दुर्ग : मुख्यमंत्री और डॉक्टर नहीं होता तो सेना में होता : बाल मेले में मेधावी विद्यार्थियों के प्रश्नों के जवाब पर बोले मुख्ममंत्री डॉ. रमन सिंह

दुर्ग, 14 नवम्बर 2017

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह यदि मुख्यमंत्री या डॉक्टर नहीं होते तो वे सेना में होते और देश की सीमाओं की रक्षा कर रहे होते। आज दुर्ग जिले के रविशंकर स्टेडियम में आयोजित बाल मेले में मेधावी विद्यार्थियों से संवाद करते हुए मुख्यमंत्री ने स्वयं इस बात का खुलासा किया। इस संवाद के दौरान मुख्यमंत्री से छात्रा कुमारी शानतला ध्रुव ने प्रश्न किया कि आप मुख्यमंत्री या डॉक्टर नहीं होते तो क्या होते? प्रश्न के जवाब में हंसते हुए मुख्यमंत्री ने खुलासा किया कि बचपन से ही उनकी इच्छा सेना में जाने की थी। वर्दी उन्हें हमेशा आकर्षित करती थी इसलिए वे आर्मी में जाना चाहते थे। मुख्यमंत्री ने हंसते हुए कहा कि बाद में मैं डॉक्टर बना और राजनीति में आकर मेरा क्षेत्र बदल गया।
मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज बाल दिवस के अवसर पर दुर्ग के रविशंकर स्टेडियम में आयोजित बाल मेले में मेधावी स्कूली बच्चों से संवाद किया। और उनकी जिज्ञासाओं तथा प्रश्नों का उत्तर दिया। डॉक्टर रमन सिंह ने विद्यार्थियों को सलाह दी कि मेहनत ही सफलता का एक मात्र रास्ता है। इसीलिए छात्र जीवन में मेहनत कर अच्छी पढ़ाई करने वाला भविष्य निर्माता बनता है। देश-प्रदेश सहित पूरी मानवता को गौरवान्वित करता है। उन्होंने सभी विद्यार्थियों को मन लगाकर पढ़ने की सलाह दी।
क्रमांक-1106/नागेश


Secondary Links