जगदलपुर : असीम ऊर्जा के संचार का माध्यम है योग: कमिश्नर श्री वासनीकर

सात दिवसीय योग प्रशिक्षण कार्यशाला में पहुंचे कमिश्नर और कलेक्टर

जगदलपुर, 12 अक्टूबर 2017

छत्तीसगढ़ योग आयोग द्वारा संचालित सात दिवासीय योग प्रशिक्षण कार्यशाला में बुधवार को कमिश्नर श्री दिलीप वासनीकर और कलेक्टर श्री धनंजय देवांगन पहुंचे और योग के प्रति अपने अनुभवों को साझा किया। कमिश्नर श्री दिलीप वासनीकर ने योग आयोग द्वारा इस वर्ष 21 जून को आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर छत्तीसगढ़ में योग का गोल्डन रिकार्ड बनाने पर बधाई देते हुए कहा कि योग को गांव-गांव तक पहुंचाने के लिए योग प्रशिक्षकों के सात दिवसीय प्रशिक्षण कार्यशाला का प्रारंभ बस्तर संभाग से करना गौरव की बात है। उन्होंने कहा कि वे स्वयं प्रतिदिन तीन आसन करते हैं और क्षण भर के योग से तन और मन में ऊर्जा का असीम संचार होता है। उन्होंने कहा कि इसी ऊर्जा से वे देर रात तक कार्य करने के बावजूद थकान का अनुभव नहीं करते। उन्होंने योग प्रशिक्षकों को सौभाग्यशाला बताते हुए कहा कि वे लोगों को योग से जोड़ने और उन्हें निरोग बनाने का मार्ग बताएंगे। उन्होंने कहा कि इससे बस्तरवासियों की कार्यक्षमता बढ़ेगी, जिससे यहां विकास की गति बढ़ेगी।

                कलेक्टर श्री धनंजय देवांगन ने कहा कि व्यवस्तता बीच इस शुभ स्थान पर पहुंचकर ही उनकी थकान दूर हो गई। उन्होंने कहा कि योग शरीर के अंदर मौजूद सकारात्मक ऊर्जा को प्रदीप्त करने का माध्यम है तथा तन-मन को स्वस्थ रखने का उत्तम साधन है। उन्होंने कहा कि शारीरिक व्यायाम से जहां ऊर्जा क्षय होती है, वहीं योग से ऊर्जा का संचार होता है। उन्होंने कहा कि व्यायाम के पश्चात् थकान का अनुभव होता है, वहीं योग के पश्चात् ऊर्जा संचरण होता है। उन्होंने कहा कि योग को सभी को आत्मसात करना चाहिए तथा योग को प्रोत्साहित करने के लिए जिला प्रशासन द्वारा सम्पूर्ण सहयोग प्रदान किया जाएगा।

                जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री रितेश अग्रवाल ने योग को गांव-गांव तक पहुंचाने के साथ ही इसे दिनचर्या में शामिल करने की आवश्यकता बताई। उन्होंने कहा कि रोजमर्रा की भागदौड़ भरी जीवन शैली में आने वाले तनाव को दूर करने के लिए योग कारगर माध्यम है । उन्होंने बताया कि संघ लोक सेवा आयोग के परीक्षा की तैयारी के दौरान उन्होंने स्वयं योग को अपनाया, जिसका लाभ उन्हें मिला। सहायक कलेक्टर श्री राहुल देव ने योग को निरोग जीवन का मार्ग बताया। उन्होंने कहा कि ऐसे स्थान पर आकर ही सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है, जिससे अच्छा कार्य करने की प्रेरणा मिलती है। उन्होंने बताया कि मसूरी में प्रशिक्षण के दौरान उन्होंने योग को अपनाया तथा इससे होने वाले आंतरिक ऊर्जा का संचरण से होने वाले लाभ को देखते हुए प्रतिदिन निरंतर आधे घंटे योग करते हैं। इस अवसर पर योग आयोग के सदस्य श्री अजय सिंह द्वारा आयोग के कार्यों के संबंध में जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि सात दिवसीय योग प्रशिक्षण शिविर सह कार्यशाला का आयोजन 8 अक्टूबर से प्रारंभ हुआ है। इस कार्यशाला में योग को गांव-गांव तक प्रसार के लिए 186 शासकीय सदस्यों को योग का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसके साथ ही यहां 50 गैर शासकीय व्यक्तियों द्वारा भी योग प्रशिक्षण प्राप्त किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि योग आयोग द्वारा 13 अक्टूबर को जगदलपुर में स्वच्छता अभियान भी चलाया जाएगा। उन्होंने क्षेत्र में योग के प्रसार हेतु किए जा रहे प्रयासों के लिए प्रशासन की प्रशंसा भी की गई।

क्रमांक/1118/तंबोली


Secondary Links