रतियोगिता में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, पश्चिम बंगाल, उड़ीसा, त्रिपुरा, बिहार एवं झारखण्ड राज्य के 25 विश्वविद्यालयों के लगभग 300 खिलाड़ी भाग लेंगे। प्रतियोगिता का उद्घाटन मैच विनोवा भावे विश्वविद्यालय एवं पटना विश्वविद्यालय के बीच खेला गया। अतिथियों को सरगुजा विश्वविद्यालय प्रबंधन द्वारा स्मृति चिन्ह प्रदान किया गया। इस अवसर पर सरगुजा विश्वविद्यालय के रजिस्टार श्री विनोद एक्का, अपर संचालक श्री एस.के. त्रिपाठी, इंजीनियरिंग विश्वविद्यालय के प्राचार्य डॉ. आर.एन. खरे, राष्ट्रीय सेवा योजना के प्रभारी डॉ. अनिल सिन्हा, रेफरी श्री विनोद नायक सहित अन्य अधिकारी एवं कर्मचारी तथा बड़ी संख्या में खिलाड़ी उपस्थित थे।      
समाचार क्रमांक 1941/2017  


Secondary Links