जगदलपुर : धान कटाई करते किसानों ने सुना ‘रमन के गोठ‘

जगदलपुर, 12 नवम्बर 2017

प्रतिमाह के दूसरे रविवार को प्रसारित होने वाले कार्यक्रम ‘रमन के गोठ‘ की 27 वीं कड़ी को बस्तरवासियों ने उत्साहपूर्वक सुना। धान कटाई की व्यस्तता के बीच बकावंड विकासखण्ड के बारदा ग्राम के किसानों ने रेडियो में इस कार्यक्रम को सुना। किसान रावजी ने मुख्यमंत्री के संदेश की प्रशंसा करते हुए बताया कि शासन द्वारा किसानों की बेहतरी के लिए उठाए जा रहे कदमों से किसान खुश हैं। उन्होंने बताया कि इस वर्ष उन्हें भी धान बोनस के तौर पर 30 हजार रुपए मिले। रावजी ने बताया कि वह नया पक्का मकान भी बना रहा है और बोनस के तौर पर मिली राशि ने उसके घर बनाने के काम को आसान कर दिया। मुख्यमंत्री द्वारा मक्का खरीदी के लिए किए जा रहे शासन द्वारा की जा रही व्यवस्था के संबंध में बताए जाने पर धान कटाई में रावजी की मदद कर रहे युवा लुप्तेश्वर प्रभावित हुए और उसने आगामी वर्षों में धान की खेती के साथ मक्के की खेती का निर्णय भी लिया। लुप्तेश्वर ने बताया कि उसकी लगभग 5 एकड़ जमीन नाला किनारे है किन्तु विद्युत कनेक्शन के अभाव में वहां दो फसल लेने का निर्णय नहीं कर पा रहा था। लुप्तेश्वर ने बताया कि ग्राम के एक किसान सौर सुजला योजना के तहत सोलर पम्प से खेत की सिंचाई कर रहे हैं। लुप्तेश्वर ने कहा कि वे सौर ऊर्जा से खेती की सिंचाई देखकर प्रभावित हैं और वह भी इसी योजना के तहत पम्प लगाएंगे। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा मक्का का न्यूनतम समर्थन मूल्य 1365 रुपए से बढ़ाकर 1425 रुपए किया गया है, जो किसानों के लिए अच्छी सौगात है। धान कटाई कर रहे ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री द्वारा तेंदूपत्ता बोनस तिहार मनाए जाने की जानकारी देने पर प्रसन्नता व्यक्त की और बताया कि वे गर्मियों के दौरान तेंदूपत्ता संग्रहण का कार्य भी करते हैं। शासन द्वारा तेंदूपत्ता बोनस के तौर पर अच्छा उपहार दिया जा रहा है। इससे उनके जरुरी कार्यों में मदद मिलेगी। मुख्यमंत्री द्वारा बुजुर्गों की देख-रेख करने की अपील पर ग्रामीणों ने कहा कि बुजुर्गों की देखभाल निश्चित तौर पर युवाओं का कर्त्तव्य है।
क्रमांक/1196/तंबोली

 


Secondary Links